बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव
Myjyotish

बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

हरियाणा: विदेशी सरजमीं पर पीएम मोदी के सामने राकेश टिकैत उठाना चाहते किसानों का मुद्दा, अमेरिकियों से की ये अपील

संयुक्त किसान मोर्चा के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि अमेरिका में भी पीएम नरेंद्र मोदी के सामने किसानों का मुद्दा उठाया जाएगा। इसके लिए किसानों की ओर से अमेरिका में बसे भारतीयों, वहां के नेताओं और अमेरिका की जनता से ट्वीट कर गुजारिश की गई है। अमेरिका के दौरे पर गए प्रधानमंत्री को यह बताया जाए कि किसानों की मांगें पूरी तरह जायज हैं। तीनों कृषि कानूनों को हर हाल में रद्द किया जाना चाहिए।
 
वह शुक्रवार को कुंडली बॉर्डर पर आयोजित सभा में बोल रहे थे। इस दौरान 27 सितंबर को होने वाले भारत बंद के लिए रूपरेखा तैयार की गई। उन्होंने कहा कि कुंडली बॉर्डर पर विशाल सभा की जा रही है, जिसमें देशभर से साधु-संत व बुद्धिजीवी लोग पहुंचे हैं। कई दिनों से बातचीत रुकी हुई थी, इसलिए यहां बातचीत के लिए सभी पहुंचे हैं। 

यह भी पढ़ें-
पंजाब के सीएम का अलग अंदाज: पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी पहुंचे चन्नी ने डाला भंगड़ा, जमकर थिरके

यह सभी सरकार की खामियों को उजागर करते हुए किसानों के संघर्ष के बारे में बातचीत कर रहे हैं। टिकैत ने कहा कि उन्होंने ट्वीट कर अमेरिका के लोगों से कहा है कि वह वहां गए पीएम मोदी के सामने किसानों का मुद्दा उठाते हुए नो फूड-नो फार्मर के बैनर लगाएं। उन्होंने वहां के राजनीतिज्ञों को भी कहा है कि वह किसानों की आवाज को बुलंद करें। कुंडली बॉर्डर पर रास्ता खोलने के मामले में उन्होंने साफ किया कि संयुक्त किसान मोर्चा जो निर्णय लेगा, वह सभी के लिए मान्य होगा। 
... और पढ़ें
राकेश टिकैत राकेश टिकैत

भिवानी: महज 23 साल की निशा का कमाल, पहले ही प्रयास में पास की यूपीएससी परीक्षा, 51वीं रैंक की हासिल

कौन कहता है कि आसमां में छेद नहीं होता, एक पत्थर तो तबीयत से उछालो यारो। इस कहावत को चरितार्थ किया है गांव बामला की बेटी निशा ग्रेवाल ने। निशा ने महज 23 साल की उम्र में पहली बार में ही यूपीएससी की परीक्षा पास किया है। न केवल पास किया है, बल्कि बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए 51वीं रैंक हासिल की है। 

मगर यहां तक का सफर आसान नहीं था। ग्रामीण परिवेश और सुविधाओं के अभाव के बावजूद दिन-रात इस सफलता के लिए मेहतन की है। निशा ने अपनी इस उपलब्धि का पूरा श्रेय अपने दादा रामफल को दिया है। वे सेवानिवृत्त गणित अध्यापक हैं। निशा को उनके दादा शुरू से ही एक कक्षा आगे की पढ़ाई कराते थे। 

यह भी पढ़ें-
पंजाब के सीएम का अलग अंदाज: पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी पहुंचे चन्नी ने डाला भंगड़ा, जमकर थिरके

आज से 19 साल पहले जब निशा स्कूल जाने के काबिल हुई थी, तब से ही उसकी ट्रेनिंग शुरू हो गई थी। निशा के दादा रामफल गणित के अध्यापक थे और उन्होंने बचपन से ही निशा को तैयार करना शुरू कर दिया था। गणित के अलावा अन्य विषयों की पढ़ाई भी वे निशा को कराते थे। इससे पढ़ाई दिनचर्या में शामिल हो गई। निशा के पिता सुरेंद्र ग्रेवाल बिजली विभाग में सहायक सब स्टेशन इंचार्ज हैं। उनकी तैनाती औद्योगिक क्षेत्र में है। माता प्रोमिला गृहिणी हैं। 
... और पढ़ें

मारा गया जितेंद्र गोगी: हरियाणा में उभरती गायिका को किया था गोलियों से छलनी, कई मामलों में था वांछित

करीब चार साल पहले 17 अक्तूबर 2017 को इसराना के गांव चमराड़ा में हरियाणवीं अभिनेत्री व गायिका हर्षिता दहिया की हत्या में कुख्यात गैंगेस्टर जितेंद्र उर्फ गोगी शामिल रहा है। शुक्रवार को दिल्ली के रोहिणी कोर्ट में दो बदमाशों ने गोली मारकर गोगी की हत्या कर दी। पानीपत पुलिस जितेंद्र उर्फ गोगी को प्रोडक्शन रिमांड पर लाने का प्रयास कर रही थी लेकिन कोरोना एवं सुरक्षा कारणों की वजह से सफल नहीं हो पाई।
 
पुलिस के मुताबिक, हर्षिता हत्याकांड के दो अन्य आरोपी कुलदीप उर्फ फज्जा और रोहित से पुलिस प्रोडक्शन रिमांड पर पूछताछ कर चुकी है। गायिका की हत्या में इस्तेमाल पिस्तौल और कार भी पानीपत पुलिस बरामद कर चुकी है। चार माह पहले दिल्ली में हुए गैंगवार में कुलदीप फज्जा की भी हत्या हो चुकी है। 

हर्षिता की हत्या उसके जीजा दिनेश कराला ने कराई थी। दिनेश कराला पानीपत पुलिस की पूछताछ में अपना गुनाह कबूल कर चुका है। कराला पर हर्षिता के साथ दुष्कर्म करने का मुकदमा भी चल रहा है। इस केस में हर्षिता की मां गवाह थी। दिनेश ने अपनी सास की हत्या हर्षिता की आंखों के सामने कर दी थी। इस केस में हर्षिता गवाह थी। इसलिए दिनेश ने गैंगस्टर गोगी से गांव चमराड़ा में हर्षिता की हत्या कराई थी।

यह भी पढ़ें - 
दौरा: केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण पहुंचीं चंडीगढ़, कहा-देश में तेजी से हो रहे हैं आर्थिक सुधार 



 
... और पढ़ें

हरियाणा की बड़ी खबरें: हिसार में युवक ने की आत्महत्या और भारतीय भैंसों की दो नई देसी नस्लें पंजीकृत

दो पेज का सुसाइड नोट लिखकर हिसार के एक युवक ने आत्महत्या कर ली। युवक चार बहनों का इकलौता भाई था। सुसाइड नोट में उसने एक अन्य युवक पर अपनी प्रेमिका से दुष्कर्म का आरोप लगाया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। पढ़ें अन्य खबरें...

मारा गया जितेंद्र गोगी: हरियाणा में उभरती गायिका को किया था गोलियों से छलनी, कई मामलों में था वांछित 

दिल्ली की रोहिणी कोर्ट में शुक्रवार को ताबड़तोड़ फायरिंग में मारा गया गैंगस्टर जितेंद्र गोगी एनसीआर और हरियाणा का जाना माना गैंगस्टर था। उस पर हत्या और लूट के कई मामले दर्ज थे। हरियाणा में गोगी पर गायिका एवं डांसर हर्षिता दहिया (23) की गोली मारकर हत्या करने का मामला दर्ज था।  
पढ़ें विस्तृत खबर...

हिसार: प्रेमिका से दुष्कर्म से आहत युवक फंदे पर झूला, दो पेज के सुसाइड नोट में बताया सच  

दो पेज का सुसाइड नोट लिखकर हिसार के एक युवक ने आत्महत्या कर ली। युवक चार बहनों का इकलौता भाई था। सुसाइड नोट में उसने एक अन्य युवक पर अपनी प्रेमिका से दुष्कर्म का आरोप लगाया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। पढ़ें विस्तृत खबर...

हरियाणा: सीएम मनोहर की केंद्र से अपील-एनसीआर के बजाय जिलों के मुताबिक लागू हों पर्यावरण नियम 

प्रदूषण नियंत्रण प्रावधानों को पूरे एनसीआर के बजाय जिलों के अनुसार लागू कराएं। यह अपील हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव से की है। मनोहर लाल गुरुवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से केंद्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्री भूपेंद्र यादव की अध्यक्षता में हुई एक उच्चस्तरीय बैठक से जुड़े थे।  पढ़ें विस्तृत खबर...

हरियाणा: भारतीय भैंसों की दो नई देसी नस्लें पंजीकृत,‘धारवाड़ी’ नस्ल का कर्नाटक व ‘मंदा’ का ओडिशा है उद्गम स्थल

भारत में पाई जाने वाली भैंसों की दो और देसी नस्लों का पंजीकरण किया गया है। इनमें ‘धारवाड़ी’ नस्ल का उद्गम स्थल कर्नाटक है और दूसरी ‘मंदा’ का ओडिशा। नेशनल ब्यूरो ऑफ एनिमल जेनेटिक रिसोर्स (एनबीएजीआर) करनाल के निदेशक डॉ. बीपी मिश्रा ने बताया कि नई पंजीकृत भैंसों की नस्लों को मिलाकर देश में अब कुल देसी नस्लों की संख्या 202 हो गई है। पढ़ें विस्तृत खबर...
 

सिरसा: भेड़ें लेकर नगर परिषद कार्यालय में घुस गए भाजपा जिलाध्यक्ष, लगाए भ्रष्टाचार के आरोप  

सिरसा में भाजपा के जिला अध्यक्ष आदित्य देवीलाल चौटाला शुक्रवार को भेड़ें लेकर नगर परिषद कार्यालय में घुस गए। इस दौरान उन्होंने नगर परिषद अधिकारियों पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए। आदित्य ने आरोप लगाया कि 2010 में अप्रूव्ड कॉलोनी होने के बावजूद नगर परिषद कर्मचारी प्लॉट को मंजूर नहीं कर रहे हैं। पढ़ें विस्तृत खबर... ... और पढ़ें

हरियाणा: बारिश से फसलें तबाह, 55 हजार किसानों ने मांगा मुआवजा, तीन दिन सर्वे कराएगा कृषि विभाग

हरियाणा
हरियाणा में पिछले कई दिन से जारी बारिश ने किसानों की फसलें तबाह करनी शुरू कर दी है। कई जिलों में फसलों में पानी जमा होने से फसलें खराब हो गई हैं तो कई जगहों पर खराब होने की स्थिति में पहुंच गई है। हरियाणा के अलग-अलग जिलों से करीब 55 हजार किसानों ने फसलें बर्बाद होने का दावा करते हुए कृषि विभाग से मुआवजा मांगा है। 

विभाग इसकी हकीकत जानने के लिए अगले तीन दिन में सर्वे कराएगा। उधर, ऐसे किसानों की संख्या काफी अधिक है, जो विभाग के पास शिकायत दर्ज नहीं करा पाए हैं। पिछले एक सप्ताह में करनाल, कैथल, कुरुक्षेत्र में धान, फतेहाबाद, सिरसा और हिसार से कपास और रेवाड़ी, भिवानी, जींद समेत अन्य जिलों के किसानों ने बाजरे की फसल खराब होने की शिकायत दर्ज कराई हैं। 

यह भी पढ़ें-
चंडीगढ़ में दिखा वायुसेना का शौर्य: सुखना लेक के ऊपर गरजे राफेल व चिनूक, मौसम के कारण नहीं उड़े सूर्यकिरण

इस बारे में कृषि विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. जगराज ढांडी ने कहा कि हमारे पास 50 हजार किसानों की शिकायतें आई हैं। ये तो जांच के बाद ही पता चल पाएगा कि असलियत में कितने किसानों की फसलें खराब होंगी। आगामी से तीन दिन में विभाग इसका सर्वे कराएगा। बता दें कि हरियाणा में इस बार 12 लाख हेक्टेयर में धान, सवा लाख हेक्टेयर में कपास की बिजाई की गई है। 

यह भी पढ़ें- कैप्टन अमरिंदर के नए खुलासे: कहा- तीन हफ्ते पहले ही इस्तीफे की पेशकश की थी, सिद्धू के खिलाफ मजबूत उम्मीदवार उतारूंगा

कपास, धान, बाजरा, मूंग और सब्जियों में नुकसान: सुरजेवाला
कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि फतेहाबाद, सिरसा, रेवाड़ी, हिसार, नारनौल, सोनीपत, जींद, रोहतक, झज्जर, भिवानी जिलों में नरमा, कपास, धान, बाजरा, मूंग, सब्जियों में 50 से 80 फीसदी तक फसलों का नुकसान हुआ है। किसानों को मुआवजा की व्यवस्था करने के साथ-साथ पानी की निकासी का प्रबंध और मंडियों में फसल खरीद तुरंत शुरू करना चाहिए। 
... और पढ़ें

हरियाणा: भारतीय भैंसों की दो नई देसी नस्लें पंजीकृत,‘धारवाड़ी’ नस्ल का कर्नाटक व ‘मंदा’ का ओडिशा है उद्गम स्थल

भारत में पाई जाने वाली भैंसों की दो और देसी नस्लों का पंजीकरण किया गया है। इनमें ‘धारवाड़ी’ नस्ल का उद्गम स्थल कर्नाटक है और दूसरी ‘मंदा’ का ओडिशा। नेशनल ब्यूरो ऑफ एनिमल जेनेटिक रिसोर्स (एनबीएजीआर) करनाल के निदेशक डॉ. बीपी मिश्रा ने बताया कि नई पंजीकृत भैंसों की नस्लों को मिलाकर देश में अब कुल देसी नस्लों की संख्या 202 हो गई है। इनमें गोवंश की 50, भैंसों की 19, बकरियों की 34, भेड़ों की 44, घोड़ों की सात, ऊंटों की नौ, सुअरों की दस, गधों की तीन, याक की एक, मुर्गों की19, बत्तखों की दो, गीज की एक व स्वान की तीन नस्लें शामिल हैं। उन्होंने बताया कि पंजीकरण के बाद नस्लों के साथ उनके उद्गम स्थलों को भी पहचान मिलती है।
 
अगस्त में अनुमोदित किए गए थे नाम
डॉ. मिश्रा ने बताया कि भैंसों की नई नस्लों के नाम भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद के उप महानिदेशक (पशु विज्ञान) डॉ. बीएन त्रिपाठी की अध्यक्षता में 16 अगस्त 2021 को हुई नौवीं नस्ल पंजीकरण समिति की बैठक में पंजीकरण के लिए अनुमोदित किए थे। उसके बाद इनका पंजीकरण कर लिया गया। देश में एनबीएजीआर पशुधन व कुक्कुट की नई नस्लों के पंजीकरण के लिए नोडल एजेंसी है।
 

धारवाड़ी के दूध से बनता है जीआई टैग वाला पेड़ा
धारवाड़ी भैंस कर्नाटक राज्य के बागलकोट, बेलगाम, डहरवाड़, गडग, बेल्लारी, बीदर, विजयपुरा, चित्रदुर्ग, कलबुर्गी, हावेरी, कोपल, रायचूर व यादगित जिलों में पाई जाती है। यह मध्यम आकार की काले रंग की भैंस है, जिसका सिर सीधा होता है। सींग अर्ध-गोलाकार होते हुए गर्दन को स्पर्श करते हैं। इसे मुख्य रूप से दूध के उद्देश्य से पाला जाता है। यह प्रतिदिन 1.5 से 8.7 लीटर तक दूध देती है। इसके दूध का उपयोग जीआई टैग (भौगोलिक उपदर्शन) वाला प्रसिद्ध धारवाड़ पेड़ा तैयार करने के लिए किया जाता है। यह भैंस कम वर्षा वाले क्षेत्रों के लिए अनुकूल है।
 
कृषि कार्यों के लिए उपयुक्त ‘मंदा’
मंदा भैंस ओडिशा राज्य के कोरापुट, मलकानगिरि व नवरंगपुर जिलों में पाई जाती है। यह कद-काठी में मजबूत है और ओडिशा के पूर्वी घाट की पहाड़ी और कोरापुट क्षेत्र के पठार के लिए अनुकूल है। तांबे के रंग के बालों के साथ शरीर का रंग ज्यादातर राख की तरह भूरा या पूरी तरह भूरा होता है। पैर का निचला हिस्सा हल्के रंग का होता है। सींग चौड़े होते हैं, जो पीछे की ओर जाकर लगभग आधा घेरा बनाते हैं। मंदा भैंसों को कृषि कार्यों, दूध व खाद के लिए पाला जाता है। नर व मादा दोनों का उपयोग कृषि कार्यों के लिए किया जाता है। दैनिक दूध उत्पादन 1.2 से 3.7 किलोग्राम के बीच होता है। 
... और पढ़ें

हरियाणा में फसलें तबाह होने पर 55 हजार किसानों ने मांगा मुआवजा समेत हरियाणा-पंजाब की बड़ी खबरें

  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X