बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
अपार धन की प्राप्ति हेतु कामिका एकादशी को कराएँ श्री लक्ष्मी-विष्णु जी का विष्णुसहस्त्रनाम-फ्री, रजिस्टर करें
Myjyotish

अपार धन की प्राप्ति हेतु कामिका एकादशी को कराएँ श्री लक्ष्मी-विष्णु जी का विष्णुसहस्त्रनाम-फ्री, रजिस्टर करें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

करनाल में हादसा: पानी से भरे गड्ढे में डूबने से दो बच्चों की मौत, परिजनों ने बागवानी विभाग पर लगाया लापरवाही का आरोप

गांव उचानी में महाराणा प्रताप बागवानी विश्वविद्यालय के निर्माण के लिए खोदे गए पानी से भरे गहरे गड्ढे में डूबने से शनिवार को दो मौसेरे भाइयों की मौत हो गई। दोनों ही भाई अपने मामा के घर आए थे। घटना की जानकारी एक बच्ची ने गांव जाकर परिजनों को दी फिर परिजन मौके पर पहुंचे और दोनों बच्चों को पानी से बाहर निकाला और अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां डॉक्टरों ने दोनों बच्चों को मृत घोषित कर दिया।

गांव उचानी में महाराणा प्रताप बागवानी विश्वविद्यालय का निर्माण किया जाना है। भवन बनाने के लिए वहां से नमूने लिए गए थे। इसके लिए गहरे गड्ढे खोदे गए थे। जिनमें बारिश का पानी भर गया। गांव उचानी निवासी संजय ने बताया कि उसके दो भांजे जस्सी (9) निवासी सराफाबाद माजरा करनाल और कृष्णकांत (11) निवासी आगरा उसके घर आए थे।

दोनों अन्य बच्चों के साथ खेलते-खेलते महाराणा प्रताप बागवानी विश्वविद्यालय के निर्माण स्थल की तरफ चले गए और वहां पानी से भरे गड्ढे में डूब गए। परिजनों ने बागवानी विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों पर लापरवाही का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि वहां उन्होंने कोई सुरक्षा कर्मी नहीं लगाया था, न किसी ने उन बच्चों को गहरे गड्ढे के पास जाने से रोका।

जस्सी था घर का इकलौता चिराग
सत्य प्रकाश ने बताया कि वह अपनी पत्नी को दवा दिलाने गया था। उसकी पत्नी को सांस की बीमारी है। उसके पास उसके साले का फोन आया कि जस्सी को कुछ हो गया है। वह मोटरसाइकिल को तेज दौड़ाता हुआ आया, क्योंकि जस्सी उसका इकलौता बेटा था। जब वह गांव पहुंचा तो उसे पता चला कि वह गड्ढे में डूब गया है। उसने उस गड्ढे में डुबकी लगाई लेकिन तब तक बच्चा दम तोड़ चुका था। दोनों बच्चे काफी समय से अपने मामा के घर आए थे।
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

पानीपत में बड़ा हादसा: सवारी उतार रही बस में ट्रक ने पीछे से मारी टक्कर, तीन की मौत, 14 घायल

खादी आश्रम के सामने फ्लाईओवर पर सवारी उतार रही निजी बस को पीछे से बेकाबू ट्रक ने टक्कर मार दी। दुर्घटना में ट्रक वहीं पलट गया, जबकि बस राष्ट्रीय राजमार्ग की ग्रिल तोड़कर सर्विस रोड तक पहुंच गई। बस में सवार 50 लोगों में से 17 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए, जिन्हें लोगों की मदद से सामान्य अस्पताल पहुंचाया गया, जहां दो को डॉक्टर ने मृत घोषित कर दिया, जबकि एक युवक की रोहतक पीजीआई ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई। इसके अलावा 14 अन्य घायलों में से सात लोगों को रोहतक पीजीआई रेफर किया गया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने बस चालक और ट्रक चालक दोनों के खिलाफ केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

घटनाक्रम के अनुसार निजी बस चालक दलबीर सिंह आजमगढ़, फैजाबाद, सुलतानपुर और जौनपुर से करीब 50 सवारियां लेकर पंजाब के लुधियाना के लिए चला था। वह सुबह छह बजे पानीपत पहुंचा और दो सवारियों को उतारने के लिए खादी आश्रम के सामने बस रोकी। इसी बीच पीछे आ रहे एक ट्रक चालक ने खड़ी बस में टक्कर मार दी।

टक्कर लगते ही बस ग्रिल तोड़कर सर्विस रोड पर पहुंची और बस का पिछला हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया। हादसे के बाद स्थानीय लोगों ने पुलिस कंट्रोल रूम में सूचना दी और बस में फंसे घायलों को बाहर निकालने का प्रयास शुरू किया। मौके पर पहुंची पुलिस ने लोगों और एंबुलेंस की मदद से एक-एक कर कुल 17 घायल लोगों को सामान्य अस्पताल पहुंचाया। जहां डॉक्टर ने यूपी के जिला कुशीनगर निवासी राहुल (17) पुत्र छोटे लाल, आजमगढ़ निवासी संगीता (18) पुत्री हनर को मृत घोषित कर दिया।

वहीं आजमगढ़ निवासी पिंटू लाल(21) की रोहतक पीजीआई ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई। इसके अलावा डॉक्टर ने सात लोगों को रोहतक पीजीआई रेफर कर दिया। नेशनल हाईवे पर बस रोककर लोगों की जान को खतरे में डालने की वजह से आरोपी बस चालक और बस में टक्कर मारने वाले आरोपी ट्रक चालक दोनों के खिलाफ पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

करनाल में पिता ने उठाया खौफनाक कदम: दो बच्चों को फांसी पर लटका खुद भी फंदे पर झूला, ये वजह आई सामने

करनाल के गांव भादसों में एक पिता ने अपने दो मासूम बच्चों को फंदे पर लटकाकर खुद भी फांसी लगा ली। पड़ोसियों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने तीनों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया। परिजनों के अनुसार एक माह पूर्व पत्नी ने पड़ोसी से शादी कर ली थी, उसके बाद से सुखविंद्र तनाव में था।

परिजनों के अनुसार सुखविंद्र के दो बच्चे थे। एक तीन साल का लड़का हिमांशु और दूसरी छह साल की लड़की कीर्ति थी। उन्होंने बताया कि पिछले माह सुखविंद्र की पत्नी अपने मायके नसीरपुर (करनाल) गई हुई थी, जहां से वह पड़ोसी के साथ चली गई। इसके बाद पत्नी ने कोर्ट में बयान देकर पड़ोसी से ही शादी करने की बात कही थी। इसके बाद से सुखविंद्र लगातार तनाव में रह रहा था।

वह अल्फा सिटी में इलेक्ट्रीशियन का काम करता था लेकिन पत्नी के जाने के बाद उसने काम भी छोड़ दिया था और दिनभर घर पर ही रहता था। आरोप है कि पत्नी बार-बार सुखविंद्र को फोन पर बच्चे भी छीन लेने की धमकी देती थी।

शनिवार को भी वह पूरे दिन घर में कैद रहा। इस दौरान उसके बच्चे दादी के पास खेल रहे थे। शाम करीब साढ़े चार बजे सुखविंद्र बच्चों को दादी के पास से अपने घर ले आया। फिर बच्चों को फंदे से लटकाने के बाद अपनी जीवनलीला भी समाप्त कर ली।
... और पढ़ें

काला जठेड़ी: सीधा-सादा संदीप 17 साल में कैसे बन गया अपराध की दुनिया का बेताज बादशाह, लारेंस बिश्नोई गैंग का मिला साथ और...

गांव जठेड़ी का रहने वाला सीधा-सादा संदीप 17 साल के अंदर अपराध की दुनिया का काला जठेड़ी बन गया। जुर्म की दुनिया में कदम रखने के बाद संदीप उर्फ काला जठेड़ी अलग-अलग गैंग से हाथ मिलाकर अपनी ताकत बढ़ाता रहा। 200 से ज्यादा शूटर वाले लारेंस बिश्नोई गैंग से जुड़ने के बाद वह अपराध जगत में आगे बढ़ता गया। पुलिस को हत्या, लूट, रंगदारी और मुठभेड़ जैसे मामलों में उसकी तलाश थी। दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़े संदीप के गुर्गों ने हरियाणा पुलिस को यह तक पता नहीं लगने दिया कि वह देश में है या विदेश भाग गया है। 

दिल्ली पुलिस की गिरफ्त में आए संदीप उर्फ काला जठेड़ी की तलाश सात राज्यों की पुलिस कर रही थी। उसको गिरफ्तार करने का सबसे ज्यादा दबाव हरियाणा पुलिस पर था। यहां की पुलिस से जठेड़ी गैंग के गुर्गों ने उसको फरवरी में कोर्ट में पेशी के बाद जेल ले जाते हुए हमला कर छुड़वाया था। जठेड़ी गैंग के गुर्गों ने ही उसके विदेश भाग जाने की अफवाह भी फैला दी थी। पुलिस को आशंका थी कि वह दुबई, मलेशिया या थाईलैंड में रहकर गैंग को चला रहा है। सोनीपत पुलिस को भी उसकी कई मामलों में तलाश थी। लारेंस बिश्नोई के जेल जाने के बाद उसके गैंग की कमान राजू बसौदी संभाल रहा था। एसटीएफ द्वारा राजू बसौदी को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस कस्टडी से भागे काला जठेड़ी ने गैंग की कमान संभाल ली थी। 

संदीप जठेड़ी का नाम सबसे पहले दिल्ली में चोरी के मामले में आया था। उसके बाद उसने गोहाना में बड़ी वारदात की थी। सोनीपत सहित हरियाणा के कारोबारियों और ठेकेदारों से वसूली का धंधा संदीप जठेड़ी के गुर्गे चला रहा थे। एक-दो बार क्षेत्र में उसकी सक्रियता की भी अफवाह उड़ी, लेकिन वह पुलिस के हाथ नहीं आया। खनन के धंधे से जुड़े लोगों ने कई बार राजू बसौदी व संदीप जठेड़ी गैंग के सक्रिय होने की शिकायत की थी। 
... और पढ़ें

राहत: हरियाणा में बिजली 37 पैसे प्रति यूनिट सस्ती, सीएम मनोहर लाल ने की घोषणा

काला जठेड़ी
हरियाणा में बिजली कंपनियों के मुनाफे में आने के बाद मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने बिजली की दरों 37 पैसे प्रति यूनिट कमी करने की घोषणा की है। अब बिजली वितरण कंपनियां उपभोक्ताओं से एफएसए (फ्यूल सरचार्ज एडजेस्टमेंट) नहीं वसूल सकेंगी। सरकार के इस फैसले से प्रदेश के 70.46 लाख उपभोक्ताओं को राहत मिलेगी। 

बिजली कंपनियों द्वारा हर माह लागत और आय की समीक्षा की जाती है। अगर किसी माह कोयला महंगा मिलता है या फिर बिजली महंगी मिलती तो कंपनी उपभोक्ताओं पर प्रति यूनिट 37 पैसे तक सरचार्ज लगा सकतीं थीं। इस मामले में एचईआरसी भी कह चुका है कि एफएसए उपभोक्ताओं से नहीं वसूला जाना चाहिए। इसके अलावा, बेहतर योजना के चलते डिस्कॉम ने वित्त वर्ष 2020-21 में पिछले वर्ष की तुलना में लगभग 46 पैसे प्रति यूनिट की औसत बिजली खरीदी। इसे देखते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने उपभोक्ताओं को राहत देने की घोषणा की है। इससे बिजली विभाग को हर माह 100 करोड़ राजस्व का नुकसान होगा। 

बिजली क्षेत्र में हो रहा है सुधार
हरियाणा सरकार ने राज्य के बिजली उपभोक्ताओं को सस्ती दरों पर बिजली उपलब्ध कराने का प्रयास किया है। पिछले कुछ वर्षों में हरियाणा बिजली वितरण कंपनियों के उत्कृष्ट प्रदर्शन का परिणाम बिजली मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा किए गए बिजली डिस्कॉम की एकीकृत रेटिंग में भी परिलक्षित होता है, जहां हरियाणा गुजरात के बाद दूसरे सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्य के रूप में उभरा है।
... और पढ़ें

हरियाणा: मिशन यूपी पर बोले कृषि मंत्री, राजनीतिक इच्छा रखने वाले किसान नेता भाजपा को नहीं हरा सकते

हरियाणा के कृषि मंत्री जेपी दलाल ने किसानों के मिशन यूपी पर बड़ा बयान दिया है। भिवानी पहुंचे जेपी दलाल ने कहा है कि राजनीतिक सोच रखने वाले किसान नेता भाजपा को नहीं हरा सकते। उन्होंने स्वतंत्रता दिवस पर मंत्री व नेताओं को राष्ट्रीय ध्वज न फहराने देने की चेतावनी को छोटी सोच बताया। कृषि मंत्री ने बारिश से बरबाद फसलों को लेकर किसानों को परेशान न होने की बात कही। 

कृषि मंत्री जेपी दलाल शनिवार को अपने आवास पर लोगों की समस्याएं सुन रहे थे। इस दौरान उन्होने अधिकतर लोगों की समस्या का समाधान मौके पर ही संबंधित अधिकारों को फोन कर करवाया। इसके बाद कृषि मंत्री मीडिया से रूबरू हुए। सबसे पहले कृषि मंत्री जेपी दलाल ने बारिश के समय उफान पर चल रही नहर टूटने से बरबाद फसलों को लेकर कहा कि किसानों को परेशान होने की जरूरत नहीं है।


उन्होने कहा कि संबंधित जिलों के डीसी को जांच कर रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए हैं ताकि समय रहते स्पेशल गिरदावरी हो सके। उन्होंने कहा कि जिन किसानों ने बीमा करवाया है उन्हें कंपनी से और जिन्होंने नहीं करवाया उनके नुकसान की भरपाई हरियाणा सरकार करेगी। 

कुरुक्षेत्र और जींद जिले में किसान नेताओं द्वारा स्वतंत्रता दिवस पर सरकार के किसी भी मंत्री या नेता को राष्ट्रीय ध्वज न फहराने देने की चेतावनी पर कहा कि बहुत लंबे संघर्ष व बड़े बलिदानों के बाद देश को आजादी मिली थी। ऐसे पर्व पर ऐसे बयान दुर्भाग्यपूर्ण हैं और छोटी सोच दर्शाते हैं।
... और पढ़ें

हरियाणा: रोहतक में विस्फोट और फतेहाबाद के दो स्कूलों में छह छात्र मिले कोरोना पॉजिटिव... पढ़ें पांच बड़ी खबरें 

हरियाणा: सीबीएसई 12वीं में ऑल इंडिया टॉप करने वाले हितेश्वर को एक लाख रुपये देगी सरकार, मनोहर लाल ने की घोषणा 

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने पंचकूला के हितेश्वर शर्मा को एक लाख रुपये प्रोत्साहन राशि देने की घोषणा की है। हितेश्वर सीबीएसई 12वीं में ऑल इंडिया टॉपर हैं। उन्होंने 500 में 499 अंक प्राप्त किए हैं।  

मुख्यमंत्री मनोहर लाल से शुक्रवार शाम को अपने आवास पर हितेश्वर शर्मा से मुलाकात की थी। मुख्यमंत्री ने हितेश्वर की इस अनूठी उपलब्धि के लिए अपने आवास पर बुलाया था और उन्हें बधाई देते हुए भविष्य के लिए शुभकामनाएं भी दीं।


मनोहर ने कहा कि जब वे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलेंगे तो बताएंगे कि जिस हितेश्वर शर्मा के साथ आपने फोन पर बात की थी, उसने इस बार 12वीं कक्षा में भी टॉप किया है। हितेश्वर ने कला संकाय में 99.8 प्रतिशत अंक हासिल किए हैं। पीएम नरेंद्र मोदी ने चार जून 2021 को पिछली कक्षाओं की बोर्ड परीक्षाओं के सभी टॉपर्स के साथ बात की थी। उस वक्त प्रधानमंत्री ने हितेश्वर से पूछा था कि वह 10वीं में टॉप कर चुके हैं, अब आगे की उनकी क्या तैयारी है। इस पर आत्मविश्वास से भरे हितेश्वर शर्मा ने प्रधानमंत्री को कहा था कि सिर्फ परीक्षा का तरीका बदला है, तैयारी उसकी पहले जैसी ही है, पहले भी उसने टॉप किया था और वह आगे भी टॉप करेगा। 

मुख्यमंत्री मनोहर लाल से आशीर्वाद पाकर गदगद हुए हितेश्वर से जब उनके भविष्य की योजना के बारे में पूछा गया तो उसने बताया कि वह आईएएस अधिकारी बनकर देश सेवा करना चाहता है। वह अंडर-17 वर्ग में हरियाणा की क्रिकेट टीम में भी 3 साल से प्रतिनिधित्व करता आ रहा है। 26 जनवरी 2020 को गणतंत्र दिवस की परेड में भी प्रधानमंत्री के गेस्ट ऑफ ऑनर के तौर शामिल हुआ था। इस अवसर पर मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने हितेश्वर और उनके पूरे परिवार को अपनी ओर से मिठाई खिलाई और हितेश्वर को सरस्वती का चित्र देकर सम्मानित किया। 
 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन