लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Ayush antibiotic Fifatrol is helpful in providing relief from respiratory tract infection

Respiratory System: श्वसन तंत्र के संक्रमण से निजात दिलाएगी आयुष की एंटीबायोटिक, खांसी में भी मददगार है दवा

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: वीरेंद्र शर्मा Updated Mon, 05 Dec 2022 05:59 AM IST
सार

इससे पहले भोपाल एम्स के डॉक्टरों ने फीफाट्रोल को वायरस, बैक्टीरिया और फंगल इन्फेक्शन का नियंत्रण करने में रामबाण बताते हुए सप्ताह भर के भीतर अच्छे परिणाम दिखाने का दावा किया था। वहीं, बीएचयू के शोधार्थियों ने इसे आयुर्वेदिक एंटीबायोटिक उपनाम भी दिया था।

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर - फोटो : अमर उजाला

विस्तार

आयुष एंटीबायोटिक फीफाट्रोल सात दिन में ऊपरी श्वसन तंत्र के संक्रमण से निजात दिलाएगी। एक चिकित्सा अध्ययन में उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के शोधार्थियों ने देश के विभिन्न स्वास्थ्य केंद्रों पर पंजीकृत रोगियों पर जांच के बाद पुष्टि की है कि फीफाट्रोल दवा ऊपरी श्वसन तंत्र के संक्रमण में अत्यंत लाभकारी है।


इससे पहले भोपाल एम्स के डॉक्टरों ने फीफाट्रोल को वायरस, बैक्टीरिया और फंगल इन्फेक्शन का नियंत्रण करने में रामबाण बताते हुए सप्ताह भर के भीतर अच्छे परिणाम दिखाने का दावा किया था। वहीं, बीएचयू के शोधार्थियों ने इसे आयुर्वेदिक एंटीबायोटिक उपनाम भी दिया था। इंटरनेशनल रिसर्च जर्नल ऑफ आयुर्वेदा एंड योगा में प्रकाशित अध्ययन में शोधार्थियों ने बताया, फीफाट्रोल में शामिल पांच औषधियां सुदर्शन वटी, संजीवनी वटी, गोदांती भस्म, त्रिभुवन कीर्ति रस और मृत्युंजय रस न सिर्फ प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने बल्कि वायरस, बैक्टीरिया व परजीवी संक्रमण के घातक प्रभावों को घटाने में कारगर हैं। इसमें 8 बूटियां तुलसी, कुटकी, चिरायता, मोथा, गिलोय, दारुहल्दी, करंज, अपामार्ग के भी विशेष औषधीय गुण हैं। अपामार्ग व करंज वायरस से होने वाले दुष्प्रभावों को निष्क्रिय करते हैं। कुटकी लिवर को ठीक करती है। तुलसी व गोदांती भस्म में एंटीवायरल गुण हैं। 


203 मरीजों पर दवा का किया गया परीक्षण
जानकारी के अनुसार, दिसंबर 2019 से अप्रैल 2020 में उत्तराखंड के मदरहुड विश्वविद्यालय, गाजियाबाद स्थित आईएमटी और देहरादून स्थित उत्तरांचल आयुर्वेद कॉलेज के शोधार्थियों ने संयुक्त तौर पर अध्ययन किया। इस दौरान शोधार्थियों ने देशभर के विभिन्न स्वास्थ्य केंद्रों में 203 मरीजों पर फीफाट्रोल का परीक्षण किया। उपचार के दौरान पहले, चौथे और सातवें दिन मरीजों के विभिन्न पैरामीटर की जांच की गई। इन्हें दिन में दो बार फीफाट्रोल की खुराक दी गई। शोध में देखा गया है कि चौथे दिन मरीजों के लक्षणों में 69.5 फीसदी तथा सातवें दिन 90.36 फीसदी सुधार देखा गया।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00