लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Centre says tur dal prices rising since July 2nd week; asks States, UTs to monitor traders' stocks

Tur Dal Prices: अरहर दाल की कीमतों में उछाल, केंद्र ने सभी राज्यों को जारी किए अहम निर्देश

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: Amit Mandal Updated Fri, 12 Aug 2022 07:25 PM IST
सार

निर्देश में कहा गया है कि ऐसी खबरें हैं कि स्टॉकिस्ट और व्यापारियों के कुछ वर्ग कीमतों को बढ़ाने के लिए कृत्रिम कमी पैदा करने के प्रयास में प्रतिबंधित बिक्री का सहारा ले रहे हैं।

अरहर दाल की कीमतों में वृद्धि
अरहर दाल की कीमतों में वृद्धि - फोटो : iStock
ख़बर सुनें

विस्तार

अरहर दाल की कीमतों में वृद्धि के साथ केंद्र ने शुक्रवार को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि स्टॉकिस्ट और व्यापारी अपने पास रखी अरहर दाल की मात्रा का खुलासा करें। यह निर्देश उन रिपोर्ट के बीच आया है कि कृत्रिम कमी पैदा करने के लिए अरहर दाल की बिक्री को प्रतिबंधित किया जा रहा है। केंद्र दालों की कीमतों पर करीब से नजर रखे हुए है। वर्तमान में इसके पास बफर स्टॉक में 38 लाख टन दालें हैं और इसे घरेलू आपूर्ति को बढ़ावा देने के लिए जारी किया जा रहा है।



राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को स्टॉक की निगरानी के निर्देश 
शुक्रवार को उपभोक्ता मामलों के विभाग ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को आवश्यक वस्तु अधिनियम, 1955 की धारा 3 (2) (एच) और 3 (2) (i) के तहत तूर के व्यापारियों द्वारा स्टॉक की जानकारी को लागू करने का निर्देश जारी किया। राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को स्टॉक की निगरानी और सत्यापन करने के लिए भी कहा गया है। इसके अलावा एक आधिकारिक बयान के अनुसार, उन्हें स्टॉकहोल्डर संस्थाओं को विभाग के ऑनलाइन निगरानी पोर्टल पर साप्ताहिक आधार पर अपने स्टॉक का डेटा अपलोड करने के लिए निर्देशित करने के लिए कहा गया है। इसमें कहा गया है, ऐसी खबरें हैं कि स्टॉकिस्ट और व्यापारियों के कुछ वर्ग कीमतों को बढ़ाने के लिए कृत्रिम कमी पैदा करने के प्रयास में प्रतिबंधित बिक्री का सहारा ले रहे हैं।


पिछले साल की तुलना में खरीफ की बुआई में धीमी प्रगति के बाद जुलाई के दूसरे सप्ताह से अरहर दाल की खुदरा कीमतों में तेजी का रुख रहा है। कर्नाटक, महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के प्रमुख तूर दाल उत्पादक राज्यों के कुछ हिस्सों में अधिक वर्षा और जल भराव की स्थिति के कारण कम बुवाई हुई है। बयान में कहा गया है, केंद्र घरेलू और विदेशी बाजारों में दालों की समग्र उपलब्धता और कीमतों पर करीब से नजर रख रहा है ताकि आगामी उच्च मांग त्योहार के महीनों में अनुचित मूल्य वृद्धि की स्थिति में आवश्यक पूर्व-कार्रवाई की जा सके। 

केंद्र ने कहा कि घरेलू बाजार में दालों की पर्याप्त उपलब्धता है। फिर भी यह अपने 38 लाख टन के बफर स्टॉक से और दाल बाजार में आपूर्ति बढ़ाने के लिए जारी कर रहा है। इस खरीफ बुवाई सीजन के 12 अगस्त को दलहन का रकबा घटकर 122.11 लाख हेक्टेयर हो गया है, जबकि एक साल पहले की अवधि में यह 127.22 लाख हेक्टेयर था। अरहर दाल का रकबा 47.55 लाख हेक्टेयर से गिरकर 42 लाख हेक्टेयर हो गया है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00