लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Centre Tells SC Right To Privacy Not Absolute, Investigating Agencies have SOPs On Seizure Of Digital Devices

Supreme Court: निजता का हक संपूर्ण अधिकार नहीं, डिजिटल उपकरणों की जब्ती पर केंद्र सरकार ने दिया हलफनामा

अमर उजाला ब्यूरो/एजेंसी, नई दिल्ली। Published by: देव कश्यप Updated Mon, 28 Nov 2022 04:32 AM IST
सार

केंद्र सरकार ने कुछ अकादमिक शख्सियतों और शोधार्थियों के समूह की ओर से दायर याचिका के जवाब में हलफनामा दिया है। याचिका में शीर्ष कोर्ट से मांग की गई है कि सरकारी जांच एजेंसियों को निजी डिजिटल व इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों और उनकी सामग्री की जब्ती, परीक्षण व संरक्षण के लिए दिशा-निर्देश जारी करे।

सुप्रीम कोर्ट।
सुप्रीम कोर्ट। - फोटो : ANI

विस्तार

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से कहा कि निजता का अधिकार व्यक्तिगत स्वायत्तता और स्वतंत्रता की अवधारणा में निहित है, मगर यह एक संपूर्ण अधिकार नहीं है। जनहित के लिए इसे प्रतिबंधित किया जा सकता है। सरकार ने यह भी कहा कि जांच एजेंसियां मानक संचालन प्रक्रिया के तहत कार्रवाई कर डिजिटल उपकरणों को जब्त करती हैं और इनकी वापसी के लिए हर मामले में एक जैसा आदेश नहीं दिया जा सकता।


 
केंद्र सरकार ने कुछ अकादमिक शख्सियतों और शोधार्थियों के समूह की ओर से दायर याचिका के जवाब में हलफनामा दिया है। याचिका में शीर्ष कोर्ट से मांग की गई है कि सरकारी जांच एजेंसियों को निजी डिजिटल व इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों और उनकी सामग्री की जब्ती, परीक्षण व संरक्षण के लिए दिशा-निर्देश जारी करे। याचिका में यह भी मांग की गई है कि शिक्षाविदों और शोधार्थियों के जब्त उपकरणों की वापसी के लिए सामान्य आदेश जारी किया जाए। इस मांग का विरोध करते हुए केंद्र ने हलफनामे में कहा कि कई मामलों की संवेदनशीलता को देखते हुए जांच के दायरे में आए उपकरणों की वापसी का कोई सामान्य आदेश जारी नहीं दिया जा सकता। केंद्र ने कहा कि कुछ मामलों में जांच एजेंसियां, आरोपी को भारतीय दंड संहिता की धारा 451 के तहत उपकरण के हार्ड ड्राइव में सुरक्षित डाटा की प्रति बनाकर जरूर दे सकती हैं। 


सीबीआई मैनुअल से हो सकता है आशंकाओं का समाधान
केंद्र ने कहा कि वर्तमान मामले में याचिकाकर्ताओं की जताई गई अधिकांश आशंकाओं को उसने नोट किया है और सीबीआई मैनुअल, 2020 का पालन कर इन आशंकाओं का समाधान हो सकता है। 

  • केंद्र ने आगे कहा, इस मामले में अधिकांश जांच एजेंसियों के पास अपनी मानक संचालन प्रक्रिया है। सीबीआई मैनुअल में देश के वैधानिक व सांविधानिक प्रावधानों के अनुरूप डिजिटल साक्ष्य के विषय में सुरक्षा उपायों के साथ प्रक्रिया तैयार की गई है। 


राज्यों व अन्य हितधारकों से व्यापक परामर्श जरूरी
हलफनामे में कहा गया है कि इस मामले में कानून प्रवर्तन एजेंसियों के लिए सामान्य दिशा-निर्देश जारी करने से पहले राज्यों समेत सभी हितधारकों से व्यापक परामर्श जरूरी है। इसके लिए केंद्र ने देश के संघीय ढांचे और संविधान की 7वीं अनुसूची की प्रविष्टियों का हवाला दिया है। 

याचिका में दावा : जांच एजेंसियों की शक्ति गैर-निर्देशित 
याचिका में कहा गया है कि जिन उपकरणों में किसी नागरिक के निजी और पेशेवर जीवन की जानकारियां दर्ज हों उन्हें जब्त करने में जांच एजेंसियां पूरी तरह गैर-निर्देशित शक्ति का उपयोग करती हैं, इसलिए इस मामले में शीर्ष अदालत के निर्देशों की जरूरत है।

विज्ञापन

शोध या लेखन डाटा को क्षति का खतरा 
याचिकाकर्ताओं ने कहा है कि अकादमिक समुदाय इलेक्ट्रॉनिक या डिजिटल उपकरणों में अपने शोध और लेखन को दर्ज और जमा करता है। इन उपकरणों की जब्ती की स्थिति में इस डाटा को क्षति, नुकसान पहुंचने या समय से पहले ही उजागर हो जाने का जोखिम बहुत अधिक है।

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00