Hindi News ›   India News ›   Earth vibration is not reduced due to Covid-19 and lockdown worldwide, but help in detecting earthquake says Scientist

लॉकडाउन से दुनिया में हुआ शोर कम, भूकंप का पता लगाने में हो रही आसानी

पीटीआई, नई दिल्ली Published by: अनवर अंसारी Updated Tue, 07 Apr 2020 07:26 PM IST
लॉकडाउन
लॉकडाउन - फोटो : पीटीआई
विज्ञापन
ख़बर सुनें

वैज्ञानिकों का कहना है कि कोविड-19 के खतरे के मद्देनजर दुनिया भर में एहतियातन लोगों के खुद पृथकवास में जाने और लॉकडाउन की वजह से मानवजनित ‘भूकंपीय शोर’ कम हुआ है, जिसकी वजह से कम तीव्रता वाले भूकंपों की पहचान भी ज्यादा सटीकता और स्पष्टता से की जा सकती है। उन्होंने यह साफ किया कि इस बंद की वजह से धरती की सतह के कंपन में किसी तरह की कमी नहीं आई है।

विज्ञापन


वैज्ञानिकों ने कहा कि भूकंप का शोर जमीन का एक अपेक्षाकृत लगातार होने वाला कंपन है जो आमतौर पर सिस्मोमीटर द्वारा दर्ज संकेतों का एक अवांछित घटक है। इससे पहले के अध्ययनों में कहा गया था कि सभी तरह की मानव गतिविधियां ऐसे कंपन पैदा करती हैं जो अच्छे भूकंप उपकरणों से की गई पैमाइश को विकृत कर देती हैं।


दुनिया के अनेक हिस्सों में जारी बंद की वजह से इन विकृतियों में कमी आई है और ‘भारतीय विज्ञान शिक्षा एवं अनुसंधान संस्थान’, कोलकाता के एक प्रोफेसर सुप्रिय मित्रा समेत भूकंप वैज्ञानिकों का मानना है कि यह कहना गलत होगा कि धरती की सतह में अब कंपन धीरे हो रहा है, जैसा कि मीडिया में आई कुछ खबरों में कहा गया है।

बेल्जियम में मानव जनित भूकंपीय शोर में 30 फीसदी की कमी
बेल्जियम में आंकड़े दर्शाते हैं कि ब्रुसेल्स में कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए अपनाए गए बंद की वजह से मानव जनित भूकंपीय शोर में करीब 30 फीसदी की कमी आई है। वैज्ञानिकों ने कहा कि इस शांति का मतबल यह है कि सतह पर भूकंप को मापने के पैमाने के आंकड़े उतने ही स्पष्ट हैं जितना कि उसी उपकरण को पहले धरती की सतह में गहराई पर रखने से मिलते थे।

यह नया विचार देने वाले ब्रुसेल्स के रॉयल ऑब्जर्वेटरी ऑफ बेल्जियम के भूकंप वैज्ञानिक थॉमस लेकॉक ने कहा कि इस पैमाने पर आवाज में कमी का अनुभव आम तौर पर सिर्फ क्रिसमस के आसपास होता है।

शोर कम होने से हल्के भूकंपों का भी चल रहा पता

भारत में, मित्रा इसी तरह के भूकंपीय आंकड़ों और अध्ययनों को देख रहे हैं। मित्रा ने पीटीआई को बताया कि हम लॉकडाउन के दौरान के आंकड़ों को जुटाना चाहते थे और यह देखना चाहते हैं कि भूकंपीय शोर किस स्तर तक कम हुआ है। 

उन्होंने कहा कि मानवजनित गतिविधियों के कारण सांस्कृतिक व परिवेशीय शोर एक हर्ट्ज या उससे ऊपर है- और एक हर्ट्ज वह मानक आवृत्ति है जिस पर भूकंप की ऊर्जा आती है। मित्रा ने कहा कि इसलिए अगर शोर ज्यादा है, तो आम तौर पर भूकंपों का पता कम चलता है। 

बंद के फलस्वरूप क्या हुआ, वह बताते हैं कि गाड़ियों की आवाजाही और मानव गतिविधियां कम हुईं जिसकी वजह से परिवेशीय शोर कम हुआ। उन्होंने कहा कि भूकंप का पता लगाने की सीमा कम हो गई है। इसलिए हल्के भूकंपों का भी ज्यादा पता चल रहा है।

धरती की सतह के धीरे घूमने की बातें गलत

भारतीय विज्ञान संस्थान, बेंगलुरु की भूकंप वैज्ञानिक कुशला राजेंद्रन ने कहा कि मानव गतिविधियों का स्तर कम होने से, भूकंप संवेदक अब हल्के भूकंपों का पता लगा सकते हैं जो पहले अन्यथा शोर का हिस्सा होते थे। उन्होंने बताया कि भूकंप केंद्र यातायात, सामुद्रिक लहरों या अन्य तरह के शोर से दूर स्थापित किए जाते हैं।

राजेंद्रन ने कहा कि स्थानिक कवरेज और पहुंच के लिहाज से कई केंद्रों को मानव गतिविधि की सीमा में ही बनाया जाता है। यह केंद्र इतने संवेदनशील होते हैं कि यह 500 मीटर के दायरे में किसी इंसान की पदचाप भी दर्ज कर सकते हैं। वह बताती हैं कि अगर शोर का स्तर बेहद कम रखा जाए तो ये संवेदक सबकुछ दर्ज करेंगे…। 

भारत के प्रमुख भूकंप वैज्ञानिकों ने यह भी बताया कि यह कहना गलत होगा कि दुनिया के विभिन्न हिस्सों में कोविड-19 के कारण लागू किए गए बंद की वजह से धरती की सतह धीरे घूम रही हैं या उसके कम कंपन हो रहा है।

मित्रा कहते हैं कि इसका मतलब होगा कि टेक्टोनिक प्लेट धीमी हो गई हैं, जबकि ऐसा नहीं है। उन्होंने कहा कि सतह की गति कम हुई है यह कहना तथ्यों को गलत तरीके से पेश करना होगा। धरती की सतह की गति धीमे नहीं हुई है। राजेंद्रन भी मित्रा की बात से सहमति जताते हुए कहती हैं कि सिर्फ बंद की वजह से सिर्फ मानवजनित शोर कम हुआ है।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00