जेल ट्रांसफर : यूनिटेक समूह के पूर्व प्रमोटर चंद्रा बंधुओं को तिहाड़ से मुंबई की आर्थर रोड व तलोजा जेल में भेजा 

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: सुरेंद्र जोशी Updated Sun, 29 Aug 2021 04:19 PM IST

सार

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर यूनिटेक समूह के पूर्व प्रमुख चंद्रा बंधुओं को दिल्ली की तिहाड़ जेल से मुंबई की जेलों में शिफ्ट कर दिया गया। 
 
यूनिटेक समूह के पूर्व प्रमोटर संजय चंद्रा
यूनिटेक समूह के पूर्व प्रमोटर संजय चंद्रा
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

यूनिटेक समूह के पूर्व प्रमोटर संजय चंद्रा व उनके भाई अजय चंद्रा को दिल्ली की तिहाड़ जेल से मुंबई की आर्थर रोड और तलोजा जेल स्थानांतरित कर दिया गया। उन्हें मुंबई शिफ्ट करने का आदेश सुप्रीम कोर्ट ने दिया था। 
विज्ञापन


दिल्ली के जेल महानिदेशक संदीप गोयल ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि चंद्रा बंधुओं को शनिवार को मुंबई स्थानांतरित कर दिया गया।  गोयल ने बताया कि संजय व अजय चंद्रा को पुलिस की सुरक्षा में शनिवार सुबह ट्रेन से मुंबई ले जाया गया। वे मुंबई पहुंच गए हैं और रविवार अल सुबह उन्हें जेलों में बंद कर दिया गया। सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस डीवाई चंद्रचूड व जस्टिस एमआर शाह की पीठ ने उन्हें मुंबई की जेलों में शिफ्ट करने का आदेश दिया था। 


जेल अधिकारियों से सांठगांठ के चलते जेल बदली
सुप्रीम कोर्ट ने 26 अगस्त को यूनिटेक के पूर्व प्रमोटर संजय चंद्रा और अजय चंद्रा को तिहाड़ जेल से मुंबई की आर्थर रोड जेल और तलोजा जेल में स्थानांतरित करने का आदेश दिया था। शीर्ष कोर्ट ने दिल्ली पुलिस कमिश्नर से तिहाड़ जेल के उन अधिकारियों की व्यक्तिगत रूप से जांच करने के लिए कहा है, जिन्होंने कथित तौर पर चंद्रा के साथ सांठगांठ की थी।



इससे पहले प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कोर्ट को बताया कि यूनिटेक के दोनों पूर्व प्रमोटर संजय और अजय चंद्रा ने जेल से एक डमी निदेशक को प्रभावित करने की भी कोशिश की, जिससे एजेंसी ने पूछताछ की थी। ईडी ने बताया कि यूनिटेक के पूर्व संस्थापकों ने बाहरी दुनिया से संपर्क करने और संपत्तियों का निपटारा करने के लिए तिहाड़ जेल परिसर के बाहर कर्मियों को तैनात किया है। जिसका संचालन दोनों तिहाड़ जेल से ही कर रहे थे।

बता दें कि यूनिटेक के प्रबंध निदेशक संजय चंद्रा अपने भाई अजय चंद्रा के साथ जेल में बंद है। इनके खिलाफ कंपनी की गुरुग्राम स्थित परियोजनाओं के 158 खरीदारों ने आपराधिक मुकदमा दर्ज कराया हुआ है। खरीदारों के अलावा आयकर विभाग ने भी कंपनी पर 950 करोड़ रुपये का कर बकाया होने के चलते खुद को इस मामले में एक पार्टी बनाए जाने का आग्रह सर्वोच्च न्यायालय से किया हुआ है।

अब तक कुल 595.61 करोड़ रुपये की संपत्ति अटैच की जा चुकी
कंपनी और उसके प्रमोटर संजय चंद्रा तथा अजय चंद्रा पर यह भी आरोप है कि उन्होंने अवैध तरीके से 2000 करोड़ रुपये साइप्रस और केमैन द्वीप भेजे। ईडी ने मामले में चार मार्च को शिवालिक समूह, त्रिकार समूह, यूनीटेक समूह और मुंबई एवं एनसीआर में कार्नोस्ती समूह के 35 ठिकानों पर छापे मारे थे। इस मामले में अब तक कुल 595.61 करोड़ रुपये की संपत्ति अटैच की जा चुकी है। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00