लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Job racket Database of 2 lakh email IDs and 1 lakh mobile phone numbers found with 4 Africans staying in Pune

जॉब रैकेट: नौकरी के नाम पर ठगते थे अफ्रीकी, दो लाख ईमेल आईडी और एक लाख फोन नंबर देख फटी रह गईं पुलिस की आंखें

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, मुंबई Published by: निर्मल कांत Updated Wed, 30 Nov 2022 10:47 PM IST
सार

अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने चारों आरोपियों को पुणे में ट्रैक किया, जिनमें से एक ने इंटरनेट का इस्तेमाल करने के लिए अपने वाईफाई राउटर का इस्तेमाल किया था। इन आरोपियों की उम्र 22 से 32 वर्ष के बीच है।

Fraud
Fraud - फोटो : Istock

विस्तार

मुंबई पुलिस की साइबर सेल ने एक जॉब रैकेट का भंडाफोड़ किया है। इस मामले में पुणे से चार अफ्रीकी नागरिकों को गिरफ्तार किया गया। लेकिन साइबर सेल के अधिकारी उस वक्त दंग रह गए, जब उन्होंने आरोपियों के पास से दो लाख ईमेल आईडी और एक लाख से ज्यादा मोबाइल फोन नंबरों का एक डेटाबेस पाया। आरोपी इनका इस्तेमाल ऑनलाइन धोखाधड़ी के लिए करते थे।  



गिरफ्तार किए गए चार आरोपियों में दो महिलाएं भी शामिल हैं। ये चारों आरोपी जाम्बिया, युगांडा, नामीबिया और घाना के नागरिक हैं। एक अधिकारी ने बताया कि ये सभी स्टुडेंट वीजा पर भारत आए थे। इनमें से तीन अफ्रीकी वीजा अवधि समाप्त होने के बाद भी यहां रह रहे थे। 


पुलिस ने यह जांच तक शुरू की जब एक व्यक्ति ने बांद्रा कुर्ला कॉम्पलेक्स में साइबर सेल से संपर्क किया और दावा किया कि अमेरिका में नौकरी देने के नाम पर जालसाजों ने अप्रैल और जुलाई के बीच उससे 26 लाख रुपये की ठगी की है। 

अधिकारी ने बताया कि पुलिस ने चारों आरोपियों को पुणे में ट्रैक किया, जिनमें से एक ने इंटरनेट का इस्तेमाल करने के लिए अपने वाईफाई राउटर का इस्तेमाल किया था। इन आरोपियों की उम्र 22 से 32 वर्ष के बीच है। अधिकारी ने बताया, जांच में पता चला है कि आरोपियों के पास दो लाख ईमेल आईडी, 1 लाख 4 हजार लोगों के मोबाइल नंबर का डेटाबेस था, जिसका इस्तेमाल वे लोगों को ठगने के लिए करते थे। 

पुलिस ने उनसे 13 मोबाइल फोन, 4 लैपटॉप, विभिन्न देशों के पासपोर्ट, तीन इंटरनेट राउटर, विभिन्न बैंकों के 17 चेकबुक, 115 सिम कार्ड, 40 नकली रबर स्टैंप और कम से कम छह अलग-अलग बैंकों में खातों का विवरण भी बरामद किया। 
  
उनके खिलाफ भारतीय दंड संहिता और सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 420 (धोखाधड़ी और बेईमानी से संपत्ति की डिलीवरी) और 120-बी  (साजिश) के तहत एक प्राथमिकी दर्ज की है। 

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00