दुनियाभर के लिए खतरा: महामारी बन सकते हैं टिड्डी दल, अनाज संकट के भी आसार 

मनीष मिश्र, नई दिल्ली Published by: आसिम खान Updated Tue, 07 Jul 2020 02:07 PM IST
टिड्डी दल
टिड्डी दल - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें
कोरोना महामारी के बीच टिड्डी दल किसानों के लिए आफत बन गए हैं। लगातार तीसरे साल में टिड्डियों के पनपने की अनुकूल परिस्थितियों के चलते भारत में टिड्डी महामारी का खतरा बढ़ गया है। यह भारत के उत्तरी राज्य में कहर बरपाते हुए नेपाल तक पहुंच गई हैं और भारत-पाकिस्तान सीमा पर मरुस्थल में बड़ी संख्या में प्रजनन कर रही हैं। यह आने वाले साल में भारत के लिए खतरे के संकेत हैं। इनपर नियंत्रण में लगा तो अनाज का संकट पैदा होने के आसार हैं। 
विज्ञापन


यूएन की संस्था खाद्य एवं कृषि संगठन के जून के अंत में जारी बुलेटिन के अनुसार, अगले कुछ दिनों में नेपाल से टिड्डी दल वापसी करेगा और ईरान और पाकिस्तान से आने वाले दल से मिलेगा। जुलाई के मध्य में होर्न ऑफ अफ्रीका से आने वाले टिड्डी दल भी इसी में जुड़ जाएंगे। इसे देखते हुए पूरे जुलाई में भारत समेत सूडान, इथियोपिया, सोमालिया और पाकिस्तान के हमले को लेकर हाई अलर्ट पर रहने को कहा गया है। 


भारत सरकार के पूर्व एडवाइजर एवं प्रधान वैज्ञानिक डॉ सुशील कहते हैं, अगर लगातार तीसरे साल टिड्डी दल ऐसे ही हमला करता हैं तो इसे टिड्डी महामारी कहा जाएगा। पुराने आंकड़ों को देखें तो इस बार जून के आखिरी सप्ताह में टिड्डी दल ने दिल्ली-एनसीआर को पार किया। जोकि 1926-31 के बीच आई टिड्डी महामारी के बाद पहली दफा है।

प्रजनन के लिए मौसम अनुकूल
डॉक्टर एसएन सुशील कहते हैं, इनका जीवन चक्र दो से चार महीने का होता है। टिड्डियां रेत में 10 सेंटीमीटर नीचे अंडे देती हैं एक पाठ में 80 से 90 अंडे होते हैं। अगर इन्हें मरुस्थल और रेतीली जमीन नहीं मिली, तो यह मर जाएंगे। इस साल मौसम अनुकूल है। एक पीढ़ी में 18 से 20 गुना प्रजनन होता है और दूसरी पीढ़ी में 400 गुना तक बढ़ सकते हैं।

प्रजनन रोकने के उपाय जारी
टिड्डियों के नियंत्रण को किए जा रहे ऑपरेशन की जानकारी देते हुए फरीदाबाद स्थित टिड्डी नियंत्रण केंद्र के उपनिदेशक के एल गुर्जर कहते हैं, यह समय टिड्डियों के प्रजनन का है। सभी ऑपरेशन टिड्डियों के प्रजनन को रोकने के लिए किए जा रहे हैं ताकि आगे पनपने न पाएं। हमारी 60 टीम इसके लिए लगी हैं, हेलीकॉप्टर फायर ब्रिगेड और ड्रोन से कीटनाशक का छिड़काव किया जा रहा है। अभी तक करीब दो लाख हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र को नियंत्रित कर लिया है। एक से डेढ़ लाख हेक्टेयर अभी बाकी है।

नौ राज्यों में फसलों को अधिक नुकसान नहीं
सरकार ने सोमवार को बताया इस वर्ष अप्रैल से नौ राज्यों के ढाई लाख हेक्टेयर क्षेत्र में टिड्डी नियंत्रण अभियान चलाया गया। इन राज्यों में राजस्थान, मध्यप्रदेश, पंजाब, गुजरात, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, हरियाणा और बिहार शामिल हैं। कृषि मंत्रालय ने बताया कि टिड्डी दल के प्रकोप से गुजरात उत्तर प्रदेश मध्यप्रदेश महाराष्ट्र छत्तीसगढ़ बिहार और हरियाणा में फसलों के अधिक नुकसान की सूचना नहीं मिली है। हालांकि राजस्थान के जैसलमेर, बाड़मेर, बीकानेर, जोधपुर, नागौर और भरतपुर तथा उत्तर प्रदेश के झांसी और महोबा जिले में टिड्डी दल सक्रिय हैं।

चार करोड़ टिड्डियां खा सकती हैं 35000 लोगों का खाना
एफपीओ के अनुसार, एक वयस्क टिड्डा हर दिन अपने वजन के बराबर यानी करीब 2 ग्राम खाना खा सकता है। चार करोड़ की संख्या वाला टिड्डियों का एक दल 35,000 लोगों का खाना चट कर सकते हैं। आसमान में उड़ते हुए इन टिड्डी दलों में दस अरब हो सकते हैं। ये सैकड़ों किलोमीटर क्षेत्र में फैले हो सकते हैं।

सोमालिया को घोषित करना पड़ा था आपातकाल
फरवरी 2020 में हालात नियंत्रण के बाहर होने के बाद सोमालिया में टिड्डी हमले को आपातकाल घोषित करना पड़ा। जबकि पाकिस्तान में इस साल अप्रैल में दोबारा से आपातकाल घोषित करना पड़ा। भारत में मार्च से लेकर मई तक कई बार आकस्मिक बारिश टिड्डियों के प्रजनन के लिए काफी सहायक रहीं। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00