Hindi News ›   India News ›   MEA Press Conference over Hamid Ansari attending IAMC Pakistan Afghanistan Canada Balochistan human rights violation and other issues news in Hindi

MEA: हामिद अंसारी मामले में विदेश मंत्रालय ने कहा- हमें दूसरों से प्रमाणीकरण की जरूरत नहीं, चीन और कनाडा मसले पर कही यह बात

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: गौरव पाण्डेय Updated Fri, 28 Jan 2022 06:10 PM IST

सार

शुक्रवार को हुई विदेश मंत्रालय की प्रेसवार्ता में भारतीय अमेरिकी मुस्लिम परिषद कार्यक्रम, बलोचिस्तान में मानवाधिकारों का उल्लंघन, अफगानिस्तान को मानवीय मदद समेत अन्य मुद्दों पर जानकारी साझा की गई।
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची - फोटो : एएनआई
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

विदेश मंत्रालय की ओर से शुक्रवार को एक प्रेस वार्ता का आयोजन किया गया। इसमें मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने विभिन्न मुद्दों पर जानकारी साझा की। इस दौरान उन्होंने भारतीय अमेरिकी मुस्लिम परिषद (आईएएमसी) कार्यक्रम पर भी बात की जिसमें पूर्व उप राष्ट्रपति हामिद अंसारी शामिल हुए थे।
विज्ञापन


मंत्रालय ने कहा कि यह दावा बिल्कुल गलत और ढोंग करने वाला है कि अन्य लोगों को हमारे देश के संविधान की सुरक्षा करने की आवश्यकता है। विदेश मंत्रालय ने कहा कि इस कार्यक्रम के आयोजकों का ट्रैक रिकॉर्ड पूरी तरह से पक्षपाती और प्रतिभागियों के राजनीतिक हितों के समर्थन करने वाला रहा है।


रूस के साथ मिसाइल सौदे पर अमेरिका की नाराजगी पर कही यह बात
एस-400 मिसाइल के लिए रूस के साथ भारत के सौदे पर अमेरिका की नाराजगी को लेकर बागची ने कहा कि भारत और अमेरिका की एक विस्तृत वैश्विक रणनीतिक भागीदारी है। भारत और रूस की विशेष रणनीतिक भागीदारी है। हम एक स्वतंत्र विदेश नीति का अनुसरण करते हैं और यह हमारे रक्षा अधिग्रहण पर भी लागू होता है।

अमेरिका-कनाडा सीमा पर जान गंवाने वाले चारों भारतीय एक परिवार के
इसके साथ ही मंत्रालय ने बताया कि कनाडा के अधिकारियों ने इस बात की पुष्टि की है कि अमेरिकी-कनाडा सीमा पर जान गंवाने वाले सभी चार भारतीय नागरिक एक ही परिवार के थे। मृतकों के परिजनों को सूचना दे दी गई है। बागची ने आगे कहा कि हमारे मिशन इस मामले की जांच के लिए कनाडाई अधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रहे हैं।

चीन के साथ 12 जनवरी को आयोजित हुआ था सैन्य वार्ता का 14वां दौर
विदेश मंत्रालय के मुताबिक, भारत और चीन के बीच कमांडर-स्तरीय बैठक का 14वां दौर इसी साल 12 जनवरी को हुआ था। अगले दौर की बातचीत जल्द से जल्द होगी। आखिरी बातचीत में दोनों पक्षों ने सहमति जताई थी कि एलएसी पर शांति के लिए शेष मुद्दों का समाधान करना होगा। इससे शांति बहाली में मदद मिलेगी। द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए दोनों पक्ष संपर्क में रहने, सैन्य और राजनयिक चैनलों के माध्यम से बातचीत बनाए रखने पर सहमत हुए थे।

यूक्रेन में स्थितियों पर नजर बनाए हुए हैं, शांतिपूर्ण प्रस्ताव लाने की अपील
अरिंदम बागची ने कहा कि हम यूक्रेन में स्थितियों के साथ रूस और अमेरिका के बीच हो रहे उच्च स्तरीय विचार-विमर्श पर भी करीबी निगाह बनाए हुए हैं। हम क्षेत्र में लंबे समय की स्थिरता और शांति के लिए एक शांतिपूर्ण प्रस्ताव का समर्थन करते हैं। 

यूएई के एक जहाज पर बंदी सातों भारतीय नाविक सुरक्षित और स्वस्थ हैं
बागची ने कहा कि संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के जहाज पर मौजूद सात भारतीय नाविक सुरक्षित और स्वस्थ हैं। उन्हें बंदी बनाने वाले उन्हें उनके परिवार के साथ संपर्क करने की अनुमति नहीं दे रहे हैं। हमारे नाविकों की सुरक्षा की जानकारी के लिए और हूती विद्रोहियों को हमारा यह संदेश देने के लिए कि हमारे नाविकों को जल्द ही सुरक्षित रिहा किया जाना चाहिए, भारत सरकार कई सूत्रों के संपर्क में है।

खलिस्तानी प्रदर्शनों को लेकर संबंधित सरकारों से की कार्रवाई की मांग
अमेरिका और मिलान में खलिस्तानी प्रदर्शनों को लेकर मंत्रालय ने कहा कि हाल ही में ऐसी कई घटनाएं हुई हैं जिनमें उग्रवादी तत्तों की ओर से विदेशों में हमारे राजनयिक परिसरों को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की गई है। वाशिंगटन डीसी में महात्मा गांधी की प्रतिमा के साथ तोड़-फोड़ की कोशिश की गई थी। हमने ये मामले संबंधित सरकारों के सामने उठाए हैं और कार्रवाई की मांग की है।

अफगानिस्तान के मानवीय मदद उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है भारत
प्रवक्ता ने कहा कि भारत सरकार अफगानिस्तान के लोगों को मानवीय सहायता उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध है। गेहूं की खरीद और इसे वहां भेजे जाने की प्रक्रिया चल रही है। बता दें कि भारत ने युद्धग्रस्त देश अफगानिस्तान को मानवीय सहायता के तौर पर 50 हजार मीट्रिक टन गेहूं और जीवन रक्षक दवाएं पहुंचाने का एलान किया है।

बलूचिस्तान में मानवाधिकारों का उल्लंघन बंद करें पाकिस्तानी अधिकारी
इसके अलावा, बलूचिस्तान में उत्पीड़न की घटनाओं को लेकर अरिंदम बागची ने कहा कि हम पाकिस्तानी अधिकारियों से अपील करते हैं कि बलूचिस्तान में मानवाधिकारों का उल्लंघन बंद करें और आम जनता का हित सुनिश्चित करें। 

वहीं, बीजिंग विंटर ओलंपिक को लेकर बागची ने कहा कि मुझे लगता है कि एक भारतीय एथलीट ने बीजिंग 2022 विंटर ओलंपिक के लिए क्वालिफाई किया है। उद्घाटन समारोह में और कौन मौजूद रहेगा इसकी जानकारी नहीं है।

 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00