लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

विज्ञापन
Hindi News ›   India News ›   Rahul Gandhi says Another 'do or die' movement like one launched in 1942 needed against 'dictatorial' govt

Rahul Gandhi: 'तानाशाही सरकार के खिलाफ 'करो या मरो' जैसे एक और आंदोलन की जरूरत', राहुल गांधी ने साधा निशाना

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: शिव शरण शुक्ला Updated Mon, 08 Aug 2022 07:37 PM IST
सार

राहुल गांधी ने कहा कि भारत "लोकतंत्र की मृत्यु" देख रहा है। उन्होंने कहा कि इस सरकार में जो कोई भी लोगों के मुद्दों को उठाता है और तानाशाही की शुरुआत के खिलाफ खड़ा होता है, उस पर शातिर तरीके से हमला किया जाता है और उसे जेल में डाल दिया जाता है। 

राहुल गांधी
राहुल गांधी - फोटो : PTI
ख़बर सुनें

विस्तार

महंगाई के मुद्धे पर कांग्रेस बीजेपी सरकार पर हमलावर है। हाल ही में कांग्रेस ने सरकार के खिलाफ देशव्यापी प्रदर्शन भी किया था। वहीं, सोमवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट करके एक बार फिर सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि मौजूदा 'तानाशाही सरकार’ के खिलाफ 1942 में शुरू किए गए 'करो या मरो' आंदोलन की तरह एक और 'करो या मरो' आंदोलन की जरूरत है। उन्होंने आगे कहा कि तानाशाही, महंगाई और बेरोजगारी को भारत छोड़ना होगा।



दरअसल, आज देश भारत छोड़ो आंदोलन की शुरुआत की वर्षगांठ मना रहा है। इस मौके पर हिंदी में एक फेसबुक पोस्ट में राहुल गांधी ने कहा कि 8 अगस्त, 1942 को बॉम्बे से शुरू हुए आंदोलन ने अंग्रेजों की रातों की नींद हराम कर दी थी। उस अगस्त की शाम को लोग बॉम्बे के गोवालिया टैंक मैदान में इकट्ठा होने लगे और गांधी जी ने 'करो या मरो' का नारा दिया, जिसके साथ भारत में ब्रिटिश शासन का अंतिम अध्याय शुरू हुआ। राहुल गांधी ने कहा कि अपनी जान की परवाह किए बगैर देश के लाखों लोग इस आंदोलन का हिस्सा बने। इसमें करीब 940 लोग शहीद हुए और हजारों लोगों को अंग्रेजी सरकार द्वारा गिरफ्तार किया गया। 


राहुल गांधी ने कहा, 'आज, भारत छोड़ो आंदोलन की शुरुआत की वर्षगांठ पर, मैं उन स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि देता हूं जिन्होंने देश की आजादी के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी।' कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने आगे कहा कि आज तानाशाही सरकार के खिलाफ एक और 'करो या मरो' आंदोलन की जरूरत है। देश की रक्षा के लिए अब समय आ गया है जब अन्याय के खिलाफ बोलना जरूरी है। उन्होंने जोर देते हुए कहा कि तानाशाही, महंगाई और बेरोजगारी को भारत छोड़ देना चाहिए।

इतना ही नहीं भाजपा सरकार पर तानाशाही का आरोप लगाते हुए राहुल गांधी ने कहा कि भारत "लोकतंत्र की मृत्यु" देख रहा है। उन्होंने कहा कि इस सरकार में जो कोई भी लोगों के मुद्दों को उठाता है और तानाशाही की शुरुआत के खिलाफ खड़ा होता है, उस पर शातिर तरीके से हमला किया जाता है और उसे जेल में डाल दिया जाता है। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00