Hindi News ›   India News ›   sonia gandhi attack centre over farm laws says modi govt is harrassing farmers mahatma gandhi lal bahadur

सोनिया गांधी का केंद्र पर हमला, कहा- किसानों को मोदी सरकार रुला रही है खून के आंसू

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: Sneha Baluni Updated Fri, 02 Oct 2020 10:16 AM IST
सोनिया गांधी
सोनिया गांधी - फोटो : ANI
विज्ञापन
ख़बर सुनें

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 151वीं जयंती और पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री की 116वीं जयंती के मौके पर कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि किसान कृषि कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। उन्होंने मोदी सरकार पर किसानों को खून के आंसू रुलाने का आरोप लगाया। उन्होंने एक वीडियो संदेश जारी करके सरकार पर हमला बोला है।

विज्ञापन

 

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, 'मेरे प्यारे कांग्रेस के साथियों किसान-मजदूर भाईयों और  बहनों, आज किसानों, मजदूरों और मेहनतकशों के सबसे बड़े हमदर्द महात्मा गांधी की जयंती है। गांधी जी कहते थे भारत की आत्मा, भारत के गांव खेत और खलिहान में बसते हैं। आज जय जवान जय किसान का नारा देने वाले हमारे पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी की भी जयंती है। लेकिन आज देश का किसान और मजदूर कृषि विरोधी तीन काले कानूनों के खिलाफ सड़कों पर आंदोलन कर रहे हैं। अपना खून पसीना देकर देश के लिए अनाज उगाने वाले अन्नदाता किसान को मोदी सरकार खून के आंसू रुला रही है।'


यह भी पढ़ें- कृषि कानून: राहुल ने किसानों से की बात, कहा- पहले पैर में अब दिल में मारी कुल्हाड़ी

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, 'कोरोना महामारी के दौरान हम सबने सरकार से मांग की थी कि हर जरुरतमंद देशवासी को मुफ्त में अनाज मिलना चाहिए। तो क्या हमारे किसान भाईयों के बगैर यह संभव था कि हम करोड़ों लोगों के लिए दो वक्त के भोजन का प्रबंध कर सकते थे। आज देश के प्रधानमंत्री हमारे अन्नदाता किसानों पर घोर अन्याय कर रहे हैं। उनके साथ नाइंसाफी कर रहे हैं।'

सोनिया गांधी ने कहा कि कानून बनाने से पहले किसानों से सलाह मशवरा तक नहीं किया गया। उन्होंने कहा, 'जो किसानों के लिए कानून बनाए गए हैं उनके बारे में उनसे सलाह मशवरा तक नहीं किया गया। बात तक नहीं की गई। यही नहीं उनके हितों को नजरअंदाज करके चंद दोस्तों से बात करके किसान विरोधी तीन काले कानून बना दिए गए हैं। जब संसद में भी कानून बनाते वक्त किसान की आवाज नहीं सुनी गई तो वे अपनी बात शांतिपूर्वक रखने के लिए महात्मा गांधी जी के रास्ते पर चलते हुए मजबूरी में सड़कों पर आए हैं। लोकतंत्र विरोधी, जन विरोधी सरकार द्वारा उनकी बात सुनना तो दूर उनपर लाठियां बरसाई गईं।'

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00