Hindi News ›   India News ›   West Bengal : Anti Cut-Anti Climb fencing introduced along India-Bangladesh border, BSF IG Ajai Singh told

बांग्लादेश सीमा पर आधुनिक तारबंदी: बीएसएफ लगा रहा नई फेंसिंग, घुसपैठिए न तार काट सकेंगे, न ही इन पर चढ़ सकेंगे

एएनआई, कोलकाता Published by: सुरेंद्र जोशी Updated Sat, 29 Jan 2022 07:28 AM IST

सार

सीमा सुरक्षा बल के आईजी अजय सिंह ने बताया कि मौजूदा फेंसिंग काफी पुरानी है। उसकी जगह नई व मजबूत फेंसिंग की जा रही है। करीब 20 किलोमीटर के इलाके में अत्याधुनिक तारबंदी की जा चुकी है। 
बांग्लादेश सीमा पर लगाई जा रही 'एंटी कट-एंटी क्लाइंब' फेंसिंग
बांग्लादेश सीमा पर लगाई जा रही 'एंटी कट-एंटी क्लाइंब' फेंसिंग - फोटो : ANI
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

पश्चिम बंगाल से सटी भारत-बांग्लादेश सीमा पर आधुनिक तारबंदी की जा रही है। बीएसएफ इस सीमा पर ऐसे तार लगवा रहा है, जिन्हें न काटा जा सकेगा और न ही उन पर चढ़ा (Anti Cut-Anti Climb fencing) जा सकेगा। 



बंगाल सीमा (Bengal Frontier) के सीमा सुरक्षा बल के आईजी अजय सिंह ने बताया कि मौजूदा फेंसिंग काफी पुरानी है। उसकी जगह नई व मजबूत फेंसिंग की जा रही है। करीब 20 किलोमीटर के इलाके में अत्याधुनिक तारबंदी की जा चुकी है। आईजी सिंह ने बताया कि इस पर न तो चढ़ा जा सकेगा और न ही इसे काटा जा सकेगा। यह फेंसिंग सस्ती भी और लंबे समय तक चलने वाली भी।


भारत व बांग्लादेश के बीच घुसपैठ बड़ी समस्या है। इस सीमा से तस्करी व अवैध रूप से आवाजाही को रोकने में बीएसएफ मुस्तैदी से जुटी है। इसलिए सीमा पर अत्याधुनिक बागड़ लगाई जा रही है। भारत-पाकिस्तान और भारत-बांग्लादेश सीमा पर घुसपैठ, तस्करी व आतंकी गतिविधियों पर नजर रखने के लिए बीएसएफ कई तकनीकों का इस्तेमाल कर रहा है। इस तकनीक में एंटी टनल सोल्यूशन, आईईडी का पता लगाना व घनी धुंध में बॉर्डर की चौकसी के उपकरण शामिल हैं। 

बीएसएफ देश में मौजूद सर्विलांस उपकरणों की भी मदद ले रहा है। इसका बड़ा फायदा हुआ है। व्यापक एकीकृत सीमा प्रबंधन प्रणाली, जिसे लगाने के काम में बहुराष्ट्रीय कंपनियां लगी हैं, वह महंगा भी है। बॉर्डर सर्विलांस के लिए अब कम खर्चीले एवं स्वदेशी उपकरणों का इस्तेमाल किया जा रहा है।

सीआईबीएमएस तकनीक की मदद
तीन-चार वर्ष पहले बीएसएफ में 'व्यापक एकीकृत सीमा प्रबंधन प्रणाली' (सीआईबीएमएस) का ट्रायल शुरू हुआ था। इस तकनीकी सिस्टम को पाकिस्तान और बांग्लादेश सीमा पर लगाया जा रहा है। इसका बड़ा फायदा यह है कि इसकी मदद से खराब मौसम, धुंध व बर्फबारी के दौरान व्यक्ति, पशु-पक्षी और अन्य किसी उपकरण की तस्वीर बिल्कुल साफ नजर आती है। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00