Nandigram Election Result: जनता ने नहीं बरसाई 'ममता', सुवेंदु बने नंदीग्राम के 'अधिकारी'

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नंदीग्राम Published by: दीप्ति मिश्रा Updated Sun, 02 May 2021 09:29 PM IST

सार

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम विधानसभा सीट का संग्राम बेहद ही रोचक रहा, जहां से 2016 में तृणमूल कांग्रेस ने जीत दर्ज की थी। जानें इस बार जनता ने किस उम्मीदवार को पहनाया ताज...
नंदीग्राम विधानसभा सीट
नंदीग्राम विधानसभा सीट - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

इस बार पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के लिए नाक की लड़ाई बन गया। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में नंदीग्राम विधानसभा सीट का संग्राम बेहद ही रोचक रहा है, जहां से वर्ष 2016 में तृणमूल कांग्रेस ने जीत दर्ज की थी। वहीं इस बार प्रदेश की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को टक्कर देने उनकी ही पार्टी के पूर्व नेता सुवेंदु अधिकारी मैदान में थे। कड़े मुकाबले के बाद सुवेंदु अधिकारी ने 1957 वोट से अपनी सीट बचा ली। इससे पहले, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के 1200 वोट से जीतने की खबरें चल रहीं थीं।
विज्ञापन


नंदीग्राम में विधानसभा सीट पर मुकाबला बेहद रोचक रहा। आखिरी राउंड तक सुवेंदु अधिकारी और ममता बनर्जी के बीच मुकाबला बेहद दिलचस्प बना रहा। कभी ममता बनर्जी बढ़त बना ले रहीं थीं, तो कभी सुवेंदु अधिकारी आगे निकल जा रहे थे। अंत में 1200 वोटों से ममता बनर्जी के जीतने की खबरें चलने लगी। सोशल मीडिया पर ममता बनर्जी को बधाई देने वालों का तांता लग गया। इसके कुछ घंटे बाद बाजी एक बार फिर पलट गई। शाम 6:20 बजे सुवेंदु अधिकारी ने एक बार फिर 1957 वोटों से बढ़त बना ली।


इसके बाद बंगाल के मुख्य चुनाव अधिकारी आरिज आफताब ने घोषणा की कि नंदीग्राम से भाजपा प्रत्याशी सुवेंदु अधिकारी 1957 मतों से विजयी हुए हैं। इसके बाद से टीएमसी के लोग दोबारा मतगणना कराए जाने की मांग करने लगे। 

टीएमसी का गढ़ रहा नंदीग्राम 
बंगाल में आज सुबह से ही सबकी निगाहें नंदीग्राम सीट पर लगी थीं। इसकी सबसे बड़ी वजह थी कि यहां से प्रदेश के दो सबसे कद्दावर नेता ममता बनर्जी और सुवेंदु अधिकारी आमने-सामने मैदान में उतरे हुए थे। बता दें कि पश्चिम बंगाल के पूर्व मेदिनीपुर जिले में आने वाली नंदीग्राम विधानसभा सीट पर एक दशक से ज्यादा समय तक टीएमसी का कब्जा रहा है। वर्ष 2016 में नंदीग्राम में कुल 87 प्रतिशत वोट पड़े। 2016 में तृणमूल कांग्रेस से सुवेंदु अधिकारी ने भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के अब्दुल कबीर सेख को 81230 वोटों के मार्जिन से हराया था।

नंदीग्राम सीट पर ये उम्मीदवार थे मैदान में
नंदीग्राम सीट पर इस बार 8 उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे। इनमें सुवेंदु अधिकारी, मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, सीपीआईएम की उम्मीदवार मीनाक्षी मुखर्जी, सोशलिस्ट यूनिटी सेंटर ऑफ इंडिया (कम्युनिस्ट) के मनोज कुमार दास और निर्दलीय उम्मीदवारों में दीपक कुमार गायेन, सुब्रत बोस, एसके सद्दाम हुसैन और स्वपन पुरुआ शामिल थे। 

नंदीग्राम सीट पर 2009 से है टीएम का कब्जा

  • वर्ष 2016 के विधानसभा चुनाव में इस सीट से टीएमसी के टिकट पर सुवेंदु अधिकारी ने जीत हासिल की। उन्हें 66 प्रतिशत से ज्यादा वोट मिले थे।
  • वर्ष 2011 के विधानसभा चुनाव में टीएमसी की टिकट पर फिरोजा बीबी को जीत मिली थी। उन्हें 61.21 प्रतिशत वोट मिले थे।
  • वर्ष 2009 के उपचुनाव में इस सीट पर टीएमसी की फिरोजा बीबी ने जीत दर्ज की थी। 
  • वर्ष 2006 के विधानसभा चुनाव में इस सीट पर भाकपा के टिकट पर इलियास मोहम्मद विजयी हुए थे। उन्हें 69,376 वोट मिले थे। इलियास ने टीएमसी के एसके सुपियान को हराया था।
  • वर्ष 1996 के विधानसभा चुनाव में इस सीट पर कांग्रेस के देबिशंकर पांडा विजयी हुए थे। पांडा को 61,885 वोट मिले थे।
  • वर्ष 1967 से 1972 तक भाकपा के भूपल चंद्र पांडा इस सीट पर जीतते रहे।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News apps, iOS Hindi News apps और Amarujala Hindi News apps अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00