लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Rajasthan ›   Jaipur News ›   Rajasthan Congress KC Venugopal's warning to remain 'silent' ineffective, Chowdhary blew the bugle of rebelion

Rajasthan Politics: वेणुगोपाल की 'चुप' रहने की चेतावनी बेअसर, अब हरीश चौधरी ने फूंका बगावत का बिगुल

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जयपुर Published by: रवींद्र भजनी Updated Thu, 01 Dec 2022 01:41 PM IST
सार

राजस्थान कांग्रेस के कुनबे की कलह खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। राष्ट्रीय संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल ने दोनों धड़ों को चुप रहने और बयानबाजी न करने की चेतावनी दी थी। इसके बाद पूर्व मंत्री हरीश चौधरी ने बगावत का बिगुल फूंका है। 

विधायक हरीश चौधरी
विधायक हरीश चौधरी - फोटो : Social Media
विज्ञापन

विस्तार

राजस्थान कांग्रेस के कुनबे में कलह शांत करने आए संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल की कोशिशें नाकाम होती नजर आ रही हैं। मंगलवार को उन्होंने भारत जोड़ो यात्रा को लेकर बैठक ली और 'गद्दार' मुद्दे पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच ठनी जुबानी जंग को खत्म करने का प्रयास किया था। 



अब पूर्व मंत्री और पंजाब के प्रभारी हरीश चौधरी ने वेणुगोपाल की चेतावनी का जवाब देने के लिए क्रांतिकारी चे ग्वेरा के प्रसिद्ध बयान का इस्तेमाल किया। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि मैंने कब्रिस्तान में उन लोगों की भी कब्रें देखी हैं, जिन्होंने इसलिए संघर्ष नहीं किया कि कहीं वे मारे नहीं जाएं। खैर, विवाद बढ़ता उससे पहले ही चौधरी ने यह ट्वीट हटा भी लिया। लेकिन, यह तो साफ हो ही गया कि राजस्थान कांग्रेस की अंदरूनी उठापटक कुछ समय के लिए ही थमी है। खासकर राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा से पहले कांग्रेस एकजुट दिखना और दिखाना चाहती है। 


वेणुगोपाल से भिड़ गए थे चौधरी
वेणुगोपाल ने स्पष्ट रूप से सभी नेताओं को चेतावनी दी थी कि अब कोई भी नेता अकारण किसी भी प्रकार की बयानबाजी नहीं करेगा। किसी ने बयानबाजी की तो 24 घंटे में उसे उसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। पार्टी सूत्रों की मानें तो मंगलवार को बैठक के दौरान वेणुगोपाल की चेतावनी पर हरीश चौधरी ने सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा था कि अगर किसी को कुछ बात कहनी है तो वह कैसे कहेगा? इस पर वेणुगोपाल ने चौधरी को फटकारा था। कहा था कि जब आप जैसे जिम्मेदार नेता ही इस तरह करेंगे तो कैसे चलेगा। चौधरी के ट्वीट को इसी चेतावनी का जवाब माना जा रहा है। 

सीनियर मंत्री को इस्तीफा देने से रोका
ओबीसी आरक्षण के मसले पर समाधान निकलने के बाद बाड़मेर में जगह-जगह चौधरी का स्वागत हुआ। इस दौरान चौधरी ने कहा कि ओबीसी आरक्षण के मुद्दे पर वन मंत्री हेमाराम चौधरी इस्तीफा देने वाले थे, लेकिन मेरे अनुरोध करने पर उन्होंने इरादा बदल दिया। पिछली कैबिनेट बैठक में ओबीसी आरक्षण मुद्दे को टालने के बाद कैबिनेट मंत्रियों से मुलाकात की थी। मंत्री हेमाराम चौधरी इसे लेकर मंत्री पद से इस्तीफा देने वाले थे, लेकिन मेरे रिक्वेस्ट करने पर उन्होंने इस्तीफा नहीं दिया। 

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00