बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव
Myjyotish

बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

कोरोना संक्रमण: श्रीनगर के इन इलाकों में कर्फ्यू, राजोरी में आठ छात्रों समेत 148 नए संक्रमित मिले

कश्मीर संभाग में कोरोना के मामलों में एक बार फिर तेजी आ रही है। शुक्रवार को प्रदेश में 148 नए संक्रमित मिले जिसमें 120 लोग सिर्फ कश्मीर से हैं। इसमें भी 66 मामले श्रीनगर के हैं। इसको देखते हुए श्रीनगर जिला प्रशासन ने शहर के छह वार्डो में अगले दस दिन के लिए कर्फ्यू लगा दिया है। डीआरडीओ अस्पताल श्रीनगर में एक संक्रमित मरीज की मौत भी हुई है। जम्मू संभाग के राजोरी जिले में आठ छात्रों सहित 14 लोग संक्रमित पाए गए हैं।
यह भी पढ़ें- 
शहीद के पिता की दर्द भरी दास्तां: बेटे की तलाश में रोज फावड़ा लेकर निकलता था, कई कब्रें खोद डालीं, फिर...    

श्रीनगर में कुल संक्रमितों में 57 स्थानीय स्तर के हैं। इसी जिले में सबसे अधिक 783 सक्रिय मामले हैं। जम्मू संभाग के जिला उधमपुर, कठुआ, सांबा, किश्तवाड़, पुंछ में कोई संक्रमित मामला नहीं मिला। संभाग के सभी जिलों प्रत्येक में 10 से नीचे नए मामले मिले। जिला जम्मू में छह मामले मिले। कश्मीर संभाग के बारामुला में 17 संक्रमित मामले मिले। इस बीच श्रीनगर के जिला आपदा प्रबंधन के अध्यक्ष मोहम्मद एजाज असद की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि जिला पिछले 24 दिनों में जम्मू-कश्मीर में कुल मामलों का लगभग 70 प्रतिशत रिपोर्ट कर रहा है।
यह भी पढ़ें-  उड़ी में 2016 दोहराना चाहते थे आतंकी: भनक लगते ही जवानों ने संभाला मोर्चा, पढ़ें दहशतगर्दों के खात्मे की कहानी    

इन इलाकों में कर्फ्यू 
श्रीनगर के जड़ीबल के वार्ड नंबर 55 हब्बल, वार्ड नंबर 56 आलमगरी बाजार, वार्ड 63 काठी दरवाजा, लाल बाजार के वार्ड 59, लाल बाजार, वार्ड 60 बोटशाह मोहल्ला और वार्ड 61 उमर कॉलोनी में कोरोना कर्फ्यू लागू किया गया है।
... और पढ़ें
जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस जम्मू-कश्मीर में कोरोना वायरस

जम्मू-कश्मीर: 2018 के पंचायत और निकाय चुनाव ड्यूटी करने वालों से 43.29 करोड़ रुपये वसूलेगी सरकार

प्रदेश सरकार वर्ष 2018 में पंचायत और स्थानीय निकाय चुनाव में ड्यूटी करने वाले कर्मचारियों के खाते में गई 43. 29 करोड़ की अतिरिक्त रकम की वसूली करेगी। इसके लिए आदेश जारी कर दिए गए हैं।
सामान्य प्रशासनिक विभाग के आयुक्त सचिव मनोज कुमार द्विवेदी की ओर से जारी आदेश के तहत चुनाव ड्यूटी देने वाले कर्मचारियों के पक्ष में सरकार ने बीस दिसंबर 2018 को एक महीने का अतिरिक्त वेतन जारी करने का आदेश जारी किया गया था।
यह भी पढ़ें- 
शहीद के पिता की दर्द भरी दास्तां: बेटे की तलाश में रोज फावड़ा लेकर निकलता था, कई कब्रें खोद डालीं, फिर...    

प्रदेश में वेतन जारी करने वाले अधिकारियों ने सरकारी आदेश की व्याख्या अपने तरीके से करते हुए कर्मचारियों को एक महीने का अतिरिक्त वेतन जिसमें एचआरए और यात्रा भत्ते आदि भी शामिल थे वह भी कर्मचारियों को जारी कर दिया। इस मामले में प्रदेश के प्रधान लेखा महानिदेशक ने मामला सरकार के संज्ञान में लाया।

इस मामले की जांच में पाया गया कि जेएंडके सिविल सर्विसेज रेगुलेशन के अनुच्छेद 27 बी के तहत वेतन की व्याख्या में स्थानीय भत्ते, मकान किराया भत्ता, प्रतिनियुक्ति भत्ता, यात्रा भत्ता आदि शामिल नहीं होते हैं और कर्मचारियों को 43.29 करोड़ की राशि गलती से जारी हो गई है। 
यह भी पढ़ें-  उड़ी में 2016 दोहराना चाहते थे आतंकी: भनक लगते ही जवानों ने संभाला मोर्चा, पढ़ें दहशतगर्दों के खात्मे की कहानी    

तत्काल वसूली करें
जिन कर्मचारियों को इसका भुगतान किया गया उसमें से कई कर्मचारी सेवानिवृत्त भी हो चुके हैं। इनसे भी वसूली की जाएगी। संबंधित अधिकारियों और ट्रेजरी अफसरों को निर्देश दिया गया है कि वह राशि की तत्काल वसूली करें।

लगभग 15 हजार कर्मचारी
जम्मू-कश्मीर में वर्ष 2018 में हुए पंचायत और स्थानीय निकाय चुनाव में लगभग 15 हजार कर्मचारी चुनाव ड्यूटी में लगाए गए थे।
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: इन कर्मियों को भी मिलेगा ग्रेच्युटी का लाभ, पर पांच साल की नियमित सेवाएं होना जरूरी

जम्मू-कश्मीर में अब 1 जनवरी 2010 के बाद से कार्यरत अस्थायी कर्मचारियों को भी ग्रेच्युटी का लाभ मिलेगा। उन्हें वार्षिक स्तर पर मासिक वेतमान पर एक तिहाई ग्रेच्युटी मिलेगी। इसमें शर्त यह है कि इन कर्मचारियों की नियमित रूप से पांच साल की सेवाएं होनी चाहिए। भले ही निर्धारित अवधि के बाद इन्हें सेवा से अलग कर दिया गया हो। इसके अलावा यदि किसी कर्मचारी का निधन हो गया है तो उसके परिवार का सदस्य ग्रेच्युटी का लाभ पाने का पात्र होगा। 
यह भी पढ़ें-  
उड़ी में 2016 दोहराना चाहते थे आतंकी: भनक लगते ही जवानों ने संभाला मोर्चा, पढ़ें दहशतगर्दों के खात्मे की कहानी    

वित्त विभाग की ओर से जारी आदेश में अनुच्छेद 309 के तहत उप-राज्यपाल ने अपनी शक्तियों का प्रयोग करते हुए रूल 11 जम्मू-कश्मीर सिविल सर्विस (अस्थायी सेवा) रूल्स, 1961 के तहत अस्थायी कर्मियों को ग्रेच्युटी का लाभ दिया है।
यह भी पढ़ें- शहीद के पिता की दर्द भरी दास्तां: बेटे की तलाश में रोज फावड़ा लेकर निकलता था, कई कब्रें खोद डालीं, फिर...    

नई पेंशन योजना (एनपीएस) के शुरू होने के साथ जनवरी 2010 से अस्थायी कर्मियों के लिए ग्रेच्युटी का लाभ दिया गया है। जनवरी 2010 से पहले कार्यरत अस्थायी कर्मियों के लिए पहले से ग्रेच्युटी का प्रावधान है। उसके बाद से हजारों कर्मचारियों को ग्रेच्युटी का प्रावधान नहीं था।
... और पढ़ें

पांच बड़ी खबरें: महबूबा बोली भारत सरकार के फरमानों का नहीं कोई अंत, जम्मू-कश्मीर में इस बार लंबा हो सकता है मानसून

पूर्व मुख्यमंत्री एवं पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने शुक्रवार को फिर एक बार केंद्र पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि जम्मू-कश्मीर के लोगों को सशक्त बनाने के लिए भारत सरकार के फरमानों का कोई भी अंत नहीं है। रोजगार पैदा करने के लिए भारत सरकार के लंबे दावों के विपरीत वे जानबूझकर सरकारी कर्मचारियों को बर्खास्त कर रहे हैं। जबकि वह जानते हैं कि जम्मू-कश्मीर में लोग अपनी आजीविका के लिए सरकारी नौकरियों पर निर्भर हैं। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.......

जम्मू-कश्मीर में अभी भी मानसून सक्रिय है। प्रदेश के कई जिलों में मौसम ने करवट बदली है। लगातार पिछले दो दिनों से कई इलाकों में बारिश हो रही है जिससे पारे में गिरावट आई है। अधिकांश जिलों में रात्रि में ठंडक का अहसास बढ़ा है। जम्मू में गुरुवार की शुरुआत हल्के बादलों के साथ हुई थी। दोपहर को अचानक काली घटाएं छाने के साथ बारिश शुरू हुई। कुछ देर के लिए हुई बारिश से पारे में गिरावट आई है। वहीं शुक्रवार को भी जम्मू-कश्मीर में ठंया मौसम बना रहा। बता दें कि मौसम के बदले मिजाज के बीच जम्मू कश्मीर में मानसून के सामान्य अवधि से बढ़ने की उम्मीद है।
पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.......

ट्राईबल यूथ इंगेजमेंट प्रोग्राम के तहत आदिवासी समुदय के युवाओं को कुशल बनाया जाएगा। युवाओं के कौशल विकास के लिए केंद्रीय विश्वविद्यालय जम्मू में आठ विभिन्न कोर्स में कौशल विकास पाठ्यक्रम शुरू किया जा रहा हैं। यह कोर्स 3 महीने से 2 वर्ष के होंगे। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.......

जम्मू-कश्मीर में एसएसपी व एसपी रैंक के 13 अधिकारियों का तबादला किया गया है। इसमें तीन आईपीएस हैं। गृह विभाग की ओर से गुरुवार की देर रात आदेश जारी किया गया। आदेश के अनुसार प्रतीक्षारत आईपीएस सुनील कुमार को एडीजीपी रेलवे, पुलवामा के एसएसपी आशीष कुमार मिश्रा को अनंतनाग का एसएसपी तथा एडिशनल एसपी अनंतनाग निखिल बोरकर को एसपी गांदरबल बनाया गया है। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.......

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख हाईकोर्ट के न्यायाधीश अली मोहम्मद माग्रे ने वीरवार को श्रीनगर में जेएंडके न्यायिक अकादमी में ई-कोर्ट सेवाओं के लिए एडवोकेट मास्टर ट्रेनरों के चौथे चरण के प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्घाटन किया। न्यायाधीश माग्रे ने कहा कि ई-कोर्ट सेवाओं का बेहतर प्रयोग होना चाहिए ताकि तीव्र न्याय वितरण प्रणाली सुनिश्चित हो सके। पूरी खबर पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.......
... और पढ़ें

डीजीपी दिलबाग सिंह ने कहा: हताश हैं आतंकी संगठन, सीमा पार से घुसपैठ की हर साजिश का देंगे मुंहतोड़ जवाब

jammu kashmir top news
पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। कश्मीर में आतंकी हमलों को अंजाम देने के लिए सीमा पार से साजिशें जारी हैं। गुरुवार को उड़ी सेक्टर में ऐसी ही साजिश को नाकाम करते हुए सेना ने तीन आतंकियों को मार गिराने में सफलता पाई थी। उड़ी में नाकाम की गई इस घुसपैठ को लेकर जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने शुक्रवार को कहा कि पिछले दो महीने में राजोरी और पुंछ में चार मुठभेड़ हो चुकी हैं। ये घटनाएं बताती हैं कि घुसपैठ बढ़ाने के लिए कोशिशें लगातार जारी हैं। इन गतिविधियों में इजाफा होने की संभावना भी है। आतंकियों की किसी भी साजिश का मुंहतोड़ जवाब देने के लिए सुरक्षाबल सक्षम हैं।
यह भी पढ़ें- 
शहीद के पिता की दर्द भरी दास्तां: बेटे की तलाश में रोज फावड़ा लेकर निकलता था, कई कब्रें खोद डालीं, फिर...    

घुसपैठ को नाकाम करने पर घाटी में तैनात सेना की 15वीं कोर के जीओसी लेफ्टिनेंट जनरल डीपी पांडे ने कहा कि पिछले कुछ हफ्तों से हमें लगातार पाकिस्तान में लांच पैड्स पर हरकत की खबर मिल रही थी। यह भी इनपुट थे कि घुसपैठ कराई जाएगी। इसका सबूत हमें उड़ी में 18 सितंबर को की गई कोशिश के दौरान और गुरुवार सुबह दूसरी कोशिश के दौरान देखने को मिला। आतंकियों को इस तरह की घटनाओं को अंजाम देने की छूट दी हुई है। ऐसा संभव नहीं है कि आतंकियों की ऐसी हरकतें पाकिस्तानी सेना कमांडरों की जानकारी के बिना अंजाम दी जा सकें।
यह भी पढ़ें-  उड़ी में 2016 दोहराना चाहते थे आतंकी: भनक लगते ही जवानों ने संभाला मोर्चा, पढ़ें दहशतगर्दों के खात्मे की कहानी    

आतंकी ओजीडब्ल्यू से संपर्क न साध सके, इसलिए संचार सेवा ठप किया
उड़ी ऑपरेशन के दौरान मोबाइल कम्युनिकेशन को ठप करने पर कश्मीर रेंज के आईजीपी विजय कु मार ने कहा कि घुसपैठ करने वाले आतंकी पाकिस्तान में बैठे हैंडलर्स या दक्षिणी कश्मीर या किसी अन्य जगह पर उन्हें रिसीव करने वाले ओजीडब्ल्यू से कांटेक्ट न कर सकें, इसलिए संचार सेवा को बंद किया गया था। उन्होंने कहा कि ऑपरेशन के लिहाज से यह बहुत जरूरी था।

छह आतंकी एक सप्ताह पहले कर रहे घुसपैठ की कोशिश
इस बीच 18 सितंबर की घुसपैठ की कोशिश के बारे में जीओसी डीपी पांडे ने कहा कि उस दिन जहां तक उनके पास जानकारी है, छह आतंकियों के एक समूह ने घुसपैठ की कोशिश की थी। चार आतंकी फेंसिंग के उस तरफ थे जबकि दो इस पार दाखिल हो चुके थे। जब सेना की पार्टी वहां पहुंची तो मुठभेड़ शुरू हो गई। जीओसी ने बताया कि यह सुनिश्चित करने के लिए कि इस ओर कोई भी आतंकी दाखिल नहीं हुआ। इसके लिए घने जंगलों और दुर्गम परिस्थितियों में लगातार तीन दिन तक ऑपरेशन जारी रहा। उन्होंने कहा कि इस बार कुछ नया देखने को मिला है। इस इलाके से काफी देर बाद आतंकियों ने घुसपैठ की कोशिश की है। अक्सर कई अन्य इलाकों से घुसपैठ की कोशिश की जाती रही है और वो रास्ते बंद कर दिए गए हैं। जुलाई, अगस्त में चार आतंकियों ने घुसपैठ की कोशिश की थी और उन्हें मार गिराया गया था।
... और पढ़ें

कश्मीर में दर्दनाक हादसा:  गहरी खाई में गिरने से बीआरओ ट्रक चालक की मौत, उड़ी में मचा कोहराम

कश्मीर के उड़ी में शुक्रवार को बीआरओ(सीमा सड़क संगठन) के एक ट्रक चालक की गहरी खाई में गिरने से मौत हो गई। यह हादसा उस समय हुआ जब चालक ने ट्रक को धोने के लिए कलसन चोलन इलाके में एक पुलिया के पास वाहन खड़ा किया था। इसी दौरान चालक पहाड़ी से गहरी खाई में गिर गया, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। 
यह भी पढ़ें- 
शहीद के पिता की दर्द भरी दास्तां: बेटे की तलाश में रोज फावड़ा लेकर निकलता था, कई कब्रें खोद डालीं, फिर...    

मृतक की पहचान नूरखा उड़ी निवासी सैयद खादिम हुसैन के पुत्र सैयद जाविद हुसैन (32) के रूप में हुई है। हादसे की जानकारी मिलते ही पुलिस की एक टीम मौके पर पहुंची और शव को कब्जे में ले लिया। उधर, बेटे की मौत की सूचना मिलते ही परिवार में कोहराम मच गया।
यह भी पढ़ें-  उड़ी में 2016 दोहराना चाहते थे आतंकी: भनक लगते ही जवानों ने संभाला मोर्चा, पढ़ें दहशतगर्दों के खात्मे की कहानी    
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर: प्रदेश में इस बार लंबा हो सकता है मानसून, बढ़ने लगी ठंडक

बढ़ते कोरोना संक्रमण पर सख्त हुआ प्रशासन: श्रीनगर में 10 दिन के लिए लगाया गया कर्फ्यू, इस बात का रखें ध्यान

कश्मीर संभाग में मुख्य रूप से श्रीनगर में बढ़ते कोरोना संक्रमण को लेकर प्रशासन काफी सतर्क है। इसी के मद्देनजर शुक्रवार से दस दिन के लिए जिले में कोरोना कर्फ्यू का एलान किया गया है। इस दौरान किराना, सब्जी, दूध जैसी दैनिक आवश्यकताओं वाली वस्तुओं की दुकानें सुबह सात बजे से 11 बजे तक ही खुली रहेंगी। कोरोना कर्फ्यू के दौरान नियमों का उल्लंघन करने वालों से प्रशासन सख्ती से निपटेगा।
यह भी पढ़ें- 
शहीद के पिता की दर्द भरी दास्तां: बेटे की तलाश में रोज फावड़ा लेकर निकलता था, कई कब्रें खोद डालीं, फिर...    

गौरतलब है कि कोविड की तीसरी लहर की चुनौतियों के बीच राजधानी श्रीनगर में संक्रमण का प्रसार जारी है। गुरुवार के आंकड़ों के मुताबिक 23 दिन में यहां 1457 संक्रमित मामले मिल चुके हैं। यहां दैनिक आधार पर लगातार 50 से 100 के बीच नए मामले आ रहे हैं। इसके साथ जिला बारामुला, बडगाम और गांदरबल में भी संक्रमण का प्रसार हो रहा है।  
यह भी पढ़ें-  उड़ी में 2016 दोहराना चाहते थे आतंकी: भनक लगते ही जवानों ने संभाला मोर्चा, पढ़ें दहशतगर्दों के खात्मे की कहानी    

प्रदेश में गुरुवार को कुल मिले संक्रमित मामलों में से कश्मीर से 151 मामले थे। कश्मीर के बारामुला में 36, बडगाम में 14, पुलवामा में 10 और गांदरबल में 15 नए संक्रमित मामले मिले। जम्मू संभाग के दस जिलों में फिलहाल स्थिति नियंत्रण में है।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X