Hindi News ›   Jammu and Kashmir ›   Jammu ›   amarnath yatra 2019: national highway to be closed while convoy of pilgrims move

अमरनाथ यात्रा के काफिले के दौरान राष्ट्रीय राज मार्ग पर प्रतिबंध को लेकर राजनीति गरमाई

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, श्रीनगर Published by: जम्मू और कश्मीर ब्यूरो Updated Wed, 03 Jul 2019 02:50 AM IST
अमरनाथ यात्रा
अमरनाथ यात्रा - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें
अमरनाथ यात्रा के दौरान यात्रियों की सुरक्षा को सुनिश्चित बनाने के लिए राष्ट्रीय राजमार्ग पर सिविलियन मूवमेंट पर लगाए गए प्रतिबंध पर राजनीति गरमाने लगी है। नेशनल कांफ्रेंस ने यात्रियों की सुरक्षा को अहम बताते हुए इस फैसले को सही बताया है, जबकि पीडीपी ने इस फैसले को गलत करार दिया।


दरअसल, जारी निर्देश के अनुसार जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग पर यात्रा के काफिले के समय कोई भी सिविल मूवमेंट की अनुमति नाशरी और काजीगुंड के बीच नहीं दी जाएगी। कोशिश की जाएगी कि सुबह 10 से दोपहर 3 के बीच इस इलाके से यात्रा की कानवाई को क्लियर करवाया जाए। सरकार के इस फैसले पर राजनीति होने लगी है।


नेशनल कांफ्रेंस के सीनियर नेता अली मोहम्मद सागर ने कहा कि यात्रा की सुरक्षा बहुत जरूरी है। अगर इसके चलते कोई हादसा होता है तो उससे रियासत की बदनामी होगी। सुरक्षित यात्रा के लिए उचित कदम उठाना सरकार का काम है। लेकिन सरकार को यह भी याद रखना चाहिए कि लोगों ने हमेशा यात्रियों का स्वागत किया है। यहां मजहबी रवादारी वाले लोग रहते हैं जो चाहते हैं कि यात्रा सुगम रहे। लोग अच्छे से यात्रा कर पाएं। यात्रियों की सुरक्षा कश्मीर के लिए भी अहम है।

यात्री हमारे मेहमान हैं। सागर ने यह भी कहा कि इससे पहले भी सिविलियन मूवमेंट पर प्रतिबंध लगाया गया था, जिसको लेकर हमने अदालत का रास्ता अपनाया था। बाद में प्रतिबंध को हटा दिया गया। अब ऐसे में सरकार को यह जरूर ध्यान में रखना चाहिए कि आम लोगों प्रभावित न हो। अगर ऐसा हो रहा है तो एक बार फिर से सरकार और गृह मंत्रालय को विचार कर लेना चाहिए।

दूसरी तरफ पीडीपी ने इस फैसले को गलत करार दिया है। पीडीपी के सीनियर नेता रफी अहमद मीर ने कहा कि जब यहां राज्यपाल शासन था या नहीं था, तब भी यात्रियों की सुरक्षा कश्मीर की स्थानीय जनता ने की है। उन्होंने कहा कि जब कभी कोई आपदा आई, तब यहां के लोग ही सामने आए। मीर ने कहा कि यात्रियों की सुरक्षा का कारण देते हुए स्थानीय लोगों, बीमारों आदि के साथ-साथ खास तौर पर कश्मीर आने वाले सैलानियों को रोकना निहायत गलत फैसला है।

सरकार के पास इतनी फौज है कि वह यात्रियों को सुरक्षित रख सकती है और आम जनता को भी। इसलिए राज्यपाल को इस पर एक बार फिर से गौर करना चाहिए। आम जनता और सैलानियों को किसी प्रकार की दिक्कत न पेश आए। उनको ऐसा माहौल पैदा करना चाहिए कि सभी सुरक्षित महसूस करे। इससे एक गलत संदेश जा रहा है कि वह लोगों को दो कैटेगरी में बांट रहे हैं।

कश्मीर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने की निंदा
यात्रा के काफिले के समय सिविलियन मूवमेंट पर रोक लगाए जाने के फैसले की कश्मीर हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने निंदा की और इस प्रतिबंध को हटाने की मांग की है। राष्ट्रीय राजमार्ग के बाद अब बानिहाल और काजीगुंड के बीच सुबह 10 से दोपहर 3 बजे तक रेल सेवाएं भी स्थगित करने का फैसला रेल प्रबंधन द्वारा लिया गया है।
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00