लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Jammu and Kashmir ›   Jammu News ›   Arrested terrorist Faizal from Jammu was in contact with Pakistani High Commission, NIA found evidence

अमर उजाला एक्सक्लूसिव: जम्मू से गिरफ्तार आतंकी फैजल पाकिस्तानी उच्चायोग के संपर्क में, एनआईए को मिले साक्ष्य

अजय मीनिया, जम्मू Published by: विमल शर्मा Updated Sat, 26 Nov 2022 01:07 PM IST
सार

लश्कर आतंकी फैजल उल मुनीर को जुलाई में जम्मू के खटीकां तालाब से गिरफ्तार किया था। एनआईए को  जांच में पता चला है कि वह पाकिस्तान के लिए जम्मू-कश्मीर में मौजूदा समय में सबसे बड़े मददगार के रूप में काम कर रहा था। उसका लिंक नई दिल्ली स्थित पाकिस्तानी उच्चायोग से भी है। 

एनआईए।
एनआईए। - फोटो : amar ujala
विज्ञापन

विस्तार

दिल्ली में मौजूद पाकिस्तानी उच्चायोग से आतंकी साजिश रचने का शक है। जम्मू के खटीकां तालाब से गिरफ्तार आतंकी फैजल मुनीर से हो रही पूछताछ में कई सनसनीखेज जानकारियां सामने आ रही हैं। एनआईए द्वारा मुनीर से हो रही पूछताछ में पता चला है कि उसके पाकिस्तानी उच्चायोग में भी लिंक हैं।



जांच में यह भी पता चला है कि वह पाकिस्तान के लिए जम्मू-कश्मीर में मौजूदा समय में सबसे बड़े मददगार के रूप में काम कर रहा था, जो कश्मीर में मौजूद आतंकियों तक हथियार, पैसा और विस्फोटक पहुंचा रहा था। 18 जुलाई 2022 को पुलिस ने जम्मू के खटीकां तालाब से लश्कर आतंकी फैजल उल मुनीर को गिरफ्तार किया था।


जो जम्मू और कठुआ इलाके में पाकिस्तान के भेजे गए 14 ड्रोन से हथियार लेकर कश्मीर पहुंचा चुका था। वह 2002 में जम्मू में हुए ग्रेनेड हमले में भी शामिल था। एक तरह से यह जम्मू में ड्रोन से भेजे जाने हथियारों को लेने और आतंकियों तक पहुंचाने का मुख्य जरिया था।

इस मामले की जांच अब एनआईए कर रही है। एनआई की पूछताछ में कुछ ऐसे सबूत मिले हैं, जिससे यह पता चला है कि उसकी पाकिस्तानी उच्चायोग में मौजूद कुछ लोगों से बात होती थी। किन लोगों से पूछताछ होती है, इसका पता लगाया जा रहा है। 

धमाके की आवाज सुनी, नहीं तो टीवी पर देख लेना

आतंकी फैजल का जम्मू वायुसेना स्टेशन पर हुए ड्रोन हमले में भी हाथ होने का शक है। उससे पूछताछ में कुछ ऐसी जानकारियां मिली हैं, जो इशारा करती हैं कि उसे हमले की जानकारी थी। हालांकि अभी वह इस बात को कबूल नहीं कर रहा। 26 और 27 जून 2021 को वायुसेना स्टेशन पर दो ड्रोन ने हमला किया था।

आतंकी फैजल ने एनआईए की पूछताछ में बताया कि इसी रात हमले के तुरंत बाद पाकिस्तान में बैठे हैंडलर ट्रंप ने उसे फोन किया। उससे पूछा कि उसे किसी धमाके की आवाज आई है। उसने कहा कि मैंने नहीं सुनी। फिर से पूछा कि क्या हुआ है।

विज्ञापन

इस पर हैंडलर ने आगे से कहा कि अगर नहीं आई तो कोई बात नहीं। थोड़ी देर बाद न्यूज चैनल पर सुन लेना या फिर अखबार पढ़ लेना। सबकुछ पता चल जाएगा। इसके बाद उसे पता चला कि वायुसेना स्टेशन पर हमला हुआ है। 

30 से अधिक ड्रोन से गिराए हथियार पहुंचाए

सूत्रों का कहना है कि पिछले 2 साल से जम्मू संभाग में पाकिस्तान द्वारा ड्रोन से भेजे जाने वाले हथियारों को आतंकियों तक फैजल मुनीर पहुंचा रहा था। पकड़े जाने से पहले वह 30 ड्रोन से आए 50 पिस्टल, 30 आईईडी, 10 राइफलें अपने गुर्गों के जरिये और खुद पहुंचा चुका था। 20 जून 2020 को कठुआ के मनियारी में ड्रोन मार गिराया गया था। यह ड्रोन मुनीर के कहने पर ही आया था।

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00