बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
मंगलवार को इन 4 राशिवालों की पलटेगी किस्मत, जेब में आएगा पैसा
Myjyotish

मंगलवार को इन 4 राशिवालों की पलटेगी किस्मत, जेब में आएगा पैसा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

अवाम की आवाज: उप-राज्यपाल ने सराहा नर्स का काम, जानिए मीना शर्मा ने क्या कहा

कोरोना काल में डॉक्टरों और फ्रंट लाइन कोरोना वारियर्स जिसमें नर्स और अन्य पैरा मेडिकल स्टाफ की तरह फीमेल मल्टीपर्पस हेल्थ वर्कर मीना शर्मा कोविड मरीजो...

21 मई 2021

विज्ञापन
Digital Edition

ध्यान दें: सोपोर हमले में शामिल तीन आतंकियों पर 10-10 लाख का इनाम घोषित, लगाए गए पोस्टर

उत्तरी कश्मीर के बारामुला जिले के आरामपोरा सोपोर में सुरक्षाबलों पर हुए आतंकी हमले में शामिल लश्कर-ए-तैयबा के तीन आतंकियों पर पुलिस ने 10-10 लाख रुपये का इनाम घोषित किया है। हमले में शामिल आतंकी तीन आतंकियों मुदस्सिर पंडित, फयाज वार और खुर्शीद अहमद के पोस्टर पुलिस ने जारी किए हैं। हमले के दो दिन बाद तीनों आतंकियो के पोस्टर खंभे, दीवारों पर लगाए गए हैं। जानकारी देने वाले की पहचान गुप्त रखी जाएगी। पुलिस ने सूचना देने के लिए फोन नंबर भी जारी किए हैं। 

मुदस्सिर पंडित का जन्म सोपोर के डांगरपोरा गांव में 2 दिसंबर 1995 को हुआ था। इलाके के हायर सेकेंडरी स्कूल से पढ़ाई के बाद उसने सोपोर के हसन मोटर्स में बाइक मैकेनिक का काम शुरू किया। वर्ष 2016 से 2019 तक वहां काम करने के बाद 23 जून 2019 को वह आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हो गया। मुदस्सिर ए कैटेगरी का आतंकी है। 

फयाज अहमद वार 2 अप्रैल 1986 को सोपोर के वारपोरा गांव में पैदा हुआ था। गवर्नमेंट हाई स्कूल बटिंगू में 9वीं तक की पढ़ाई के बाद उसने स्कूल छोड़ दिया। एक साल तक घर पर ही बैठा रहा। इस दौरान वह राष्ट्र विरोधी गतिविधियों में शामिल होता रहा और वर्ष 2008 में एक सक्रिय आतंकी बना। करीब 8 महीने बाद उसने श्रीनगर में आत्मसमर्पण किया और वहां से छूटने के बाद हिजबुल मुजाहिदीन के लिए ओजीडब्ल्यू के तौर पर काम करना शुरू कर दिया। इस बीच उसे हिज्ब के इम्तियाज अहमद कांदरू की तरफ से उन लोगों को मारने के निर्देश दिए गए, जिनके घरों में मोबाइल टावर लगे हुए थे। उसने कई पुलिसकर्मियों को भी निशाना बनाया। 4 मार्च 2020 को वह लश्कर में शामिल हो गया। इस समय वह बी कैटेगरी का आतंकी है। तीसरा आतंकी खुर्शीद अहमद मीर सोपोर के ब्रथ कलां का रहने वाला है और लश्कर का सी कैटेगरी का आतंकी है।
          
घाटी में 150 आतंकी सक्रिय 
गत शनिवार को सोपोर में आतंकी हमले में पुलिस के दो जवान कांस्टेबल शौकत अहमद और कांस्टेबल वसीम अहमद शहीद हो गए थे। साथ ही दो आम नागरिक मंजूर अहमद और बशीर अहमद मारे गए थे। पुलिस के अनुसार जहां कश्मीर घाटी में करीब 150 सक्रिय आतंकी हैं जिनमें से उत्तरी कश्मीर में 40-50  हैं। इनमें से भी ज्यादातर आतंकी कुपवाड़ा, बारामुला बेल्ट में हैं। सोपोर में एक पाकिस्तानी आतंकी के साथ 4-5 स्थानीय आतंकी सक्रिय थे जिनमें से 2 को मई महीने में मार गिराया गया था जो सोपोर में पार्षदों की हत्या में शामिल थे। अब इस ताजा हमले के बाद आने वाले दिनों में इन बाकी बचे आतंकियों के खिलाफ  एक बड़े ऑपरेशन की तैयारी शुरू कर दी गई है।
... और पढ़ें
आतंकियों को पोस्टर चस्पा आतंकियों को पोस्टर चस्पा

वैष्णो देवी: भक्तों की संख्या में इजाफा, खिल उठे कारोबारियों के चेहरे, देखें माता के धाम की तस्वीरें

जम्मू-कश्मीर में कोरोना के मामलों में कमी और कर्फ्यू में मिल रही ढील का असर माता वैष्णो देवी की यात्रा पर भी देखने को मिल रहा है। शनिवार और रविवार को यात्रा का आंकड़ा करीब 13 हजार के करीब पहुंच गया। इससे कारोबारियों के चेहरे खिल उठे हैं। इसके साथ ही धर्मनगरी सहित भवन व यात्रा मार्ग में रौनक लौट आई है। आगामी दिनों में यात्रा में और इजाफा होने की उम्मीद है। वहीं, रविवार को शाम छह बजे तक करीब पांच हजार भक्त पंजीकरण करवा कर भवन की ओर प्रस्थान कर चुके थे।

प्रदेश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर के कुंद होने और अनलॉक में छूट मिलने से यात्रा में इजाफा देखने को मिल रहा है। देशभर से भक्त मां वैष्णो देवी की प्राकृतिक पिंडियों के दर्शन करने पहुंच रहे हैं। जानकारी अनुसार पिछले सप्ताह शनिवार और रविवार को यात्रा का आंकड़ा छह हजार के पार पहुंचा था।
... और पढ़ें

बदसलूकी:  महिला बोली- पति को टीका नहीं लगाने दूंगी, स्वास्थ्य कर्मी को जड़ा थप्पड़ और कहा चुड़ैल

कोरोना से जंग में कश्मीर घाटी के दूरदराज और दुर्गम इलाकों में जाकर स्वास्थ्य कर्मी लोगों को टीका लगा रहे हैं। इसके लिए कई स्थानों पर लोग स्वास्थ्य कर्मियों का स्वागत कर रहे हैं। इसी बीच एक ऐसा मामला सामने आया है, जिसमें एक महिला ने महिला स्वास्थ्य कर्मी के साथ बदसलूकी की सारी हदें पार कर दीं। महिला के परिजन और मौके पर मौजूद अधिकारी उसे समझाते रहे पर उसने किसी की भी बात न मानी। बार-बार वह महिला कर्मियों को अपमानित कर रही थी।

बता दें कि घाटी में बारामुला के क्रीरी में एक महिला ने स्वास्थ्य विभाग की टीम को अपने पति का टीकाकरण नहीं करने दिया। इतना ही नहीं महिला ने टीम की महिला कर्मियों के साथ बदसलूकी की। कर्मी को थप्पड़ जड़ने के साथ ही महिला ने उन्हें चुड़ैल तक कहा। इसके बाद जमीन में गाड़ देने की धमकी भी दी। महिला की इन सभी हरकतों के बावजूद स्वास्थ्य कर्मी अपना धर्म निभाते हुए उसे समझाती रही।
... और पढ़ें

कश्मीर: फ्लाईओवर और दीवारों पर अद्भुत चित्रकारी दिखा रहे हैं कलाकार, तस्वीरों में करें घाटी का दीदार

स्वास्थ्य कर्मी से बदसलूकी करती महिला
श्रीनगर में स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट शुरू होने के बाद से घाटी के युवा कलाकारों को कश्मीर में आर्ट गैलरी के अभाव के बीच अपने हुनर को सार्वजनिक स्थानों पर पेश करने का मौका पहली बार मिला। यहां के कलाकार फ्लाईओवर, दीवारों और सब-वे पर चित्रों के जरिये अपनी कला का प्रदर्शन कर रहे हैं। एक ओर यहां के कलाकार इस अवसर से काफी खुश हैं वहीं उनकी मांग यह भी है कि बाकी जगहों की तरह कश्मीर में भी आर्ट गैलरी खोली जाए। अधिकारियों के अनुसार यह एक प्रयास है कलाकारों को मौका देने का और साथ ही बाहरी राज्यों से यहां आने वाले लोगों के सामने अपनी संस्कृति को पेश करने का।

कश्मीर के कलाकारों को अपनी कला लोगों तक पहुंचाने में काफी दिक्कतें पेश आती हैं, क्योंकि घाटी में आर्ट गैलरी का अभाव है। स्थानीय कलाकारों के अनुसार वह अपनी कला को सामने नहीं रख पाते हैं, लेकिन स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट ने स्थानीय कलाकारों को पहली बार ऐसा मौका प्रदान किया जिसके जरिये वह फ्लाईओवर, दीवारों और सब-वे पर अपनी कला दिखा सकते हैं।
... और पढ़ें

उम्र के शतकवीर: बोले- कोरोना से टीका ही बचाएगा, 120 साल की ढोली देवी, 124 साल की रहती बेगम की कहानी

कोरोना महामारी से बचाव के लिए एकमात्र विकल्प बताई जा रही वैक्सीन को लेकर भ्रांतियां और हिचकिचाहट भी हैं। लेकिन सौ से ज्यादा वसंत देख चुके बुजुर्गों का उत्साह सारी शंकाएं दूर कर देता है। जम्मू संभाग में उधमपुर जिले के दूरदराज डुडू ब्लॉक के गांव गार कटियास गांव की 120 वर्षीय ढोली देवी वैक्सीन की आइकन बन गई हैं। डोर टू डोर अभियान में जुटी चिकित्सा टीम जब ढोली देवी के घर पहुंची तो वयोवृद्ध ढोली देवी झट से टीका लगवाने के लिए तैयार हो गईं। पहली डोज लगवाने वाली ढोली देवी को कोरोना वैक्सीन आइकन मानते हुए सेना की उत्तरी कमान प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल वाईके जोशी खुद सम्मानित करने घर पहुंचे।

ढोली देवी ने बताया कि वैक्सीन लेने के बाद उन्हें किसी तरह की कोई परेशानी नहीं हुई। सरकार जब कहती है कि टीका ही बचाव का विकल्प है तो इसमें कोई शंका नहीं होनी चाहिए। वहीं ढोली देवी से प्रेरित होकर पूरे गांव ने झट से टीका लगवा लिया। प्रशासन के आला अफसर ढोली देवी को स्वस्थ जीवन की मिसाल और जीवित किवदंती बता रहे हैं।
 
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर:  'हैशटैग कुछ होने वाला है' पर सीआईडी की नजर, भूलकर भी न करें ऐसी गलती

जम्मू-कश्मीर के विभाजन संबंधी सोशल मीडिया पर चल रहीं भड़काऊ पोस्टों पर सीआईडी की पूरी नजर है। इसकी रिपोर्ट तैयार की जा रही है। सूत्रों का कहना है कि सीआईडी पल-पल की जानकारी सरकार को दे रही है कि कौन किस तरह की पोस्ट अपलोड कर रहा है। जरूरत पड़ने पर ऐसा करने वालों पर कार्रवाई भी जा सकती है।

जम्मू को अलग राज्य और कश्मीर को यूटी बनाने को लेकर हर जगह चर्चाओं का बाजार गर्म है। खासकर सोशल मीडिया पर हैशटैग कुछ होने वाला है को लेकर कई लोग पोस्ट अपलोड कर रहे हैं। राजनीतिक दलों के बड़े नेताओं, कारोबारियों, आम लोग, मीडिया और यहां तक कि अफसरशाही भी इसे लेकर अपनी प्रतिक्रियाएं दे रही है। जिस पर सीआईडी की पैनी नजर है। इस कथन में कितनी सच्चाई है, इसका जवाब तो वक्त बताएगा।

बता दें कि कई दिनों से प्रदेश में जम्मू को अलग राज्य बनाने, कश्मीर को यूटी बनाने, जम्मू कश्मीर को फिर से विशेष दर्जा मिलने, परिसीमन आदि से संबंधित पोस्ट अपलोड हो रहे हैं। यह भी बताया जा रहा है कि कश्मीर में 6 हजार से ज्यादा सैन्य जवानों की तैनाती की गई है। 

सीआईडी के एक अधिकारी ने बताया कि किसी भी तरह की पोस्ट और हैशटैग कुछ होने वाला है को लेकर सोशल मीडिया पर अपलोड होने वाली पोस्टों पर हमारी नजर है। यदि कहीं पर कुछ गलत होने की संभावना होगी तो पोस्ट करने वालों पर कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें- 
बदसलूकी: महिला बोली- पति को टीका नहीं लगाने दूंगी, स्वास्थ्य कर्मी को जड़ा थप्पड़ और कहा चुड़ैल    

यह भी पढ़ें- उम्र के शतकवीर: बोले- कोरोना से टीका ही बचाएगा, 120 साल की ढोली देवी, 124 साल की रहती बेगम की कहानी 
... और पढ़ें

जम्मू-कश्मीर : प्रदेश में बिना पंजीकरण के बाहरी नंबर का कोई भी वाहन नहीं चलेगा

दूसरे राज्यों से खरीदे गए वाहनों को अब जम्मू-कश्मीर में दोबारा पंजीकरण करवाना होगा। वाहन मालिकों को अपने गृह जिलों में वाहनों का पंजीकरण करना होगा। प्रदेश परिवहन विभाग ने इसको लेकर आदेश जारी किया है। विभाग ने साफ किया है कि पंजीकरण न कराने पर बाहरी राज्यों के नंबर वाले वाहन पर मोटर व्हीकल एक्ट के तहत उचित कार्रवाई की जाएगी। आयुक्त सचिव परिवहन विभाग हृदेश कुमार ने इसको लेकर आदेश जारी किया है। 

आदेश में कहा कि पंजाब, हरियाणा और दिल्ली से खरीद गए पुराने वाहनों का बिना पंजीकरण प्रदेश में परिचालन से काफी नुकसान हो रहा है। ये वाहन मालिक टोकन टैक्स/रोड टैक्स के भुगतान नहीं कर रहे हैं, जो जेके मोटर वाहन कराधान अधिनियम 1957 के तहत आवश्यक है। ऐसे वाहनों का आतंकी हमालों में भी इस्तेमाल किया जा रहा है। ऐसे में बाहरी राज्य के नंबर वाले वाहन का उनके मालिक को अपने गृह जिले में आरटीओ व एआरटीओ के पास पंजीकरण करवाना होगा। 

विभाग ने मोटर व्हीकल एक्ट की धारा 47 का हवाला देते हुए सर्कुलर में कहा है कि एक राज्य में पंजीकृत वाहन को दूसरे राज्य में एक वर्ष से अधिक की अवधि के लिए रखा गया है तो वाहन मालिक इस अवधि के भीतर पंजीकरण प्राधिकरण को आवेदन करें। स्वामित्व हस्तांतरण से संबंधित धारा 50 के तहत एक ही राज्य के भीतर पंजीकृत वाहन के मामले में हस्तांतरण के 14 दिनों के भीतर हस्तांतरण की तथ्य की रिपोर्ट देनी होगी, ताकि हस्तांतरण की प्रक्रिया पूरी की जा सके।

आरटीओ श्रीनगर ने पहले जारी किया था आदेश 
बाहरी राज्यों के वाहनों का प्रदेश में दोबारा पंजीकरण संबंधी पहला आदेश आरटीओ कश्मीर ने जारी किया था। इस आदेश को हाईकोर्ट में चुनौती दी गई थी, जिसे हाईकोर्ट ने खारिज किया था। अब ये नया आदेश प्रदेश सरकार ने जारी किया है।
... और पढ़ें

पुलिस का गूगल से आग्रह: वहीद पारा और पाकिस्तानी आतंकियों के ई-मेल का विवरण साझा करें

जम्मू-कश्मीर पुलिस ने अमेरिकी अधिकारियों और गूगल से आग्रह किया है कि वह पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती के करीबी वहीद-उर-रहमान पारा द्वारा पाकिस्तान में बैठे आतंकी आकाओं से आदान-प्रदान की गई ई-मेल सामग्री को संरक्षित करने के साथ ही साझा भी करें।

पुलिस द्वारा वहीद पारा के खिलाफ दाखिल आरोप पत्र में कहा गया है कि प्राथमिक तौर पर पाया गया कि पारा ने राजनीतिक लाभ के लिए आतंकवादियों के साथ गठजोड़ किया और उनसे विभिन्न प्रकार की मदद हासिल की। इसके कारण कई आतंकी हमले भी हुए। पारा के खिलाफ मुकदमा शुरू करने के पुलिस के पास पर्याप्त सबूत हैं।

पुलिस की इंटेलिजेंस कश्मीर विंग ने अपने आरोप पत्र में दावा किया कि जांच के दौरान, यह पाया गया कि आरोपी वहीद पाकिस्तान स्थित अलगाववादी और आतंकवादी सरगनाओं  से निर्देश और सलाह प्राप्त करता था। कार्रवाई की रिपोर्ट के साथ आतंकवाद और अलगाववाद को आगे बढ़ाने के लिए कई सूचनाओं को सीमा पार भेजता था। इस महीने की शुरुआत में श्रीनगर की एक अदालत के समक्ष पेश आरोप पत्र में कहा गया है कि पारा कई ई-मेल सेवाओं के माध्यम से जानकारी साझा करता था, जिनमें से तीन को रिकॉर्ड में लाया गया है।

19 पेज की चार्जशीट में कहा गया कि पारा अपनी तीन ई-मेल आईडी के माध्यम से सूचनाओं का आदान-प्रदान करता था। इसका विवरण साझा करने के उचित चैनलों के माध्यम से अमेरिकी अफसरों और गूगल के पास अनुरोध भेजा गया है। चार्जशीट में कहा गया है कि जो जम्मू-कश्मीर पुलिस की सीआईडी विंग का हिस्सा सीआईके ने पारा के मोबाइल फोन से जुड़े व्हाट्सएप चैट, आई क्लाउड का डेटा संग्रह प्रदान करने का अनुरोध किया है।

यह भी पढ़ें- 
जम्मू-कश्मीर: घायल जवानों से मिले डीजीपी, आतंकी मुदासिर पंडित और फयाज सोपोर हमले के मास्टरमाइंड
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us