आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

साजन ग्वालियरी की हास्य रचना: बस यही उम्मीद रखना 

साजन ग्वालियरी की हास्य रचना: बस यही उम्मीद रखना
                
                                                                                 
                            ज़िंदगी में हो रहे हैं हादसे ही हादसे 
                                                                                                

हम मुसीबत में फंसे हैं, घुड़चढ़ी के बाद से 

वे गई हैं माइके तब सांस ली है चैन की 
चार दिन हम भी फिरेंगे हर तरफ़ आज़ाद से 

हमरे वरमाला से पाया मित्र फांसी का मज़ा 
डर नहीं लगता है हमको इसलिए जल्लाद से 

पैदावारी रोकने की साजिशें असफल हुईं 
खूब उत्पादन बढ़ा है यूरिया के खाद से  आगे पढ़ें

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X