जब खलिल जिब्रान ने एक कवि से कहा: तुम्हारी मौत से पहले हम तुम्हारे शब्दों का मूल्य नहीं जान पाएंगे

जब खलिल जिब्रान ने एक कवि से कहा: तुम्हारी मौत से पहले हम तुम्हारे शब्दों का मूल्य नहीं जान पाएंगे
                
                                                             
                            एक कवि से मैंने कहा- ''तुम्हारी मौत से पहले हम तुम्हारे शब्दों का मूल्य नहीं जान पाएंगे।''
                                                                     
                            

उसने कहा- ''ठीक कहते हो। रहस्यों से परदा मौत ही उठा पाती है। और अगर वास्तव में तुम मेरे बारे में जानना चाहते हो तो सुनो, जितना बोल चुका हूं उससे ज्यादा कविता मेरे हृदय में है और जितना लिख चुका हूं उससे ज्यादा मेरे खयालों में है।''

खलिल जिब्रान

अनुवाद: बलराम अग्रवाल

 
1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X