आज का शब्द: आभारी और शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ की कविता- जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला  

आज का शब्द- आभारी और शिवमंगल सिंह ‘सुमन’ की कविता: जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला
                
                                                             
                            'आभारी' यानि जिसके साथ कोई उपकार किया गया हो या उपकृत। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- आभारी। प्रस्तुत है शिवमंगल सिंह 'सुमन' की कविता: जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला
                                                                     
                            

जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला,
उस-उस राही को धन्यवाद।

जीवन अस्थिर अनजाने ही, हो जाता पथ पर मेल कहीं,
सीमित पग डग, लम्बी मंज़िल, तय कर लेना कुछ खेल नहीं।
दाएँ-बाएँ सुख-दुख चलते, सम्मुख चलता पथ का प्रमाद —
जिस-जिस से पथ पर स्नेह मिला,
उस-उस राही को धन्यवाद। आगे पढ़ें

1 month ago
Comments
X