आज का शब्द: निराला और बालकृष्ण शर्मा नवीन की रचना- अपना मृदु गोपाल

आज का शब्द
                
                                                             
                            निराला का अर्थ है- एकांत स्थान, सबसे अलग तरह का, विलक्षण, अनूठा या अपूर्व। अमर उजाला 'हिंदी हैं हम' शब्द श्रृंखला में आज का शब्द है- निराला। प्रस्तुत है बालकृष्ण शर्मा नवीन की रचना- अपना मृदु गोपाल
                                                                     
                            


देखा बेड़ी पहने मैंने अपना मृदु गोपाल, 
अपना मृदु गोपाल, सलौना वह मन मोहन लाल। 

वह प्यारे मुख मंडल वाला, 
वह तेजस्वी, चपल निराला, 
वह गोरा, वह कुछ-कुछ काला, 
वह अपनी धुन का मतवाला, 
जिसको देख उमड़ आती है, वत्सलता बेहाल, 
सलौना वह मन मोहन लाल! 
देखा बेड़ी पहने मैंने अपना मृदु गोपाल— 
सलौना वह मन मोहन लाल।  आगे पढ़ें

1 week ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X