आज का शब्द: वत्सल और गोपाल सिंह नेपाली की कविता कितना कोमल, कितना वत्सल

aaj ka shabd vatsal gopal singh nepali hindi kavita
                
                                                             
                            हिंदी हैं हम शब्द-श्रृंखला में आज का शब्द है वत्सल जिसका अर्थ है 1. संतान के प्रति उत्पन्न स्नेह या प्रेम का भाव 2. प्रेम। कवि गोपाल सिंह नेपाली ने अपनी कविता में इस शब्द का प्रयोग किया है। 
                                                                     
                            

कितना कोमल,
कितना वत्सल,

रे ! जननी का
वह अंतस्तल,

जिसका यह शीतल
करुणा जल,

बहता रहता
युग-युग अविरल
1 month ago
Comments
X