आप अपनी कविता सिर्फ अमर उजाला एप के माध्यम से ही भेज सकते हैं

बेहतर अनुभव के लिए एप का उपयोग करें

विज्ञापन

Mohammad Alvi Ghazal: दिन में परियाँ क्यूँ आती हैं, ऐसी घड़ियाँ क्यूँ आती हैं

उर्दू अदब
                
                                                                                 
                            दिन में परियाँ क्यूँ आती हैं 
                                                                                                

ऐसी घड़ियाँ क्यूँ आती हैं 

अपना घर आने से पहले 
इतनी गलियाँ क्यूँ आती हैं 

बाहर किस का डर लगता है 
घर में चिड़ियाँ क्यूँ आती हैं 

दिन क्यूँ नंगे हो जाते हैं 
रातें उर्यां क्यूँ आती हैं  आगे पढ़ें

1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X