विज्ञापन

Social Media Poetry: ज़रा शिकस्तगी थोड़ी उड़ान रहने दो

Social Media Poetry: ज़रा शिकस्तगी थोड़ी उड़ान रहने दो
                
                                                                                 
                            ज़रा शिकस्तगी थोड़ी उड़ान रहने दो
                                                                                                

बहुत ज़मीन, ज़रा आसमान रहने दो

हमारे दुश्मनों, तुमसे दुआ-सलाम रहे
तेरे शहर में हमारा मक़ान रहने दो

बुलंदियों के लिए सीढ़ियां हज़ार रहें
मगर ज़मीन तलक इक ढलान रहने दो

अब न वो जिस्म न वो आग रही है बाकी
चंद किस्से हैं मगर दरमियान, रहने दो

तेरी आग़ोश में आकर हमें न होश रहे
हमारी रूह में इतनी थकान रहने दो

कभी-कभी ज़रा बेचैन भी करो हमको 
कभी-कभी तो ज़रा इत्मीनान रहने दो

साभार ध्रुव गुप्त की फेसबुक वॉल से  
 
1 month ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
विज्ञापन
X