कठिनाइयों से रीता जीवन मेरे लिए नहीं - बॉब डिलन

Bob dylan translated poem in hindi
                
                                                             
                            

कठिनाइयों से रीता जीवन
मेरे लिए नहीं,
नहीं, मेरे तूफ़ानी मन को यह स्वीकार नहीं।

मुझे तो चाहिए एक महान ऊंचा लक्ष्य
और, उसके लिए उम्रभर संघर्षों का अटूट क्रम।

ओ कला ! तू खोल
मानवता की धरोहर, अपने अमूल्य कोषों के द्वार
मेरे लिए खोल !
अपनी प्रज्ञा और संवेगों के आलिंगन में
अखिल विश्व को बाँध लूँगा मैं !

आओ,
हम बीहड़ और कठिन सुदूर यात्रा पर चलें
आओ, क्योंकि – छिछला, निरुद्देश्य और
लक्ष्यहीन जीवन
हमें स्वीकार नहीं।

हम ऊँघते, क़लम घिसते हुए
उत्पीड़न और लाचारी में नहीं जिएँगे।
हम – आकांक्षा, आक्रोश, आवेग और
अभिमान में जिएँगे।
असली इनसान की तरह जिएंगे।

1 year ago

कमेंट

कमेंट X

😊अति सुंदर 😎बहुत खूब 👌अति उत्तम भाव 👍बहुत बढ़िया.. 🤩लाजवाब 🤩बेहतरीन 🙌क्या खूब कहा 😔बहुत मार्मिक 😀वाह! वाह! क्या बात है! 🤗शानदार 👌गजब 🙏छा गये आप 👏तालियां ✌शाबाश 😍जबरदस्त
X