बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव
Myjyotish

बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

लखनऊ : फर्जी शिक्षकों की नियुक्ति व साल्वर गिरोह का एसटीएफ ने किया खुलासा, तीन गिरफ्तार 

खुद फर्जी तरीके से शिक्षक बना। इसके बाद फर्जी डिग्री पर शिक्षक बनाने की पाठशाला शुरू कर दी। गिरोह का मास्टर माइंड शिकोहाबाद में तैनात शिक्षक है। उसने सैकड़ों लोगों की फर्जी डिग्री पर नौकरी दिलाई। जब परीक्षा लेने वाली संस्थाओं ने सख्ती शुरू की तो जालसाजी का दूसरा अध्याय शुरू कर दिया। उसने टीजीटी, पीजीटी व टीईटी की परीक्षा आयोजित करने वाली कंपनी के प्रोडक्शन मैनेजर से सांठ-गांठ कर लिया। फिर कई लोगों को फर्जी तरीके से नौकरी दिलानी शुरू कर दी। इस गिरोह का पर्दाफाश शुक्रवार को एसटीएफ के डिप्टी एसपी प्रमेश कुमार शुक्ला की टीम ने किया। गिरोह के मास्टर माइंड सहित तीन सदस्यों को गिरफ्तार किया। आरोपियों के पास से कई फर्जी डिग्री, अहम दस्तावेज और नकदी बरामद हुई है।

एसटीएफ के डिप्टी एसपी प्रमेश कुमार शुक्ला की टीम ने शुक्रवार सुबह विभूतिखंड थानाक्षेत्र के पिकप भवन तिराहे के पास से एक जालसाज गिरोह को दबोचा। गिरोह फर्जी शिक्षकों की नियुक्ति कराने, टीजीटी, पीजीटी व टीईटी परीक्षा में पास कराने का ठेका लेता था। इसके बदले में लाखो रुपये की वसूली की जाती थी। एसटीएफ गिरफ्त में आया गिरोह का मास्टर माइंड फिरोजाबाद के शिकोहाबाद के भांडरी निवासी राम निवास उर्फ राम भईया है। वह खुद जूनियर हाईस्कूल में फर्जी तरीके से शिक्षक नियुक्त है। 

इसके अलावा बिहार के गया स्थित चितरंजनपुर का संजय सिंह जो डाटा साफ्ट कंप्यूटर सर्विसेज प्रा. लि. कंपनी का प्रोडक्शन मैनेजर  और आगरा के सिकंदरा का रविन्द्र कुमार उर्फ  रवि शामिल है। रवि वर्तमान में देवरिया के भाटपाररानी में रहता है। वह फर्जी तरीके शिक्षक के रुप में बनकटा में तैनात है। एसटीएफ के मुताबिक तीनों आरोपी शिक्षकों की नियुक्ति व साल्वर गिरोह, परीक्षाकेंद्र का मैनेजमेंट व प्रतियोगी परीक्षाओं का परिणाम तैयार करने वाली कंपनी से सांठ-गांठ कर टीजीटी व पीजीटी व टीईटी के माध्यम से भर्ती कराने का काम करते हैं। उनके इस काम में प्रयागराज स्थित परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय के कुछ कर्मचारियों द्वारा मदद की जाती है।
... और पढ़ें

जुआरियों को छोड़ने के लिए दरोगा ने मांगी घूस: कितने आदमी हैं... हर एक का पांच हजार के हिसाब से 15 हजार रुपये दे जाओ

कितने आदमी हैं... हर एक का पांच हजार के हिसाब से 15 हजार रुपये दे जाओ...। केस दर्ज हो गया तो मुश्किल हो जाएगी...। मेरी बात को समझो। एक बार जो बात कर लेता हूं उस पर टिका रहता हूं। चाहे जान क्यों न चली जाए। पुलिस का एक ऐसा ऑडियो बुधवार दोपहर को वायरल होने पर विभाग में हड़कंप मच गया। डीसीपी मध्य डॉ. ख्याति गर्ग ने रिश्वत मांगने के ऑडियो वायरल होने के मामले में देर शाम कार्रवाई करते हुए हरौनी चौकी इंचार्ज राजेश मिश्रा को निलंबित कर दिया। मामले की जांच एडीसीपी सेंट्रल राजेश श्रीवास्तव को सौंपी है। 



दरोगा राजेश मिश्रा वायरल ऑडियो में बदरी और चमका नाम के बिचौलिये से तीन जुआरियों को छोड़ने के लिए रिश्वत की मांग कर रहा है। दरोगा ने जैसे ही बिचौलिये से बात शुरू की। इस दौरान पूछा कि क्या हुआ। बिचौलिये ने बताया कि 50 हजार की मांग हुई है। यह सब पांच हजार देने को तैयार हैं। इस पर दरोगा ने कहा कि कितने लोग हैं। तो दूसरी तरफ से तीन की संख्या बताई गई। इस पर दरोगा ने पांच हजार के रेट से 15 हजार रुपये की मांग की। बिचौलिये ने हामी भरी और कहा कि बात कर जल्द इंतजाम करता हूं। चर्चा है कि यह पिछले दिनों बंथरा थाना क्षेत्र की एक चौकी में नशेबाज व जुआरियों के खिलाफ  क्षेत्रीय लोगों ने तहरीर दी थी। दरोगा उसी मामले में समझौता कराने को लेकर दलाल से बात कर रहा है। 

इंस्पेक्टर बोले पुराना है ऑडियो
प्रभारी निरीक्षक बंथरा जितेंद्र सिंह के मुताबिक, सोशल मीडिया पर वायरल ऑडियो 8 से 9 महीने पुराना है। उस वक्त हरौनी चौकी प्रभारी हल्का नंबर -3 के प्रभारी थे। इस मामले में जो भी उच्चाधिकारियों द्वारा कार्रवाई की जाएगी। उस पर अमल किया जाएगा। वहीं, देर शाम मामले में डीसीपी ने अपने स्तर पर प्राथमिक जांच की। इसमें दरोगा को दोषी पाया और निलंबित कर दिया। एडीसीपी को जांच सौंपी है। रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। 
... और पढ़ें

यूपी : एटीएस ने यूपी से तीन और को दबोचा, दिल्ली पुलिस ने पूछताछ के बाद तीनों को छोड़ा

आईएसआई मॉड्यूल के तीन और संदिग्धों को यूपी एटीएस ने प्रयागराज, रायबरेली और प्रतापगढ़ से हिरासत में लिया जिसे दिल्ली पुलिस ने पूछताछ के बाद तीनों को छोड़ दिया है। अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि केंद्रीय एजेंसी और दिल्ली स्पेशल सेल के इनपुट पर यूपी से कुल छह लोगों को हिरासत में लेकर दिल्ली स्पेशल सेल के हवाले किया गया था। इनमें से तीन को दिल्ली स्पेशल सेल ने शुरुआती पूछताछ के बाद प्रयागराज के जीशान कमर, रायबरेली के मूल चंद्र और लखनऊ के आमिर जावेद को गिरफ्तार कर लिया था। बाकी तीनों संदिग्धों को दिल्ली स्पेशल सेल ने पूछताछ के बाद छोड़ दिया है।

स्पेशल सेल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि हिरासत में लिए गए ऊंचाहार, रायबरेली के जमील उर्फ जमील खत्री, महेशगंज प्रतापगढ़ के मोहम्मद इम्तियाज और करेली प्रयागराज के ताहिर मदनी का कोई लिंक सामने नहीं आया। जिसके बाद तीनों को उनके परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया। ताहिर को दिल्ली नहीं ले जाया गया और लखनऊ में ही पूछताछ के बाद छोड़ दिया गया।

बता दें कि मंगलवार को दिल्ली स्पेशल सेल के इनपुट पर यूपी, राजस्थान और दिल्ली से 6 लोगों को गिरफ्तार किया गया था। इसमें यूपी के अलावा राजस्थान से मुम्बई महाराष्ट्र निवासी जान मोहम्मद उर्फ समीर, दिल्ली से ओसामा और अबुबकर को गिरफ्तार किया गया था। इनका मंसूबा यूपी, दिल्ली और महाराष्ट्र के साथ देश के अन्य हिस्सों में सीरियल ब्लास्ट करने का था। 
... और पढ़ें

सीतापुर: लगातार तीसरे दिन ईडी की टीम ने जेल में आजम खां से पूछताछ की

जेल में बंद सपा नेता व सांसद आजम खां की मुश्किलें कम नहीं हो रही हैं। पिछले दो दिनों तक पूछताछ करने के बाद बुधवार को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की टीम ने फिर से जेल में दस्तक दी और बंद कमरे में आजम खां से पूछताछ कर रही है।

आजम खान से कई घंटों तक जेल के अंदर पूछताछ की गई। रामपुर सांसद व सपा नेता आजम खां  27 फरवरी 2020 से सीतापुर जेल में कई मामलों में बंद हैं। मेदांता अस्पताल से 10 सितंबर को वह डिस्चार्ज होकर जेल में आए थे।

सोमवार को हाईकोर्ट का आदेश लेकर जेल में पहुंची ईडी की टीम ने करीब तीन घंटे तक आजम खां से बंद कमरे में पूछताछ की थी। मंगलवार को फिर ईडी की टीम ने चार घंटे तक लंबी पूछताछ की थी। इसके बाद टीम के अधिकारी शाम चार बजे जेल से चले गए थे।

मनी लांड्रिंग के मामले में आजम खां से पूछताछ की जा रही है। बुधवार को ईडी टीम फिर से सीतापुर जेल पहुंची। सुबह 11 बजे ईडी ने जेल में दस्तक दी और आजम को बुलाकर बंद कमरे में उनसे पूछताछ की। जेल अधीक्षक सुरेश कुमार सिंह ने बताया कि बुधवार को भी ईडी की टीम में शामिल चंदन पुगलिया व पंकज त्रिपाठी ने आजम खान से पूछताछ की।
... और पढ़ें
आजम खां (फाइल फोटो) आजम खां (फाइल फोटो)

लखनऊ : बीए की छात्रा, व्यापारी और किशोरी का शव फंदे पर लटका मिला

लखनऊ में कृष्णानगर में बीए की छात्रा, गोमतीनगर विस्तार में व्यापारी और तालकटोरा में 12 साल की किशोरी का शव फांसी के फंदे पर लटका मिला है। तीनों मामलों में पुलिस छानबीन कर रही है। कृष्णानगर के भोला खेड़ा निवासी सुगंधित प्रसाद की पुत्री अनुराधा (24) बीए में पढ़ती थी।

मंगलवार सुबह अनुराधा का कमरा न खुलने पर उसके भाई दीपक कुमार वर्मा ने दस्तक दी। काफी देर तक दरवाजा न खुलने पर खिड़की से झांकने पर अनुराधा का शव पंखे में चादर से बंधे फांसी के फंदे पर लटका देख दीपक दंग रह गया। सूचना पर कृष्णानगर कोतवाली के उपनिरीक्षक अरुण कुमार यादव ने मौका मुआयना किया। हालांकि अनुराधा की मौत का कोई कारण नहीं पता चल सका।

मूल रूप से कानपुर नगर के सजेती थाना क्षेत्र के ग्राम धीरपुर निवासी पुत्तन सचान उर्फ द्वारिका प्रसाद गोमतीनगर विस्तार में एसटीपी रोड पर रहते थे। खरगापुर में उनकी सचान ट्रेडर्स के नाम से मौरंग, गिट्टी की दुकान है। मंगलवार सुबह पुत्तन का शव घर के रोशनदान में गमछे से बंधे फांसी के फंदे पर लटका मिला। पुत्तन के तीन पुत्र हैं। गोमतीनगर विस्तार थाने के उपनिरीक्षक भूटान सिंह का कहना है कि मामले में छानबीन की जा रही है।

तालकटोरा थाना क्षेत्र के अशोक विहार में किराए के मकान में रहने वाली मंजू थापा (12) का शव मंगलवार को घर में सीढ़ियों की रेलिंग से बंधे फांसी के फंदे पर लटका मिला है। घटना के वक्त मंजू के परिवार के सभी लोग काम करने गए थे। मंजू की चचेरी बहन रूपा थापा ने तालकटोरा थाने में सूचना दी है। उपनिरीक्षक तिलक ने बताया कि मौका मुआयना करके शव पोस्टमार्टम के लिए भेजकर मंजू के खुदकुशी करने के कारणों की जांच की जा रही है।
... और पढ़ें

लखनऊ में चल रही थी पटाखा फैक्ट्री : धमाके के साथ लगी आग, उड़ गई कमरे की छत, इलाके में दहशत

लखनऊ में गोसाईगंज के अमेठी कस्बे के बाहर खेत में बने एक कमरे में पटाखा फैक्ट्री में धमाके के साथ आग लग गई। हादसा मंगलवार दोपहर को हुआ। ताबड़तोड़ कई धमाकों से पूरा इलाका दहशत में आ गया। धमाका इतना तेज था कि फैक्ट्री की टीन की छत भी उड़ गई। ग्रामीणों ने पानी फेंककर आग पर काबू पाया। हादसे के  वक्त वहां दो फैक्ट्री के मालिक व मजदूर कुछ दूरी पर खाना खा रहे थे। हादसे में कोई हताहत नहीं हुआ। फैक्ट्री में आग से सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं थे।

अमेठी कस्बे से मोहम्मदाबाद मार्ग पर अमेठी निवासी आतिशबाज रेहान की खेत में पटाखा फैक्ट्री है। फैक्ट्री में पटाखे बनने के साथ ही बिक्री भी होती है। मंगलवार दोपहर मजदूर बाहर खाना बना रहे थे। हादसे के समय रेहान भी मौजूद थे। अचानक ताबड़तोड़ कमरे में कई धमाके हुए और कमरे के ऊपर रखी टीन शेड की छत उड़ गई। कमरे से भीषण धुंआ निकल रहा था। मजदूर और रेहान दौड़े कमरे के बाहर बने हौद से पानी निकाल कर फेंकना शुरू किया।

एकाएक कमरे से आग की लपटें निकलने लगीं। सूचना पर नगर पंचायत से पानी का टैंकर भेजा गया। जिसकी मदद से कुछ ही देर में आग पर काबू पा लिया गया। घटना से आस पड़ोस के लोगों की भीड़ जुट गई। पुलिस पहुंची। प्रभारी निरीक्षक गोसाईगंज अमरनाथ वर्मा के मुताबिक रेहान के पास पटाखा बनाने और बिक्री का लाइसेंस है। लाइसेंस वर्ष 2023 तक मान्य है। बरसात में भीगे हुए पटाखे कमरे और बरामदे में सुखाए जा रहे थे। इसी दौरान एकाएक विस्फोट हुआ था। हादसे की जांच की जा रही है। विस्फोट के अलावा फैक्ट्री के मानकों की जांच अग्निशमन विभाग करेगा।

बिना सुरक्षा उपकरणों के चल रही थी फैक्ट्री
पटाखा फैक्ट्री में सुरक्षा मानकों को दरकिनार कर दिया गया था। काफी संवेदनशील होने के बावजूद मालिक रेहान ने सुरक्षा के कोई उपाय नहीं किये थे। बिना अग्नि सुरक्षा उपकरणों के ही पटाखों की फैक्ट्री चला रहा था साथ ही गोदाम भी बना रखा था। इस बिंदु पर पुलिस व अग्निशमन विभाग की टीम जांच कर रही है।
... और पढ़ें

यूपी सरकार ने जारी किए निर्देश : शहरों में गंदगी फैलाने वालों पर होगी सख्ती, लगेगा जुर्माना

पटाखा फैक्ट्री में धमाके के बाद निकलता धुआं
शहरी क्षेत्र में जहां-तहां कूड़ा फेंककर गंदगी व प्रदूषण फैलाने वालों पर शिकंजा कसने की तैयारी है। राष्ट्रीय हरित अभिकरण (एनजीटी) ने शहरों में बढ़ते प्रदूषण पर कड़ी नाराजगी जताते हुए प्रदेश सरकार को इस स्थिति पर सख्ती से कार्यवाही करने का निर्देश दिया है। इसके बाद निदेशक स्थानीय निकाय शकुंतला गौतम ने सभी नगर निकायों को निर्देश जारी कर गंदगी व प्रदूषण फैलाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के साथ ही उन पर जुर्माना लगाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने निर्देश यह भी कहा है कि मेयर व चेयरमैन बोर्ड और सदन की बैठक में समय-समय पर इस मुद्दे पर विचार-विमर्श करते हुए इस व्यवस्था को कड़ाई से पालन कराने के बारे में फैसला करें।

गौरतलब है कि शहरों को साफ-सुथरा रखने के साथ ही बढ़ते वायु प्रदूषण को रोकने के उद्देश्य से सरकार ने कई नियम व अधिनियम बनाए हैं। इनमें ठोस अपशिष्ट प्रबंध नियमावली, प्लास्टिक अपशिष्ट प्रबंधन नियमावली, निर्माण एवं विध्वंस अपशिष्ट प्रबंधन नियमावली, ई-वेस्ट प्रबंधन नियमावली, जैव चिकित्सा अपशिष्ट प्रबंधन नियमावली और जल प्रदूषण निवारण व नियंत्रण अधिनियम आदि शामिल है। इनमें गंदगी फैलाने वालों पर 500 से लेकर 5000 हजार रुपये तक का जुर्माना लगाने का प्रावधान भी है।

इसी महीने कैबिनेट ने भी उप्र ठोस अपशिष्ट (प्रबंधन, संचालन एवं स्वच्छता) नियमावली-2021 को भी मंजूरी दी है। मगर पहले की सभी नियमावली व अधिनियम के प्रावधानों का निकायों द्वारा कड़ाई से पालन न किए जाने से ये सभी सिर्फ कागजों पर ही लागू हैं। इस वजह से शहरों में प्रदूषण कम होने के बजाय दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है। एनजीटी ने इस पर आपत्ति जताते हुए रोक लगाने का निर्देश दिया है।
... और पढ़ें

लखनऊ : रैगिंग से परेशान एमबीबीएस की छात्रा ने छोड़ा कॉलेज, यहीं पढ़ रहे छात्रा के भाई ने भी छोड़ा कॉलेज

सीतापुर रोड स्थित निजी मेडिकल इंस्टीट्यूट में इंटर्न की रैगिंग से परेशान होकर एमबीबीएस सेकेंड ईयर की छात्रा डिप्रेशन में आ गई। परिजनों ने उसे अस्पताल में भर्ती कराया। अब रैगिंग के आरोपी इंटर्न के डर से छात्रा व उसके भाई ने कॉलेज आने से ही इनकार कर दिया है। परिजनों ने कॉलेज प्रशासन से मामले की शिकायत की है। वहीं कॉलेज प्रशासन का कहना है कि वह मामले की जांच कराएगा। यदि इंटर्न दोषी पाया गया तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी।

सीतापुर रोड स्थित हिंद इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस में पढ़ने वाली एमबीबीएस सेकेंड ईयर की छात्रा से कॉलेज का ही इंटर्न आए दिन रैगिंग करता था। छात्रा के परिजनों ने बताया कि उसने इसकी शिकायत कॉलेज प्रशासन से भी की थी, मगर कोई कार्रवाई नहीं की गई। इससे आरोपी इंटर्न के हौसले और बढ़ गए। उसने फिर छात्रा को परेशान करना शुरू कर दिया। रैगिंग से परेशान छात्रा डिप्रेशन में चली गई।

वह अपने संग कॉलेज में पढ़ने वाले भाई संग घर अमरोहा वापस लौट आई। डिप्रेशन की वजह से छात्रा कई दिन तक अस्पताल में भर्ती रही। हालत में सुधार होने पर छात्रा ने पूरी घटना परिजनों से बताई। परिवार वालों ने इसकी शिकायत उच्चाधिकारियों से की। वहीं छात्रा के परिवार वालों का आरोप है कि छात्रा इतनी घबराई हुई है कि कॉलेज जाने से डर रही है। 

छात्रा का भाई जो एमबीबीएस प्रथम वर्ष में है, उसने भी इंर्टन के डर से कॉलेज छोड़ दिया है। छात्रा के परिवार वालों ने पूरे मामले की शिकायत मेडिकल काउंसिल व सीएम से करने की बात कही है। संस्थान के संचालक डॉ. एके सचान ने बताया कि उन्हें अभी मामले की जानकारी नहीं है। परिजनों ने अभी तक कोई लिखित शिकायत नहीं भेजी है। अगर ऐसा हुआ है तो मामले की जांच कराकर इंर्टन पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

जाली नोट तस्करी मामले में वांछित महिला पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार, आईजी एटीएस ने रखा था 50 हजार का इनाम

यूपी एटीएस ने जाली नोट तस्करी में एक साल से वांछित चल रही महिला को पश्चिम बंगाल के मालदा से गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की है। गिरफ्तार की गई महिला का नाम मुमताज बेगम है। यह कार्रवाई एटीएस की वाराणसी यूनिट ने की है।
    
एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि गिरफ्तार की गई मुमताज अपना नाम और पता बदलकर बंगाल के मालदा में रह रही थी। वह जमानत पर रिहा अपने बेटे कबीर के साथ इस कारोबार को संचालित कर रही थी। इंटेलीजेंस इनपुट मिलने के बाद उसे एटीएस की वाराणसी युनिट ने मालदा से गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार महिला को मालदा में न्यायालय में पेश कर लखनऊ लाया जाएगा।
    
उन्होंने बताया कि पिछले साल सितंबर माह में ही आगरा से गिरफ्तार किए गए तहसीन और वसीम के पास से 5 लाख 97 हजार रुपये जाली भारतीय मुद्रा बरामद की गई थी। जांच के दौरान एक दंपत्ति की भूमिका सामने आई थी। गिरफ्तार किए गए अभियुक्तों ने बताया था कि मुमताज बेगम व उसका पति सदर अली मिलकर अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जाली भारतीय मुद्रा की तस्करी कर रहे हैं।

जाली नोट को यूपी के अलावा हरियाणा व एनसीआर क्षेत्र में सप्लाई करते थे। इसमें मुख्य भूमिका मुमताज बेगम की बताई गई थी। मुम्ताज पर आईजी एटीएस द्वारा 50 हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था। इस मामले में महिला का पति सदर अली पूर्व में ही एटीएस द्वारा गिरफ्तार किया जा चुका है, जो लखनऊ जेल में बंद है।
... और पढ़ें

हड़कंप: मुंबई में समुद्र में डूबे 5 लोगों में से दो रायबरेली के, गणेश प्रतिमा विसर्जन के लिए गए थे, एक की मौत

मुंबई के वर्सोवा बीच पर रविवार को गणेश प्रतिमा विसर्जन करते समय पांच लोगो के समुद्र में डूबने से हड़कंप मच गया। इसमें से दो युवक रायबरेली के डीह थाना के नगर पंचायत परशदेपुर कस्बे के वार्ड नम्बर दो रामसागर मोहल्ले के रहने वाले हैं।

रेस्क्यू ऑपरेशन में दो लोगो को बाहर निकाला गया, जिन्हें एम्बुलेंस से अस्पताल में भर्ती कराया गया, वहीं अन्य डूबे लोगों की तलाश जारी है। हादसे में रायबरेली के रहने वाले एक युवक की मौत हो गई।

नगर पंचायत परशदेपुर कस्बे के वार्ड नम्बर दो मोहल्ला रामसागर निवासी रज्जन निर्मल मुंबई के आरटीओ ऑफिस लक्ष्मी स्टेट अंधेरी में परिवार सहित अपना जीवन यापन करता है। रविवार को रज्जन निर्मल के बेटे शिवम् व शुभम निर्मल गणेश प्रतिमा का विसर्जन करने अपने साथियों के साथ वर्सोवा बीच गए थे। जहां प्रतिमा विसर्जन के दौरान पांच लोग समुद्र में डूब गए।

आनन फानन में मौजूद मुम्बई पुलिस ने शिवम् सहित एक अन्य को बाहर निकाला और अस्पताल में भर्ती कराया, वही छोटा भाई शुभम (20) वर्ष कहीं पता नहीं चला। बड़ी मशक्कत के बाद  देर रात शुभम का शव मिला ।शुभम की मौत की खबर पहुंचते ही घर में कोहराम मच गया।

माँ सिरहू देवी का रो-रो कर बुरा हाल है। वहीं, युवक की मौत की खबर परशदेपुर पहुंचते ही घर में मौजूद नानी रामकली व मामा महेश के होश उड़ गए। मामा महेश कुमार ने बताया की सभी लोग मुम्बई में रह कर खुशी-खुशी अपना जीवन यापन कर रहे थे। बेटे की मौत से घर में कोहराम मच गया है।
... और पढ़ें

बाराबंकी: घूस लेते महिला सिपाही का वीडियो वायरल, निलंबित किया गया

देवा कोतवाली में तैनात एक महिला सिपाही का रिश्वत लेते वीडियो वायरल हो गया है। मामला संज्ञान में आने पर एसपी यमुना प्रसाद ने उसे निलंबित कर दिया है।

बताया जा रहा है कि पासपोर्ट वेरिफिकेशन के नाम पर या रिश्वत ली जा रही थी। 2018 बैच की महिला सिपाही रीना करीब दो साल से देवा थाने में तैनात है। इंटरनेट मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा, जिसमें वह एक युवक से रुपये लेकर हस्ताक्षर करा रही हैं।

उस समय वहां कुछ और सिपाही मौजूद हैं। बताया जाता है कि यह रुपये पासपोर्ट वेरीफिकेशन के नाम पर लिए जा रहे थे।

वीडियो में दीवान भी मौजूद बताए जा रहे हैं। वीडियो वायरल होने के बाद एसपी ने इस महिला सिपाही को निलंबित कर दिया है।
... और पढ़ें

लखनऊ: पढ़ाई के लिए टोकने पर बेटे ने पिता को ही मार दी गोली, हालत गंभीर

चिनहट के मटियारी गांव में रविवार सुबह 7.30 पिता ने एक दुकान पर बैठे बेटे को पढ़ाई के लिए फटकार लगाई। इस पर नाराज बेटे ने पिता की ही लाइसेंसी डबल बैरल बंदूक से गोली मार दी। गोली चलने की आवाज सुनकर आसपास केलोग पहुंचे। आनन-फानन में घायल पिता को लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया। जहां हालत गंभीर होने पर उसे ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया। वहीं पुलिस ने बेटे के खिलाफ हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर लिया है। आरोपी की तलाश की जा रही है।

एडीसीपी पूर्वी एसएम कासिम आब्दी के मुताबिक मटियारी गांव में अखिलेश यादव अपने परिवार के साथ रहते हैं। अखिलेश एक निजी सुरक्षा कंपनी में गार्ड के रुप में तैनात हैं। परिवारीजनों के मुताबिक अखिलेश का बेटा अमन दसवीं का छात्र है। रविवार को वह मॉर्निंग वॉक  कर घर पहुंचे। तो देखा उनका 19 साल का बेटा अमन कादिर कबाड़ी की दुकान पर बैठा  था। इस पर अखिलेश ने अमन को फटकार लगाई। पिता की सार्वजनिक रुप से लगाई गई फटकार नागवार गुजरी।

वह नाराज होकर घर के अंदर गया। जहां रखा पिता की लाइसेंसी बंदूक लेकर निकला और उन पर फायरिंग कर दी। गोली अखिलेश के जांघ पर लगी। वह खून से लथपथ होकर गिर गये। वहीं गोली की आवाज सुनकर परिवारीजन व अन्य पड़ोसी बाहर निकले तो अखिलेश को जख्मी देखा। लेकिन अमन वहां से भाग निकला था। आनन-फानन में पुलिस को सूचना दी गई। वहीं घायल अखिलेश को लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां हालत गंभीर होने पर ट्रामा सेंटर के लिए रेफर कर दिया गया।

एडीसीपी पूर्वी कासिम आब्दी के मुताबिक अखिलेश की हालत खतरेसे बाहर है। पिता पर हमला करने के मामले में अमन के खिलाफ हत्या के प्रयास का मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। आरोपी की तलाश की जा रही है। वहीं परिवारीजनों ने पुलिस को बताया कि अमन पढ़ाई में लापरवाही करता था। जिसे लेकर अक्सर उसके पिता नाराज रहते थे। इसी बात पर उसे फटकार लगाई थी।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X