लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Uttar Pradesh ›   Lucknow ›   Shivpal again took a jibe at Akhilesh, told Kansa to those who troubled his father; Yaduvanshis were called

Lucknow: शिवपाल का अखिलेश पर फिर तंज, पिता को कष्ट देने वालों को बताया कंस; यदुवंशियों से किया आह्वान

अमर उजाला ब्यूरो, लखनऊ Published by: पंकज श्रीवास्‍तव Updated Sat, 20 Aug 2022 12:51 AM IST
सार

शिवपाल ने पत्र में कहा है कि जब कोई भी कंस अपने पूज्य पिता को छल बल से अपमानित कर पद से हटाकर आधिपत्य स्थापित करना चाहता है तो धर्म की रक्षा के लिए मां यशोदा के लाल योगेश्वर श्रीकृष्ण अवश्य अवतार लेते हैं और अपने योग माया से अत्याचारों को दंड देकर धर्म की स्थापना करते हैं।

अखिलेश यादव व शिवपाल सिंह यादव।
अखिलेश यादव व शिवपाल सिंह यादव। - फोटो : amar ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

प्रसपा संस्थापक शिवपाल यादव ने जन्माष्टमी पर यदुवंशियों को पत्र लिखकर कुछ इस तरह से शुभकामनाएं दी हैं कि उसके कई मायने निकाले जा रहे हैं। उन्होंने पत्र में लिखा है कि पिता को छल बल से अपमानित कर पद से हटाने वाले कंस को दंड देने के लिए योेगेश्वर श्रीकृष्ण अवतार लेते हैं। प्रसपा भी ऐसी ही विराट नियति और विधान का परिणाम है। 



 माना जा रहा है कि शिवपाल ने इस पत्र के माध्यम से कहीं और ही साधा है। साथ ही यादवों से आह्वान कर किसी सियासी महाभारत की तैयारी भी कर रहे हैं। हालांकि उन्होंने पत्र में किसी का नाम नहीं लिखा है पर सियासी गलियाराें में चर्चा है कि उनके निशाने पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव हैं।




शिवपाल ने पत्र में लिखा कि समाज में जब कोई भी कंस अपने (पूज्य) पिता को छल बल से अपमानित कर पद से हटाकर अनाधिकृत आधिपत्य स्थापित करता है तो धर्म की रक्षा के लिए मां यशोदा के लाल ग्वालों के सखा योगेश्वर श्रीकृष्ण अवश्य अवतार लेते हैं। अपनी योग माया से अत्याचारियों को दंड देकर धर्म की स्थापना करते हैं।  मेरे यदुवंशी भाइयों और बहनों आप सभी धरा पर धर्म रक्षक श्रीकृष्ण के विराट व्यक्तित्व की प्रति छाया है। स्वाभाविक तौर पर ऐसे में धर्म की रक्षा में आपका दायित्व भी महत्वपूर्ण और शाश्वत है। इसलिए हे श्रेष्ठ यदुवंशी वीरों समाज में धर्म की स्थापना, शांति, सुरक्षा, सद्भाव, समरसता, समन्वय एकता और लोक कल्याण के लिए में आप सभी का आह्वान करता हूं। उन्होंने एक कविता भी लिखी जिसकी अंतिम दो पंक्तियां कुछ ऐसी हैं..., ‘मैं चला धर्म ध्वज लिए, अपना कर्तव्य निभाने को, आह्वान तुम्हारा यादव वीरों, देर न करना आने को।’ 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00