बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव
Myjyotish

बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

राज्यपाल ने सराहा: लॉकडाउन में जन्मा बाल लेखक, महज 11 साल की उम्र में लिख डाली ‘वन एंड हॉफ ईयर’

जब हम सच्चाई या फिर कल्पना के करीब होते हैं, तब जन्म लेते हैं शब्द। डर-दहशत, खुशी-हंसी, प्रेम-नफरत जैसी संवेदनाएं जब हमें झकझोरती हैं तो सृजन या विध्व...

25 सितंबर 2021

Digital Edition

राहत: यूपी सरकार ने दी खुली जगहों पर शादी समारोह की अनुमति, इन शर्तों का करना होगा पालन

यूपी सरकार ने कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करते हुए खुले स्थानों पर वैवाहिक समारोह आयोजित करने की अनुमति दे दी है पर मेहमानों की संख्या वेन्यू (कार्यक्रम के स्थान) के क्षेत्रफल के अनुसार होगी। समारोह के मुख्य द्वार पर कोविड हेल्प डेस्क का होना जरूरी होगा।

वहीं, मंगलवार को टीम-9 के साथ हुई बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में जारी कोविड महामारी के खिलाफ लड़ाई में उत्तर प्रदेश सुरक्षित है। ट्रेस, टेस्ट और ट्रीटमेंट की रणनीति से जहां संक्रमण पर प्रभावी नियंत्रण बना है, वहीं 10 करोड़ 39 लाख 55 हजार वैक्सीन लगाकर उत्तर प्रदेश कोविड टीकाकरण में भी देश में प्रथम स्थान पर है।

टीकाकवर के लिए जागरूकता बढ़ी
विगत दिवस एक दिन में 36 लाख 68 हजार 183 लोगों को टीकाकवर मिला। यह देश के किसी राज्य में एक दिन में हुआ सर्वाधिक कोविड टीकाकरण है। इस सराहनीय कार्य के लिए स्वास्थ्यकर्मियों का विशेष अभिनन्दन। टीकाकवर के लिए आमजन की जागरूकता भी बढ़ी है।

यूपी में अब तक 8 करोड़ 42 लाख 80 हजार लोगों को पहली डोज लगी
अब तक प्रदेश में 8 करोड़ 42 लाख 80 हजार लोगों ने टीके की पहली डोज प्राप्त कर ली है। यह टीकाकरण के लिए पात्र प्रदेश की कुल आबादी के 57 फीसदी से ज्यादा है। दूसरी डोज लगाने के लिए विशेष अभियान की जरूरत है। इस दिशा में नियोजित कार्रवाई की जाए। वैक्सीन की उपलब्धता बनाए रखने के लिए भारत सरकार से सतत संवाद-संपर्क बनाए रखें।
... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

बहराइच की स्टील फैक्ट्री में हादसा: क्रेन टूटने से नीचे दबकर एक मजदूर की मौत, तीन गंभीर घायल

बहराइच के आसाम रोड स्थित स्टील फैक्ट्री में क्रेन टूटने से हड़कंप मच गया। अचानक टूटे क्रेन के नीचे पांच मजदूर दब गए जिनमें से एक की मौके पर ही दर्दनाक मौत हो गई जबकि चार घायलों को कड़ी मशक्कत के बाद क्रेन से बाहर निकाला गया। घायलों को आनन-फानन इलाज के लिए जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां पर तीन मजदूरों की हालत गंभीर देखते हुए चिकित्सकों ने उन्हें इलाज के लिए लखनऊ के ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया जबकि एक घायल मजदूर का इलाज बहराइच अस्पताल में चल रहा है। घटना को छुपाने के लिए पांच घंटे तक मिल प्रबंधन ने किसी को अंदर जाने की अनुमति नहीं दी। पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है।

जिले के रिसिया थाना क्षेत्र के आसाम रोड पर सुदेश इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड नाम से स्टील फैक्ट्री है। इसमें पारस ब्रांड की टीएमटी सरिया बनाने का काम होता है जिसमें सैकड़ो मजदूर काम करते है। सरिया मिल में काम करने के दौरान मंगलवार की भोर लगभग चार बजे अचानक क्रेन टूट गई। जिससे काम कर रहे कई मजदूर दब गए।

आसपास के मजदूर तो बाहर निकल गए, लेकिन पांच मजदूर उसी में दबे रहे। काफी मशक्कत के बाद क्रेन को हटाया गया। क्रेन हटने के बाद उसके नीचे दबे बिहार राज्य के निवासी संजय पुत्र केशावर ढोल बजवा की मौके पर ही मौत हो गई जबकि अनिल कुमार पुत्र राजेन्द्र, राहुल कुमार पुत्र श्याम सुंदर, दुर्गेश पुत्र राजेन्द्र (जोकि सभी बिहार राज्य के ही है,) व अमेठी निवासी मोहम्मद हसनैन पुत्र जमी गंभीर रूप से घायल हो गए।

आनन-फानन उन्हें इलाज के लिए जिला अस्पताल लाया गया। जहां पर प्राथमिक उपचार के बाद इलाज के लिए तीन लोगों को लखनऊ ट्रामा सेंटर रेफर कर दिया गया। रिसिया थानाध्यक्ष हेमंत गौड़ ने बताया कि एक मजदूर की मौत हुई है। मामले की जांच की जा रही है। नियमानुसार आगे की कार्रवाई की जा रही हैं।

पत्रकारों को भी धमकाया: हादसे के बाद सुबह से ही फैक्ट्री पर पत्रकार पहुंचने लगे थे। यहां पर पत्रकारों और पुलिस को घुसने से रोक दिया गया। आलाधिकारियों के हस्तक्षेप पर फैक्ट्री के अंदर जाने की अनुमति मिली।
... और पढ़ें

हर सीट पर वार रूम खोलेगी कांग्रेस : प्रियंका गांधी ने प्रतिज्ञा यात्राएं व रैलियों की तैयारियों का लिया जायजा

कांग्रेस हर विधानसभा सीट पर अपना वार रूम खोलने के साथ ही अक्तूबर में प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में प्रतिज्ञा यात्राओं के सात-साथ मंडलस्तरीय रैलियां करेगी। इसको लेकर पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने सोमवार को पार्टी के लिहाज से सबसे अधिक संभावना वाली सौ विधानसभा सीटों पर बनाए गए वार रूम की समीक्षा की।

प्रियंका सोमवार को करीब तीन बजे लखनऊ एयरपोर्ट से सीधे गोखले मार्ग स्थित कौल हाउस पहुंची। यहां कोर ग्रुप के सदस्यों में शामिल प्रभारी राष्ट्रीय सचिव, प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू, विधानमंडल दल की नेता और रणनीतिक टीम के सदस्यों के साथ बैठक की। सूत्रों के मुताबिक, सौ विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी के वार रूम बनाए जा चुके हैं। यह वही सीटें हैं, जहां पिछले तीन विधानसभा चुनावों में कांग्रेस या तो जीती है या प्रत्याशियों का प्रदर्शन अच्छा रहा है। इनमें से 50 सीटों पर प्रत्याशी को हरी झंडी दे दी गई है। शेष 50 सीटों पर एक से ज्यादा प्रत्याशियों को तैयारी करने के लिए कहा गया है। उन्हें बताया गया कि मूल्यांकन में जिसका काम अच्छा होगा, जिसके पक्ष में ज्यादा कार्यकर्ता होंगे, उसी का टिकट फाइनल होगा।

सूत्रों के अनुसार, प्रियंका ने स्टेटस रिपोर्ट लेने के साथ ही वार रूम को चौबीसों घंटे सक्रिय रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सिर्फ बूथ स्तर की तैयारियों को न देखें, बल्कि घोषणाओं व कांग्रेस सरकार की नीतियों को गांव-गांव पहुंचाने के लिए विशेष अभियान चलाएं। इन वार रूम की प्रदेश मुख्यालय के साथ ही केंद्रीय नेतृत्व भी निगरानी करेगा। प्रियंका ने सभी 403 विधानसभा सीटों पर इसी तरह के वार रूम खोलने के लिए कहा है। सूत्रों का कहना है कि प्रियंका लखनऊ प्रवास के दौरान प्रस्तावित प्रतिज्ञा यात्रा के रूट और मुद्दों पर रणनीति तय करेंगी। चुनावी तैयारियों का फॉलोअप लेंगी। संगठन और फ्रंटल पदाधिकारियों के साथ बैठक करेंगी।

मंडलों के साथ लखनऊ में बड़ी जनसभाएं
कांग्रेस नवरात्र में 7 अक्तूबर से प्रतिज्ञा यात्रा निकालेगी। दूसरे दलों की खामियों के साथ अपने वादे आम मतदाताओं को बताए जाएंगे। जोनवार होने वाली यह यात्राएं सभी विधानसभा क्षेत्रों, प्रमुख शहरों, कस्बों और अधिकांश गांवों से गुजरेंगी। मंडल स्तर पर एक बड़ी सभा होगी, जिसमें प्रियंका भी मौजूद रहेंगी। 19 नवंबर को पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी की जयंती के अवसर पर लखनऊ में बड़ी रैली होगी। इसमें पार्टी के सभी प्रमुख वरिष्ठ नेता मौजूद रहेंगे।

वरिष्ठ नेताओं के साथ किया मंथन
कार्यक्रमों की सफलता के लिए प्रियंका ने कई वरिष्ठ नेताओं से लंबी बातचीत कर सांगठनिक कामकाज के संबंध सुझाव लिए। उनसे पार्टी को मजबूत करने और प्रचार में जुटने की अपील भी की। उन्होंने कहा कि उनके सम्मान में कोई कमी नहीं आएगी।
... और पढ़ें

मिशन 2022: तूफानी दौरों से नवंबर तक पूरे प्रदेश को मथ देंगे योगी, सप्ताह में चार से पांच दिन किसी जिले में करेंगे प्रवास

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विधानसभा चुनाव-2022 के लिए अक्तूबर से अपनी चुनावी यात्रा को शुरू करेंगे। प्रत्येक सप्ताह में चार से पांच दिन किसी न किसी सरकारी या संगठनात्मक कार्यक्रम में शिरकत करेंगे। वह हर दिन एक से दो जिलों में जा सकते हैं। वहीं सप्ताह में दो से तीन दिन जिलों में रात्रि विश्राम कर वहां की चुनावी थाह लेने के साथ प्रशासनिक मशीनरी को दुरुस्त करेंगे और संगठन के जरिये चुनावी बिसात बिछाएंगे। भाजपा की कोर कमेटी ने विपक्षी दलों की धार को कुंद करने और चुनाव में भगवा माहौल बनाने के लिए नवंबर तक योगी से पूरा प्रदेश मथाने की योजना बनाई है।

भाजपा के चुनाव प्रभारी एवं केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने 24 सितंबर को लखनऊ में अपनी पहली प्रेस कांफ्रेंस में स्पष्ट कर दिया था कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में लड़ा जाएगा। जानकारों का कहना है कि उससे पहले 23 सितंबर की रात को मुख्यमंत्री आवास पर हुई भाजपा की कोर कमेटी की बैठक में ही चुनाव से पहले योगी के सभी 75 जिलों में दौरों की योजना बन गई थी।

योगी सप्ताह में चार से पांच दिन सरकारी या संगठनात्मक कार्यक्रमों में प्रतिदिन एक से दो जिलों का दौरा करेंगे। योगी को चुनावी चेहरा बनाने के बाद पार्टी ने उनकी लोकप्रियता को वोट बैंक में तब्दील कराने के लिए मजबूत योजना बनाई है। जिलों में किसी न किसी सरकारी परियोजना का उद्घाटन, शिलान्यास और लोकार्पण करेंगे। वहीं भाजपा की ओर से विधानसभा चुनाव के मद्देनजर चलाए जाने वाले विधानसभा सम्मेलनों, युवा मोर्चा, महिला मोर्चा, किसान मोर्चा के कार्यक्रमों में शामिल होंगे।

सरकारी आयोजनों के साथ संगठनात्मक कार्यक्रमों को भी सभा, रैली या सम्मेलन के रूप में आयोजित कर वहां भीड़ जुटाई जाएगी। सरकार और संगठन ने मिलकर योजना बनाई है कि नवंबर तक संगठनात्मक या सरकारी कार्यक्रमों के जरिये नवंबर तक योगी पूरे प्रदेश का चुनावी दौरा कर लें।
... और पढ़ें

आय से अधिक संपत्ति का मामला : पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति की जमानत अर्जी खारिज

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ
आय से अधिक संपत्ति मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा परिवाद को निर्धारित समयसीमा खत्म होने के बाद दाखिल करने को आधार बनाकर पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति की ओर से जमानत दिए जाने की मांग वाली अर्जी को विशेष न्यायाधीश/सत्र न्यायाधीश सर्वेश कुमार ने सोमवार को खारिज कर दिया। कोर्ट ने कहा कि ईडी ने दंड प्रक्रिया संहिता में तय समयसीमा के भीतर ही परिवाद दाखिल किया है।

गौरतलब है कि बीते 24 सितंबर को जमानत दिए जाने की मांग वाली अर्जी देकर पूर्व मंत्री की ओर से बताया गया था कि ईडी की मांग पर आरोपी गायत्री प्रसाद को बी वारंट के जरिए तलब किया था। गत 8 फरवरी को कोर्ट ने उन्हें हिरासत में लिया था, तब से वह जेल में हैं। ईडी ने निर्धारित समय 60 दिन बीतने के बाद कोर्ट में परिवाद दाखिल किया है। लिहाजा आरोपी को दंड प्रक्रिया संहिता के प्रावधानों के तहत जमानत मिलनी चाहिए।

वहीं, ईडी ने जमानत का विरोध करते हुए कहा कि निर्धारित समय के भीतर ही परिवाद दाखिल कर दिया था। इस पर अभियुक्त की ओर से 9 अप्रैल 2021 को जमानत आवेदन प्रस्तुत किया गया। इसके बाद ईडी ने जमानत आवेदन पर भी अपनी आपत्ति दाखिल कर दी थी। आरोपी ने इस मामले में अंतरिम राहत के लिए दो बार हाईकोर्ट की शरण ली, लेकिन कोई राहत नहीं मिला।

वहीं, जमानत अर्जी लंबित रहने पर गायत्री द्वारा सुप्रीम कोर्ट में विशेष अनुमति याचिका दायर कर कहा गया था कि उनके अर्जी पर विशेष अदालत सुनवाई कर निस्तारण नहीं कर रही है। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में पैरवी कर रहे अधिवक्ता ने विशेष अदालत से निर्देश लेकर अदालत को वस्तुस्थिति से अवगत कराया। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने निर्देश दिया था कि प्रार्थना पत्र की सुनवाई आदेश प्रस्तुत करने के दिन ही पूरी कर ली जाए। बचाव पक्ष की ओर से शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट का आदेश प्रस्तुत किया गया। इस पर कोर्ट ने सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रख लिया था और सोमवार को अर्जी खारिज कर दिया।
... और पढ़ें

यूपी: आखिरी पांच वर्षों में से 36 माह की एसीआर नहीं तो रुक जाएगी पदोन्नति, नियमों में हुआ बदलाव

कार्मिकों की पदोन्नति पर विचार के समय यदि आखिरी पांच वर्षों में से तीन की वार्षिक गोपनीय प्रविष्टियां पूरी नहीं हुईं तो पदोन्नति रोक दी जाएगी। मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी ने इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं।

प्रदेश में कर्मचारियों की पदोन्नति पर विभागीय चयन समिति (डीपीसी) विचार करती है। समिति 120 माह (10 वर्ष) में 72 माह से अधिक की वार्षिक गोपनीय प्रविष्टियों के पूर्ण होने पर ही पात्रता सूची में शामिल अधिकारियों का वर्गीकरण करती है। प्रविष्टियां पूरी न होने पर चयन को रोक दिया जाता है।

मुख्य सचिव ने कहा है कि पदोन्नति की सामान्य व्यवस्था के अलावा 10 वर्षों की प्रविष्टियों के आधार पर वर्गीकरण के समय देखा जाए कि अंतिम 5 वर्षों में 36 माह की वार्षिक गोपनीय प्रविष्टियां जरूर पूर्ण हों। अन्यथा की दशा में पदोन्नति पर विचार स्थगित रखा जाए।

इस तरह 72 माह की प्रविष्टियां तो अब भी आवश्यक हैं, लेकिन आखिरी पांच वर्ष में तीन की प्रविष्टियों की उपलब्धता अनिवार्य कर दी गई है। बताया जा रहा है कि पीसीएस से आईएएस संवर्ग में पदोन्नति के समय आखिरी पांच वर्षों की वार्षिक मूल्यांकन प्रविष्टियां देखी जाती हैं। यह व्यवस्था उसी हिसाब से आगे बढ़ाई गई है। पदोन्नति के समय नवीनतम प्रविष्टियों को ज्यादा महत्व दिया जा रहा है।
... और पढ़ें

धर्मांतरण मामला : उमर के पकड़े जाने के बाद से ही पैसों को ठिकाने लगाने लगा था कलीम, सात दिनों के लिए मिली रिमांड

अवैध धर्मांतरण मामले में गिरफ्त में आया मौलाना कलीम सिद्दीकी नए नए खुलासे कर रहा है। कलीम से पूछताछ के दौरान एटीएस को पता चला है कि 21 जून को अवैध धर्मांतरण मामले में उमर गौतम के पकड़े जाने के बाद से ही कलीम व उसके साथियों को पकड़े जाने का डर सताने लगा था। यही वजह थी कि कलीम ने ट्रस्ट में आए पैसों को तेजी से खर्च करना भी शुरू कर दिया था।
    
सूत्रों के अनुसार कलीम ने अपने करीबियों को पैसे देकर न सिर्फ अलग अलग स्थानों पर जमीन और मकान खरीदवाए बल्कि महंगी गाड़ियां भी खरीदी गईं। इदरीस कुरैशी के नाम पर तीन महीने पहले मुजफ्फरनगर में 60 लाख रुपये मकान में खर्च किया जाना और ढाई लाख रुपये की मोटर साइकिल खरीदा जाना इसकी तस्दीक करता है।

अब एटीएस पता लगाने की कोशिश कर रही है कि कलीम ने ट्रस्ट के खातों में आई रकम को और कहां-कहां, कब-कब खर्च किया। सूत्रों का कहना है कि एटीएस को यह भी जानकारी मिली है कि दिल्ली के ओखला में भी मकान के नाम पर मोटी रकम खर्च की गई है। एटीएस इन सबका ब्यौरा जुटा रही है। वहीं एटीएस के सूत्रों का कहना है कि कलीम के साथ-साथ उसके सहयोगियों के खातों को भी खंगाला जा रहा है। एटीएस जिन खातों में करोड़ों रुपये मिले हैं उनका भी सोर्स पता लगाने की कोशिश कर रही है।

सात दिन की रिमांड पर इदरीस, सलीम और कुणाल
उधर, रविवार को गिरफ्तार किए गए कलीम सिद्दीकी के साथी इदरीस कुरैशी, मोहम्मद सलीम और कुणाल चौधरी उर्फ आतिफ को सात दिनों की रिमांड पर न्यायालय ने एटीएस के सुपुर्द करने का आदेश दिया है। रिमांड मंगलवार सुबह 10 बजे से चार अक्तूबर शाम पांच बजे तक के लिए मंजूर की गई है। एटीएस के अधिकारियों का कहना है कि यह तीनों कलीम के काफी करीबी हैं। इन तीनों के पास कलीम की संपत्तियों और ट्रस्ट के खातों में आए पैसों के खर्च का एटीएस पता लगाएगी।
... और पढ़ें

बीएड : कल तक जमा करें सीट कंफर्मेशन शुल्क, दूसरे चरण के लिए रजिस्ट्रेशन 28 सितंबर तक

बीएड काउंसलिंग के पहले चरण में सीट आवंटन वाले अभ्यर्थी 29 सितंबर तक अपना कंफर्मेशन शुल्क जमा कर सकते हैं। 5000 रुपये से कम फीस वाले अभ्यर्थियों को लखनऊ विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर लॉगिन कर सीट आवंटन का लेटर डाउनलोड करना होगा।

बीएड प्रवेश परीक्षा की राज्य समन्वयक प्रो. अमिता बाजपेयी ने बताया कि अन्य सीट आवंटित अभ्यर्थियों को वेबसाइट पर लॉगिन कर कॉलेज का बाकी शुल्क जमा कर आवंटन लेटर डाउनलोड करना होगा।

उन्होंने बताया कि इस प्रक्रिया को न पूरी करने पर अभ्यर्थियों का सीट आवंटन निरस्त हो जायेगा। अभ्यर्थियों को आवंटन पत्र तथा मूल प्रमाण पत्रों के साथ आवंटित महाविद्यालय में तीन दिन में फिजिकल रिपोर्टिंग करनी होगी। वहीं, दूसरे चरण में स्टेट रैंक 75,001 से 2,00,000 तक के अभ्यर्थियों का पंजीकरण 28 सितंबर तक चलेगा। इसका परिणाम 30 सितंबर को वेबसाइट पर जारी किया जाएगा।

उन्होंने अभ्यर्थियों को सुझाव दिया कि वे च्वॉइस फिलिंग प्रक्रिया में महाविद्यालय चयन के पूर्व वेबसाइट पर महाविद्यालयों की सूची से अपनी पसंद के महाविद्यालयों के कोड नोट कर अपनी रुचि के क्रम में अधिकाधिक संख्या में भरें। एक बार विकल्प लॉक होने पर किसी भी प्रकार का बदलाव संभव नहीं है।
... और पढ़ें

दिव्यांग महिला को बंधक बनाकर सामूहिक दुष्कर्म, चार गिरफ्तार, ऑटो चालकों ने दिया वारदात को अंजाम

आलमबाग में दिव्यांग महिला को बंधक बनाकर सामूहिक दुष्कर्म किया गया। वारदात को अंजाम देने वाले आरोपियों की संख्या नौ बताई जा रही है। वारदात को आरोपियों ने आलमबाग थानाक्षेत्र के बीजी रेलवे कालोनी में अंजाम दिया। विरोध करने पर महिला की जमकर पिटाई की गई। पुलिस ने पीड़िता की तहरीर पर मुकदमा दर्ज किया गया। पुलिस ने इस मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। अन्य पांच की तलाश की जा रही है।

कृष्णानगर इलाके में रहने वाली महिला मानसिक रूप से बीमार है। उसके पिता रेलवे में हेड क्लर्क के पद से रिटायर हुए हैं। उन्होंने बताया कि बेटी 23 सितंबर की शाम घर से निकली थी। उसकी काफी तलाश की गई, लेकिन कोई सुराग नहीं लगा। रात करीब 9.30 बजे कृष्णानगर थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई। रात भर बेटी की तलाश करते रहें। अगले दिन 24 सितंबर की सुबह आलमबाग थाने से कॉल आई की उनकी बेटी वहां मौजूद है। थाने पहुंचे तो बेटी की हालत देखकर बदहवाश हो गये। बेटी के पकड़े अस्त-व्यस्त और फटे हुए थे। शरीर पर कई जगह चोट के निशान थे।

बहलाकर ले गए रेलवे कालोनी में
बेटी ने बताया कि कृष्णानगर के आरती जूस कार्नर से उसे ऑटो चालक ने घर छोड़ने के बहाने बहला-फुसलाकर बैठा लिया। ऑटो चालक आलमबाग की ओर लेकर गया। रेलवे कालोनी में ले जाकर उसके साथ आठ लोगों ने दुष्कर्म किया। वारदात में एक महिला भी शामिल थी। प्रभारी निरीक्षक अरमनाथ विश्वकर्मा के मुताबिक वारदात में शामिल आरोपी शिवनंदन  बीजी कालोनी रहता है। उसके साथी सोने लाल, अशोक कुमार और गिरजेश कुमार को पुलिस ने रविवार रात गिरफ्तार कर लिया गया है। प्रभारी निरीक्षक के मुताबिक  पीड़िता के बयानों के आधार पर आरोपित महिला और चार अन्य युवकों की तलाश में पुलिस की टीमें दबिश दे रही हैं। आटो चालक शिवनंदन और सोने लाल, महिला को बहला फुसलाकर आटो में बिठाकर बीजी कालोनी ले गए थे।

दुपट्टे व रस्सी से बांधकर रखा, विरोध पर पीटा
पीड़िता के पिता केमुताबिक आरोपियों ने दिव्यांग बेटी को दुपट्टे व रस्सी से बांधकर रखा था। उसके साथ दुष्कर्म किया। विरोध करने पर उसकी जमकर पिटाई की और  कपड़े फाड़ दिए। बेटी ने बताया कि वह बेहोश होने के बाद छोड़कर भाग गये। सुबह आंख खुली तो वह कमरे में पड़ी थी। इसके सभी गायब थे। किसी तरह से थाने पहुंचकर उसने पुलिस कर्मियों को घटना की जानकारी दी।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X