बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
22 जून को शुक्र का कर्क राशि में परिवर्तन, जानें सभी राशियों पर प्रभाव
Myjyotish

22 जून को शुक्र का कर्क राशि में परिवर्तन, जानें सभी राशियों पर प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

मध्यप्रदेश : आज से सभी सरकारी कार्यालय सौ प्रतिशत अधिकारी-कर्मचारियों की उपस्थिति के साथ खुलेंगे

मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण की दर में कमी को देखते हुए प्रदेश सरकार ने मंगलवार को नए दिशा-निर्देश जारी करते हुए कहा कि 16 जून से प्रदेश के सभी शासकीय, अर्द्धशासकीय, निगम और मण्डल के कार्यालय अधिकारी और कर्मचारियों की सौ प्रतिशत उपस्थिति के साथ खुलेंगे।

मालूम हो कि एक जून से शासकीय कार्यालय शत-प्रतिशत अधिकारियों एवं 50 प्रतिशत कर्मचारियों के साथ संचालित किए जा रहे थे।

उन्होंने कहा है कि इन्हें जिला आपदा प्रबंधन समिति के समक्ष रखा जाए और कमेटी के परामर्श से जिला स्तर पर वहाँ की परिस्थिति के अनुसार लागू किया जाये। कोरोना कर्फ्यू के संबंध में कलेक्टर यथोचित आदेश जारी करें। मुख्यमंत्री द्वारा कोरोना कर्फ्यू के प्रतिबंधों के संबंध में मंगलवार को समीक्षा की गई।

चौहान के निर्देश पर राज्य शासन द्वारा जारी दिशा-निर्देश में कहा गया है कि अब सभी शासकीय, अर्द्धशासकीय, निगम और मण्डल के कार्यालय अधिकारी और कर्मचारियों की सौ प्रतिशत उपस्थिति के साथ खुलेंगे।

इसमें कहा गया है कि सभी सामाजिक, राजनीतिक, खेल, मनोरंजन, सांस्कृतिक, धार्मिक आयोजन और मेले आदि, जिसमें जनसमूह एकत्रित होता है, प्रतिबंधित रहेंगे। स्कूल, कॉलेज, शैक्षणिक प्रशिक्षण, कोचिंग संस्थान बंद रहेंगे। ऑनलाइन कक्षाएं चल सकेंगी। सभी धार्मिक और पूजा-स्थल खुल सकेंगे, किन्तु एक समय में छह से अधिक व्यक्ति उपस्थित नहीं रह सकेंगे और उपस्थित जनों के लिए कोविड प्रोटोकाल का पालन अनिवार्य होगा।

दिशा-निर्देशों के अनुसार कि सभी प्रकार की दुकानें, व्यवसायिक प्रतिष्ठान और निजी कार्यालय प्रात: 9 बजे से रात्रि 8 बजे तक खुल सकेंगे। शॉपिंग मॉल और जिम भी प्रात: 9 बजे से रात्रि 8 बजे तक खुल सकेंगे। सभी सिनेमा-घर, थियेटर और स्वीमिंग पूल बंद रहेंगे। सभी वृहद, मध्यम, लघु एवं सूक्ष्म उद्योग अपनी पूर्ण क्षमता पर कार्य कर सकेंगे और निर्माण गतिविधियाँ सतत चल सकेंगी।

वहीं, जिम और फिटनेस सेंटर रात 8 बजे तक 50 प्रतिशत क्षमता पर कोविड प्रोटोकाल की शर्त का पालन करते हुए खुल सकेंगे, जबकि सभी खेलकूद के स्टेडियम खुल सकेंगे, किन्तु खेल आयोजनों में दर्शक शामिल नहीं हो सकेंगे। इसके अलावा, सभी रेस्टोरेंट और क्लब 50 प्रतिशत क्षमता से रात्रि 10 बजे तक खुल सकेंगे। सभी होटल और लॉज पूर्ण क्षमता के अनुसार खुल सकेंगे।

उनमें कहा गया है कि विवाह आयोजनों में दोनों पक्षों को मिलाकर अधिकतम 50 लोगों की उपस्थिति की ही अनुमति दी जा सकेगी। इस प्रयोजन के लिए आयोजक को जिला प्रशासन को अतिथियों के नाम की सूची आयोजन से पहले देना अनिवार्य होगा। अधिकतम 10 लोगों के साथ ही अंतिम संस्कार की अनुमति दी जा सकेगी।

दिशा-निर्देशों के अनुसार, प्रदेश के सभी नगरीय क्षेत्रों में प्रत्येक रविवार को ‘जनता कर्फ्यू’ रहेगा, जो शनिवार रात्रि 10 बजे से सोमवार प्रात: 6 बजे तक प्रभावी रहेगा। पूरे प्रदेश के सभी नगरीय क्षेत्रों में रात्रि 10 बजे से प्रात: 6 बजे तक रात्रिकालीन कर्फ्यू रहेगा।
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश में बस सेवा अनलॉक:  राजस्थान, यूपी, छत्तीसगढ़ की बसें शुरू, महाराष्ट्र के लिए पाबंदी जारी

कोरोना पाबंदियों को मध्यप्रदेश में तेजी से हटाया जा रहा है। राज्य के परिवहन विभाग ने बुधवार से राजस्थान, उत्तरप्रदेश ओर छत्तीसगढ़ आने जाने वाली बसो का परिवहन शुरू करने का निर्णय लिया है। वहीं महाराष्ट्र आने जाने वाली बसों पर पाबंदी लगी रहेगी।

मध्यप्रदेश में कोरोना के कारण बंद पड़ी अंतरराज्यीय बस परिवहन सेवा भी अब 16 जून से अनलॉक होगी। प्रदेश की सीमा से लगे तीन राज्यों- उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान के लिए अंतरराज्यीय बसों के परिचालन पर रोक 15 जून को हटा ली गई है। 16 जून से इन तीनों राज्यों की परिवहन सेवा शुरू हो जाएगी। 

राज्य के परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने बताया कि महाराष्ट्र के लिए प्रतिबंध फिलहाल 22 जून तक बढ़ा दिया गया है। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश में यात्रियों की सुविधा की दृष्टिगत रखते हुए तीन राज्यों की अंतरराज्जीय परिवहन सेवा को बहाल कर दिया गया है। राज्य के सभी जिलों में संक्रमण कम हो गया है। इसी को ध्यान में रखकर यह निर्णय लिया गया है।

परिवहन और राजस्व मंत्री राजपूत ने बताया कि मंत्री समूह द्वारा इस पर निर्णय लिया गया है। बसों के संचालन को लेकर मंगलवार को परिवहन विभाग ने आदेश जारी कर दिए हैं। सचिव राज्य परिवहन प्राधिकार एवं अपर परिवहन आयुक्त (प्रवर्तन) मप्र अरविंद सक्सेना ने 15 जून को इस संबंध में आदेश जारी किए। सक्सेना ने बताया कि लोकहित के लिए राजस्थान, उत्तरप्रदेश एवं छत्तीसगढ़ की ओर जाने और वहां से आने वाली बसों का संचालन पूर्ण रूप से 16 जून से शुरू हो जाएगा। 
... और पढ़ें

कैबिनेट विस्तार की अटकलें: कल पीएम मोदी से मिलेंगे शिवराज सिंह चौहान, इन मुद्दों पर हो सकती है चर्चा

केंद्रीय कैबिनेट के विस्तार के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारतीय जनता पार्टी के बड़े नेताओं से मुलाकात कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलने के बाद अब प्रधानमंत्री मोदी मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात करेंगे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कल यानी बुधवार को प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात करेंगे। ऐसा माना जा रहा है कि इस बैठक में कई मुद्दों पर बात हो सकती है। हालांकि चर्चा यह भी है कि मध्यप्रदेश से मोदी कैबिनेट के दावेदारों को लेकर भी चर्चा हो सकती है। इसके अलावा मुख्यमंत्री कार्यालय की ओर से जानकारी दी गई कि शिवराज सिंह चौहान पीएम को कोरोना को लेकर उठाए गए कदमों की भी जानकारी देंगे। 



कोरोना की स्थिति पर हो सकती है चर्चा
इसके अलावा मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान प्रधानमंत्री मोदी को राज्य में कोरोना की स्थिति और वैक्सीनेशन की गति को लेकर भी जानकारी देंगे। वहीं माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री पीएम मोदी से कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए की जा रही तैयारियों को लेकर भी चर्चा कर सकते हैं। इसके अलावा और भी मुद्दों पर चर्चा हो सकती है। 

कैबिनेट विस्तार को लेकर भी पीएम से चर्चा संभव
संभावना इस बात की भी लगाई जा रही है कि पीएम के साथ आगामी कैबिनेट विस्तार को लेकर भी पीएम से चर्चा हो सकती है। मध्यप्रदेश से भी कई दावेदार कैबिनेट में शामिल हो सकते हैं,जिसमें ज्योतिरादित्य का नाम सामने आ रहा है। बता दें कि हाल ही में सिधिया शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात करने भोपाल आए थे। 
... और पढ़ें

सतर्कता: देश में पहली बार बाघों की होगी कोरोना जांच, तीन की संदिग्ध मौत के बाद लिया फैसला

जनवरी के बाद से ही पेंच टाइगर रिजर्व, सिवनी में तीन बाघों की मौत के कारणों के बारे में फोरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला किसी निष्कर्ष पर नहीं पहुंच पाई है। जिसके बाद वन विभाग के अधिकारियों ने रिजर्व के बाघों का कोरोना टेस्ट करने के लिए रक्त और ऑरोफरीन्जियल स्वाब के नमूने लेने का फैसला लिया है। इसके साथ ही यह दावा भी किया जा रहा है कि भारत में पहली बार बाघों का कोविड -19 परीक्षण किया जा रहा है। 
बारिश की वजह से रिजर्व में नहीं मिल रहे बाद्य
पेंच टाइगर रिजर्व के फील्ड डायरेक्टर वीएस परिहार बताते हैं कि पिछले 20 दिनों से वन विभाग के छह अधिकारी, दो हाथियों में सवार होकर रिजर्व में बाघों को ढूंढने और नमूने लेने की कोशिश कर रहे हैं। हालांकि उन्हें अभी तक कोई भी बाद्य नहीं मिला है। बता दें कि रिजर्व में आखिरी गणना के समय 53 बाघ थे। 

... और पढ़ें
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

डिमांड: मप्र के दो शहरों के नाम बदलने की मांग की, कांग्रेस नेता बोले- लक्ष्मीबाई और अहिल्याबाई के नाम पर हों ग्वालियर-इंदौर के नाम

कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा ने मध्यप्रदेश के दो शहरों के नाम बदलने की मांग कर सियासी हलचल बढ़ा दी। सज्जन सिंह वर्मा ने रानी लक्ष्मीबाई और देवी अहिल्या बाई के नाम पर  ग्वालियर और इंदौर शहर का नाम रखने की मांग की है। इसके अलावा उन्होंने यह भी सुझाव दिया कि स्कूल के पाठ्यक्रम में फ्रीडम फाइटर्स के साथ देशद्रोहियों के नाम भी शामिल किए जाने चाहिए। इंदौर में पत्रकारों से बात करते हुए सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि देश के लिए अपने प्राण त्याग देने वालों का ही नहीं बल्कि देशद्रोहियों के नाम भी स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल किए जाने चाहिए। ताकि बच्चे देशद्रोहियों के बारे में भी जान सके। 

सज्जन सिंह वर्मा ने कहा कि ग्वालियर का नाम रानी लक्ष्मी बाई और इंदौर का नाम देवी अहिल्याबाई के नाम पर रखा जाना चाहिए। रानी लक्ष्मीबाई और उनके खिलाफ साजिश करने वाले देशद्रोहियों के बारे में भी पाठ्यक्रम में शामिल की जानी चाहिए।' उन्होंने आगे कहा, 'इंदौर शहर का नाम बदलकर देवी अहिल्याबाई नगर होना चाहिए और कांग्रेस इसके लिए राज्य सरकार को प्रस्ताव भेजेगी।'

विवादित बयान देकर फंसे थे वर्मा
गौरतलब है कि कुछ समय पहले कांग्रेस नेता सज्जन सिंह वर्मा विवादित बयान देने को लेकर फंस गए थे। उन्होंने सीएम शिवराज सिंह चौहान द्वारा लड़कियों की शादी की उम्र 21 साल किए जाने पर कहा था कि जब लड़कियां 15 साल में प्रजनन लायक हो जाती हैं तो शादी की उम्र 21 साल करने की क्या जरूरत है। जब लड़कियों की शादी की उम्र पहले से 18 साल तय है तो इसमें बदलाव की क्या जरूरत है। उनके इस बयान को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों ने कड़ी आलोचना की थी। 
... और पढ़ें

शर्मनाक: खूबसूरत लड़की से कराते थे कॉल, फिर न्यूड वीडियो बना मांगते थे पैसे, कई राज्यों में बनाए शिकार

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल की साइबर क्राइम ब्रांच ने एक ऐसे गिरोह का पर्दाफाश किया है जो खूबसूरत लड़की से कॉल कराकर युवाओं का न्यूड वीडियो बनाकर पैसे ऐंठने का धंधा कर रहा था। इतना ही नहीं एक साल में यह गिरोह मध्यप्रदेश, राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा समेत कई राज्यों में लोगों को शिकार बनाया । अकेले मध्यप्रदेश में 60 लोगों को फंसाया गया है।  पुलिस ने हरियाणा से एक और राजस्थान से दो लोगों को गिरफ्तार किया है।  आरोपी व्हॉट्सएप कॉल पर न्यूड लड़की के वीडियो के साथ युवकों के वीडियो को जोड़ देते थे। इसके बाद, सोशल मीडिया में वायरल करने की धमकी देक ब्लैकमेल करते थे। आरोपी वसीम को फिरोजपुर झिरका को  हरियाणा के मेवात से और पुरुषोत्तम व यादराम को राजस्थान के अलवर से गिरफ्तार किया गया है।

पिछले दिनों भोपाल के एक युवक ने साइबर क्राइम में इसकी शिकायत की थी। उसने बताया कि फेसबुक के माध्यम से किसी महिला के नाम की फ्रेंड रिक्वेस्ट आई। रिक्वेस्ट स्वीकार करने पर महिला ने फेसबुक मैसेंजर पर बात की फिर कुछ दिन इसी पर बात होती रही। इसी बीच व्हॉट्सएप नंबर ले लिया।

पैसे की डिमांड करती थी महिला
उसके बाद उसने वीडियो कॉल किया। थोड़ी देर में एक सुंदर महिला न्यूड दिखने लगी। महिला ने उसे भी न्यूड होने को कहा। वह भी महिला की बात में आकर न्यूड हो गया और इसी दौरान उस कॉल की वीडियो रिकॉर्डिंग की गई। जिसके बाद इस रिकॉर्डिंग को सोशल मीडिया पर वायरल करने की धमकी मिलने लगी। युवक का आरोप है कि महिला ने कहा कि अगर उसे पैसे नहीं देगा तो वह उसके रिश्तेदार, परिवार समेत सभी को यह वीडियो भेज देगा। 

युवक का आरोप है कि आरोपी महिला ने वीडियो को वायरल नहीं करने लिए बैंक खाते या मोबाइल वॉलेट में रुपये ट्रांसफर करने की बात कही। डर और लोकलाज की वजह से युवक ने काफी कुछ रुपये भी उसके खाते में भेजे। उसके बाद भी उसकी डिमांड बढ़ने लगी। जिससे तंग आकर युवक ने पुलिस से शिकायत की।  पुलिस ने जांच के बाद हरियाणा व राजस्थान में छापेमार कार्रवाई कर तीन आरोपियों को पकड़ा। 

फर्जी मोबाइल नंबर से आरोपी करते थे कॉल
आरोपी फर्जी मोबाइल नंबर से फेसबुक पर सुंदर महिलाओं की फोटो प्रोफाइल में लगाकर फर्जी फेसबुक आईडी बनाते थे। ठगी के लिए लोगो को फ्रेंड रिक्वेस्ट भेज दोस्ती करते थे। फेसबुक मैसेंजर पर बातों करते और फिर सामने वाले को विश्वास में लेकर उसका व्हॉट्सएप नंबर लेकर उससे रोमांटिक चैटिंग शुरू कर देते फिर उसे न्यूड महिलाओं की तस्वीर भेजकर उसे भी उकसाते थे। पुलिस के मुताबिक, आरोपी फ्रेंड रिक्वेस्ट एक्स्पेट करने वालों से रात में मैसेंजर पर बात करते थे। उसके बाद उसका व्हॉट्सएप नंबर लेकर वीडियो कॉल करते थे। फिलहाल पुलिस तीनों आरोपियों से पूछताछ कर रही है। पुलिस का दावा है कि आरोपियों से इस बारे में जल्द ही जानकारी जुटाकर इस मामले में जुड़े अन्य लोगों पर भी कार्रवाई की जाएगी। 
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश: इंदौर में तेजाब पिलाकर महिला को मौत के घाट उतारा, परिजनों ने ससुरालवालों पर लगाया आरोप

मध्यप्रदेश के इंदौर में एक विवाहित महिला को तेजाब पिलाकर मारने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। बाणगंगा थाना क्षेत्र की महिला की मौत के बाद परिजनों ने ससुराल वालों पर उसकी हत्या का आरोप लगाया है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, करीब 24 घंटे अस्पताल में भर्ती रहने के बाद महिला की मौत हो गई तो परिजन शव लेकर डीआईजी कार्यालय पहुंच गए। उन्होंने आरोप लगाया कि उनकी बेटी को पति और ससुराल वालों ने तेजाब पिलाकर उसकी हत्या कर दी।

इंदौर जिले के देवली तराना के रहने वाले राजा परमार ने विवाहिता का शव लेकर रीगल चौराहा स्थित डीआईजी कार्यालय पहुंचे। यहां पर उन्होंने पुलिस के आला अधिकारियों से न्याय की गुहार की लगाई। परमार ने  बताया कि एंबुलेंस में उनकी बहन सोनाली का शव है जिसे ससुराल वालों और पति ने मार दिया। परिजनों का आरोप है कि महिला को ससुरालवालों ने एसिड पिलाकर मौत के घाट उतार दिया । 26 वर्षिय सोनाली को गुरुवार  दोपहर करीब 3 बजे घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती किया गया था। शुक्रवार दोपहर को डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

मृतिका के परिजनों ने आरोप लगाया कि ससुराल वाले सोनाली से दहेज की मांग करते थे। इसके लिए वे आए दिन उसे प्रताड़ित करते थे। बीते दिनों पति ने उसे जान से मारने की धमकी भी दी थी। परिजनों ने कहा कि सोनाली का एक बच्चा भी है। जिसे ससुराल वाले अपने पास रखना चाहते हैं। फिलहाल सीएसपी निहित उपाध्याय ने महिला की मौत के मामले की जांच खुद ही कर रहे हैं। 
... और पढ़ें

कोरोना का असर: पैरोल पर छूटेंगे 400 दुष्कर्मी, लेकिन सुप्रीम कोर्ट की अवमानना कर रही मध्यप्रदेश सरकार

सांकेतिक तस्वीर
कोरोना महामारी के मद्देनजर मध्यप्रदेश की जेलों में आजीवन कारावास की सजा काट रहे दुष्कर्मियों को भी पैरोल पर रिहा करने की तैयारियां चल रही हैं। जेल मुख्यालय ने इस बाबत पांच जून को सभी जेल अधीक्षकों को पत्र लिखा, जिसमें दुष्कर्म के मामलों सजा काट रहे 400 बंदियों को पैरोल पर रिहा करने का जिक्र है।

इनमें 100 बंदी ऐसे हैं, जो नाबालिग बच्चियों से ज्यादती के मामलों में कैद हैं। हालांकि, राज्य सरकार का यह कदम सुप्रीम कोर्ट के 2015 के उस फैसले के खिलाफ है, जिसमें अदालत ने स्पष्ट शब्दों में कहा था कि ऐसे बंदी, जिन्होंने दुष्कर्म का अपराध किया और जिन्हें राष्ट्रीय जांच एजेंसियों के मामले में सजा मिली है, उन्हें रिहा नहीं किया जा सकता। ऐसे में सरकार के फैसले से पीड़ित परिवार नाराज हैं।

पीड़ितों के परिजनों ने कही यह बात
जानकारी के मुताबिक, पीड़ितों के परिजनों का कहना है कि पैरोल अवधि की गणना सजा में नहीं होनी चाहिए। पैरोल पर छोड़ने से पहले जेल प्रबंधन को पीड़ित परिवार का भी पक्ष जानना चाहिए। इस मामले में डीआईजी जेल मुख्यालय संजय पांडे का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर ही बंदियों को पहले 60 दिन और बाद में 30 दिन की पैरोल स्वीकृत है। दुष्कर्म के मामलों में आजीवन कारावास की सजा काट रहे बंदियों की भी पैरोल पर रोक नहीं है। उन्हें पहले भी पैरोल दी जाती रही है। प्रत्येक मामले में मेरिट के आधार पर पैरोल तय होती है।

पैरोल पर उठाया यह सवाल
बताया जा रहा है कि पीड़ितों के परिजन बंदियों को पैरोल मिलने के फैसले से खुश नहीं हैं। उनका कहना है कि जब कोरोना की दूसरी लहर पर काबू पा लिया गया है तो पैरोल देने की क्या जरूरत है? पीड़ितों का कहना है कि ऐसे दोषियों को पैरोल पर छोड़ना हमें जीते जी मारने जैसा है। इन दरिंदों को बड़ी मुश्किल में गिरफ्तार किया गया था। अब उन्हें पैरोल पर छोड़ना गलत है। जेल सूत्रों के मुताबिक, नियमानुसार उन सभी बंदियों को पैरोल मिल सकती है, जो दो साल की सजा काट चुके हैं। वहीं, कोरोना काल में राज्य सरकार ने बंदियों की पैरोल अवधि बढ़ा दी है।
... और पढ़ें

बड़ा फैसला : मध्यप्रदेश हाईकोर्ट में छह नए जजों की नियुक्ति, राष्ट्रपति ने दी मंजूरी

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने आज यानी शुक्रवार देर शाम को मध्यप्रदेश उच्च न्यायालय में 6 नए जजों की नियुक्ति की मंजूरी दे दी। नए जजों में अनिल वर्मा, अरुण कुमार शर्मा, सत्येंद्र कुमार सिंह, सुनीता यादव, दीपक कुमार अग्रवाल और राजेंद्र कुमार वर्मा का नाम शामिल है।

कानून मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार, मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय में शुक्रवार को छह नए न्यायाधीश नियुक्त किए गए हैं। न्याय विभाग द्वारा जारी एक अलग अधिसूचना के अनुसार गुवाहाटी उच्च न्यायालय में भी एक अतरिक्ति न्यायाधीश नियुक्त किए गए हैं।
 
अधिसूचना में कहा गया है कि अनिल वर्मा, अरुण कुमार शर्मा, सत्येंद्र कुमार सिंह, सुनीता यादव, दीपक कुमार अग्रवाल और राजेंद्र कुमार (वर्मा) इसी वरिष्ठता क्रम में मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय के न्यायाधीश होंगे। वे सभी न्यायिक सेवाओं से न्यायाधीश के रूप में पदोन्नत किए गए हैं।

न्याय विभाग की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक एक जून को मध्य प्रदेश उच्च न्यायालय 24 न्यायाधीशों के साथ काम कर रहा था और वहां 29 न्यायाधीशों के पद रिक्त थे। एक अन्य अधिसूचना के अनुसार रोबिन फूकन को गुवाहाटी उच्च न्यायालय का अतिरिक्त न्यायाधीश नियुक्त किया गया है। उनके पदभार संभालने की तारीख से दो साल की अवधि तक उनका कार्यकाल होगा।
... और पढ़ें

अयोध्या जमीन सौदा: मध्यप्रदेश के पूर्व मंत्री पीसी शर्मा ने भोपाल में दर्ज कराई शिकायत, एफआईआर की मांग

अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा जमीन खरीदी में कथित गड़बड़ी का मामला गरमाता जा रहा है। बृहस्पतिवार को मध्यप्रदेश के पूर्व मंत्री व कांग्रेस नेता पीसी शर्मा ने भोपाल पुलिस में शिकायत दर्ज कराई। उन्होंने इस जमीन सौदे की जांच करने व दोषियों के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की है। शिकायत दर्ज करने के बाद पूर्व मंत्री शर्मा ने कहा कि हमने विहिप नेता चंपत राय व अन्य के खिलाफ भादंवि की धारा 408, 420, 120 बी के तहत एफआईआर दर्ज करने की मांग की है। इससे पहले प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता केके मिश्रा ने इंदौर पुलिस में शिकायत कर इसी तरह केस दर्ज करने की मांग की थी। 
 
... और पढ़ें

मध्यप्रदेश: उमरिया में वाहन की चपेट में आने से बाघ की मौत, जांच में जुटी वन विभाग की टीम

मध्यप्रदेश के उमरिया जिले में शुक्रवार तड़के एक बाघ की मौत हो गई। कथित रूप से राजमार्ग पार करते समय एक वाहन की चपेट में आने से बाघ की मौत हो गई। उमरिया के वन मंडलाधिकारी (डीएफओ) मोहित सूद ने पीटीआई को फोन पर बताया कि जिला मुख्यालय से करीब 35 किलोमीटर दूर एनएच-43 पर यह दुर्घटना हुई। शुक्रवार तड़के लगभग तीन बजे किसी चार पहिया वाहन ने बाघ को टक्कर मार दी, जिससे मौके पर ही मौत हो गई। हालांकि, बाघ के सभी अंग सलामत पाए गए हैं।



नेशनल हाइवे पर जागरूकता के लिए लगाए जाएंगे साइन बोर्ड
डीएफओ ने कहा कि यह संरक्षित वन क्षेत्र नहीं था और बाघ बांधवगढ़ टाइगर रिजर्व से नहीं था। उन्होंने बताया कि इस तरह की दुर्घटनाओं की पुनरावृत्ति रोकने के लिए इस क्षेत्र में वाहन चलाते समय सावधानी बरतने और चालकों को जागरूक करने के लिए राजमार्ग पर साइन बोर्ड लगाने के बारे में वन विभाग के उच्च अधिकारियों से बात की गई है। सूद ने कहा कि भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) से एनएच-43 पर गति रोधक बनाने का भी अनुरोध किया है। इस तरह की दुर्घटनाओं को रोकने के लिए कुछ अन्य आवश्यक कदम भी उठाए जाएंगे।
... और पढ़ें

खतरा: मध्यप्रदेश में मिला कोरोना डेल्टा प्लस का पहला मामला, भोपाल की 65 वर्षीय महिला में इस वैरिएंट की पुष्टि

मध्यप्रदेश में कोरान संक्रमण की दूसरी लहर भले ही कमजोर हो गई है, लेकिन खतरा अब भी बरकरार है। राज्य में कोरोना के नए डेल्टा प्लस वैरिएंट केस सामने आने से चिंता बढ़ गई है। भोपाल में एक महिला में डेल्टा प्लस वैरिएंट की पुष्टि हुई है। महिला के संपर्क में आए 20 अन्य लोगों की जांच की जा रही है। फिलहाल महिला घर पर है। 

भोपाल में बरखेड़ा पठानी निवासी 65 साल की महिला में यह वैरिएंट मिला है। कुछ दिन पहले उसके सैंपल की जांच करने के लिए भेजा गया था। हालांकि, महिला की रिपोर्ट निगेटिव है और अपने घर पर आइसोलेट है। देश में कोरोना की दूसरी लहर के लिए कोरोना के डेल्टा वैरिएंट को जिम्मेदार माना जाता है। अब इसी वैरिएंट का बदला रूप डेल्टा प्लस है। यह पहली बार भारत में ही पाया गया। अभी तक देश में 6 डेल्टा प्लस वैरिएंट के मामले मिल चुके हैं। विशेषज्ञ का कहना है कि इस नए डेल्टा प्लस वैरिएंट पर मोनोक्लोनल एंटीबॉडी कॉकटेल का भी असर नहीं हो रहा है। 

महिला के संपर्क में आए 20 लोगों की चल रही जांच
भोपाल से जून में 15 सैंपल जांच के लिए गांधी मेडिकल कॉलेज भेजे गए थे। जीनोम सिक्वेंसिंग में महिला के सैंपल में डेल्टा प्लस वैरिएंट मिलने की पुष्टि हुई। साथ ही रिपोर्ट में डेल्टा और अन्य वैरिएंट भी मिले हैं। स्वास्थ्य विभाग और जिला प्रशासन अब महिला के संपर्क में आए लोगों की जानकारी जुटा रही है। अभी तक इसमें 20 लोग की पहचान की गई है, जिनकी जांच चल रही है। 

महिला को लग चुकी है वैक्सीन
मध्यप्रदेश के चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने बताया कि शहर में कोरोना का नया वैरिएंट डेल्टा प्लस मिलने की सूचना है। संक्रमित महिला को कोरोना की वैक्सीन दी जा चुकी है। उसे निगरानी में रखा गया है। उसकी हालत ठीक है। सैंपल को NCDC और हायर रिसर्च इंस्टीट्यूट को भेजा है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us