लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Madhya Pradesh ›   Bhopal ›   MP Politics: What message did Modi-Shah send by expelling Shivraj from the parliamentary board?

MP Politics: शिवराज को संसदीय बोर्ड से बाहर कर मौजूदा मुख्यमंत्रियों के लिए क्या संदेश दे गए मोदी-शाह?

Ravinder Bhajni रविंद्र भजनी
Updated Wed, 17 Aug 2022 11:50 PM IST
सार

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को भाजपा ने संसदीय बोर्ड से बाहर कर दिया है। इसे लेकर अटकलों का बाजार भी गरमा गया है कि क्या यह मध्यप्रदेश में बदलाव की आहट है?

MP Politics
MP Politics - फोटो : Amar Ujala
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जेपी नड्डा ने पार्टी की सबसे ताकतवर कमेटी संसदीय बोर्ड से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को बाहर कर दिया है। उनके साथ ही केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी भी समिति से बाहर हो गए हैं। शिवराज की जगह मध्यप्रदेश से सत्यनारायण जटिया को बोर्ड में जगह दी गई है। ऐसे में सवाल उठ रहे हैं कि क्या यह मध्यप्रदेश में चुनावों से पहले बदलाव का संकेत है?


क्या है केंद्रीय नेतृत्व के फैसले के मायने?
मध्यप्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में शिवराज को संसदीय बोर्ड से बाहर करने के फैसले के दो ही मायने हैं। पहला, शिवराज को चुनावों की कमान सौंपने वाले हैं और इस वजह से उन्हें अतिरिक्त जिम्मेदारियों से मुक्त किया गया है ताकि उनका पूरा फोकस राज्य में रहे। दूसरा, अगले विधानसभा चुनाव शिवराज के नेतृत्व में नहीं लड़े जाएंगे। 2018 में पार्टी ने शिवराज के नेतृत्व में चुनाव लड़ा और हारी। यह बात अलग है कि 2020 में जोड़-तोड़ के बाद और ज्योतिरादित्य सिंधिया के भाजपा में आने के बाद शिवराज की सत्ता में वापसी हुई और वे एक बार फिर मुख्यमंत्री बने। 




अब एक भी मुख्यमंत्री बोर्ड में नहीं 
शिवराज को संसदीय बोर्ड में शामिल करने की सिफारिश लालकृष्ण आडवाणी ने 2013 में की थी। तब कहा गया कि मुख्यमंत्री को बोर्ड में रखा जाना चाहिए। तब मार्च 2013 में नरेंद्र मोदी को गुजरात के मुख्यमंत्री रहते हुए संसदीय बोर्ड में शामिल किया गया था। पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह थे और जब केंद्र में भाजपा की सरकार बनने के बाद अमित शाह पार्टी अध्यक्ष बने तो शिवराज सिंह चौहान को बोर्ड में जगह मिली। 

2014 से लगातार आठ साल तक शिवराज संसदीय बोर्ड में रहे। हाल ही में योगी आदित्यनाथ भी अच्छे बहुमत के साथ सत्ता में लौटे हैं। उन्हें भी संसदीय बोर्ड में शामिल करने की अटकलें लगने लगी थीं। ऐसे में कहा यह भी जा रहा है कि शिवराज को बाहर कर पार्टी अपने ही पुराने अघोषित नियम पर लौटी है कि किसी मुख्यमंत्री को संसदीय बोर्ड में नहीं रखा जाएगा। 

शिवराज को हटाने की टाइमिंग पर उठ रहे सवाल
शिवराज को बोर्ड से ऐसे समय हटाया गया है जब भाजपा ने मध्यप्रदेश की 16 में से सात नगर निगमों में अपना महापौर खोया है। भले ही भाजपा ने नगर निगमों, नगर पालिकाओं और नगर पंचायतों में अध्यक्ष बनाने को ही सफलता माना और जश्न भी मनाया, पर कांग्रेस को खोया आत्मविश्वास पाने से नहीं रोक सकी। संसदीय बोर्ड से शिवराज को हटाने के फैसले को नगरीय निकाय चुनाव परिणामों से जोड़कर भी देखा जा रहा है।  

क्या यह विधानसभा चुनावों से पहले राज्य में चेहरा बदलने का संकेत है?
हो भी सकता है। पिछले साल भाजपा ने एक के बाद एक कई राज्यों के मुख्यमंत्रियों के चेहरे बदले थे। चुनावों से ठीक पहले चेहरा बदलना भाजपा, खासकर मोदी-शाह की चुनावी रणनीति रही है। जब उत्तराखंड, कर्नाटक और गुजरात में मुख्यमंत्री बदले गए तो लगा कि शिवराज का नंबर भी लग सकता है। हालांकि, ऐसा हुआ नहीं। उस समय तो संभावित चेहरों के तौर पर नरोत्तम मिश्रा, कैलाश विजयवर्गीय से लेकर वीडी शर्मा तक के नामों पर चर्चा शुरू हो गई थी। अब स्थिति अलग है। मुकाबले में दो-चार चेहरे बढ़े हैं, कम नहीं हुए हैं। 

जटिया को संसदीय बोर्ड में लाकर क्या संदेश दिया?
सत्यनारायण जटिया उज्जैन से सांसद रहे। लोकसभा हारे, तब उन्हें राज्यसभा भी भेजा गया। पिछले कुछ समय से तो वे रिटायरमेंट का लुत्फ ही उठा रहे थे। ऐसे में मोदी-शाह ने फिर एक बार चौंकाया और दलित नेता के तौर पर उन्हें बोर्ड में शामिल किया। वह भी ऐसे मौके पर जब वे 75 वर्ष की अघोषित रिटायरमेंट आयु एक साल पहले ही पार कर चुके हैं। जिस स्थिति में उन्हें संसदीय बोर्ड में लाया गया है, वे दलित चेहरे से ज्यादा की भूमिका में नहीं रहेंगे। हालांकि, उनके संसदीय बोर्ड में होने से मध्यप्रदेश में पार्टी के फैसले प्रभावित होंगे, इसकी संभावना न के बराबर है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00