Hindi News ›   City & states ›   Will there not be a media gallery in the new Parliament building, why were journalists barred from coverage in parliament? Lok Sabha Speaker replied

सदन की बातें : क्या नए संसद भवन में मीडिया गैलरी नहीं होगी, कवरेज से क्यों रोके गए पत्रकार? लोकसभा अध्यक्ष ने दिया जवाब

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: हिमांशु मिश्रा Updated Sat, 04 Dec 2021 06:52 PM IST

सार

इस बार लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही को कवर करने के लिए सीमित पत्रकारों को ही सदन में जाने की अनुमति दी गई है। इस बीच मीडियाकर्मियों को ये भी सुनने में आया है कि नए संसद भवन में मीडिया गैलरी ही नहीं होगी। इन सवालों का लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने जवाब दिया। पढ़िए क्या कहा? 
 
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला।
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला। - फोटो : अमर उजाला
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

एक टीवी चैनल के कार्यक्रम में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने शनिवार को शिरकत की। इस दौरान उन्होंने खुलकर कई मसलों पर अपनी बात रखी। बताया आखिर क्यों सदन में जाने के लिए पत्रकारों की संख्या सीमित कर दी गई है? इसके अलावा नए संसद भवन में मीडिया गैलरी नहीं बनाने और राहुल गांधी को सदन में बोलने का मौका न देने के आरोपों का भी जवाब दिया। पढ़िए क्या कहा?  


पत्रकारों को सदन में जाने की अनुमति क्यों नहीं दी गई?
लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने कहा, 'अभी कोरोना खत्म नहीं हुआ है। मेरा हमेशा से प्रयास रहा है कि सदन में सभी पत्रकार आएं और रिपोर्टिंग करें। हम कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए संसद सत्र चला रहे हैं। मंत्री का प्राइवेट सेक्रेटरी या किसी अन्य स्टाफ को भी अंदर आने की अनुमति नहीं दी गई है। लोकप्रियता और आवश्यकताओं के अनुसार अभी 109 पत्रकारों को सदन में आने की अनुमति दी गई है।'


मैंने कुछ पत्रकार साथियों को बुलाकर पूछा था कि क्या कैमरामैन को अनुमति दे दी जाए? लेकिन पत्रकार साथियों ने कहा कि नहीं-नहीं कैमरामैन के साथ एक और साथी को जाने की अनुमति मिले। फिर हमने सदन के नेताओं से चर्चा की और उन्होंने इसके लिए मना  कर दिया। 

क्या नए संसद भवन में मीडिया गैलरी नहीं होगी? 
लोकसभा अध्यक्ष ने इसे अफवाह बताया। कहा कि नई संसद में मीडिया की गैलरी भी होगी और उसमें पत्रकारों के बैठने के लिए संख्या भी अधिक होगी। 

राहुल गांधी के आरोपों पर क्या बोले? 
राहुल गांधी ने कुछ दिन पहले आरोप लगाया था कि सदन में विपक्ष के नेताओं और खासतौर पर उन्हें बोलने की अनुमति नहीं दी जाती है। बिना चर्चा कराए सारे बिल पारित कर दिए जाते हैं। इन आरोपों का ओम बिरला ने जवाब दिया। कहा, 'मुझे नहीं लगता है कि मैंने कभी उनको बोलने का मौका न दिया हो। बल्कि, कभी लॉटरी में उनका नाम नहीं होता है तो भी मैं उनको समय देता हूं। रात में 12 बजे तक सदन चलाता हूं। अंतिम वक्ता के बोलने तक सदन चलता है। उनके (कांग्रेस) नेताओं की बात ही सुन लिजिए। वह लोग ये हमेशा कहते हैं कि सदन में सभी की बातें सुनी जाती है। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00