लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Cheetah: जयपुर में 80 साल पहले तक पाले जाते थे चीते, मीट के साथ खिलाई जाती थी ये खास चीज

फीचर डेस्क, अमर उजाला Published by: धर्मेंद्र सिंह Updated Sun, 25 Sep 2022 02:41 PM IST
जयपुर में 80 साल पहले तक पाले जाते थे चीते
1 of 5
विज्ञापन
Cheetah: भारत में चीता इन दिनों चर्चा के केंद्र में हैं। कुछ दिनों पहले ही नामीबिया (Namibia) से 8 विदेशी चीते (Cheetahs) भारत लाए गए हैं। भारत में साल 1947 में आखिरी बार चीता देखा गया था जिसके बाद भारत सरकार ने साल 1952 में चीतों को विलुप्त घोषित कर दिया। हालांकि अब 70 साल बाद शेर, बाघ, तेंदुआ के अलावा चीते भी देखने को मिलेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने अपने जन्मदिन के मौके पर इन चीतों को मध्य प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क (Kuno National Park) में छोड़ा। इन चीतों में पांच मादा हैं और तीन नर हैं। 

लेकिन यह जानकर यकीन नहीं होगा कि कभी जयपुर में चीते को पाला जाता है। राजस्थान की राजधानी चीतों को पालने वाला एक पूरा मोहल्ला है जहां पर साल 1940 तक चीते थे। इसके बाद यहां से चीते खत्म हो गए। बताया जाता है कि जयपुर राजघराने के लोग शौक में चीते पालते थे। 
जयपुर में 80 साल पहले तक पाले जाते थे चीते
2 of 5
इतिहास के जानकर बताते हैं कि जयपुर के इस मोहल्ले में अफगानिस्तान मूल के चीता ट्रेनर रहते थे। जयपुर और चीतों से जुड़ी कई ऐतिहासिक कहानियां हैं जिनके बारे में जानकर आपको हैरानी होगी। अकबर के राज के दौरान मुगलों के पास चीतों की पूरी फौज थी।
विज्ञापन
जयपुर में 80 साल पहले तक पाले जाते थे चीते
3 of 5

कहा जाता है कि मुगल सम्राट इन चीतों के माध्यम से शिकार करते थे। शिकार करने के लिए इन चीतों को बाकायदा ट्रेनिंग दी जाती थी। जयपुर के पास स्थित सांगानेर के जंगलों में शिकार के लिए अकबर आता था और चीतों की मदद से हिरण का शिकार करता था। 
जयपुर में 80 साल पहले तक पाले जाते थे चीते
4 of 5

जयपुर में था चीतों का मोहल्ला

सांगानेर के जंगलों तक चीते सीमित नहीं थे, बल्कि पुराने जयपुर शहर में एक चीतों का मोहल्ला था जिसमें एक मकान था। इस मकान का निजाम महल रखा गया था और यह कभी चीता ट्रेनर्स का सेंटर था। महाराजा सवाई जय सिंह प्रथम का जब शासन था उस समय अफगानिस्तान से आने वाले वाजिद खान यहां रहते थे। महाराज की तरफ से चीतों को ट्रेनिंग देने के लिए रखा गया था। महाराजा के वारिस इस परंपरा को चलाते रहे। 
विज्ञापन
विज्ञापन
जयपुर में 80 साल पहले तक पाले जाते थे चीते
5 of 5

खास तरह से होती थी रखवाली

इन चीतों को घरों में रखते थे और इनके सोने के लिए बड़ी-बड़ी अलमारियां थीं। चीतों के दिमाग को ठंडा रखने के लिए मीट के साथ खासतौर पर गुलकंद और पनीर खाने को दिया जाता था। इन चीतों को महाराजा का खूब प्यार मिलता था। चीतों को शिकार के लिए बैलगाड़ी में लेकर सांगानेर के जंगलों में ले जाया जाता था। 
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Bizarre News in Hindi related to Weird News - Bizarre, Strange Stories, Odd and funny stories in Hindi etc. Stay updated with us for all breaking news from Bizarre and more news in Hindi.

विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00