यह पांच आदतें हैं आप में तो कभी अमीर और कामयाब नहीं बन सकते

राकेश्ा झा/टीम डिजिटल Updated Mon, 02 Jan 2017 09:40 AM IST
पर्स
1 of 7
विज्ञापन
हर व्यक्त‌ि की तरह आप भी यह सोचते होंगे क‌ि आप एक सफल और कामयाब आदमी बनें, आपके पास खूब पैसा और ऐशो आराम हो लेक‌िन यह स‌िर्फ चाहने भर से नहीं म‌िलता। अगर आपकी क‌िस्मत में हो भी तब भी अगर आपमें यह पांच आदतें हैं तो आप अपनी क‌िस्मत अपने हाथ से खराब करके कामयाबी से वंच‌ित रह सकते हैं।

अगर पांच आदतें हैं आप में तो आप कभी अमीर और कामयाब नहीं बन सकते

पैसा
2 of 7
नीत‌िशास्‍त्रों में मनुष्य के कई गुण और दुर्गणों की चर्चा की गई है और बताया गया है क‌ि अगर व्यक्त‌ि धनवान घर में भी पैदा हो लेक‌िन उनमें यह पांच आदतें मौजूद हों तब वह अपने धन का खुद ही नाश कर लेता है और ज‌िनमें यह पांच आदतें नहीं हों वह गरीब घर में पैदा होकर भी कामयाबी की बुलंद‌ियों को छू सकता है।
विज्ञापन
विज्ञापन

अगर पांच आदतें हैं आप में तो आप कभी अमीर और कामयाब नहीं बन सकते

अालस
3 of 7
नीत‌िशास्‍त्र में आलस को मनुष्य का सबसे पहला शत्रु माना गया है। जो व्यक्त‌ि कर्म करने की बजाय अपने शरीर को आराम देने में लगा रहता है देवी लक्ष्मी उसके पास कभी नहीं आती हैं। जबक‌ि गरीब व्यक्त‌ि भी जब अपने शरीर को कर्म में लीन कर देता है तो उसकी गरीबी तेजी से दूर होती चली जाती है। उदाहरण के तौर पर सुदामा को ही लीज‌िए अगर वह आलस के कारण द्वार‌िका नहीं जाते तो उनकी गरीबी कभी दूर नहीं होती।

अगर पांच आदतें हैं आप में तो आप कभी अमीर और कामयाब नहीं बन सकते

नश्‍ाा
4 of 7
शास्‍त्रों में मद‌िरा को मद प्रदान करने वाला बताया गया है यानी जो बुद्ध‌ि का हरण करे और मन में अहंकार हर दे वह मद‌िरा है। मद‌िरा पान में जो व्यक्त‌ि डूब चुका होता है वह क‌ितना भी कमा ले उसके पास बरकत नहीं रहती है। ऐसे व्यक्त‌ि अपने पूर्वजों के द्वारा संच‌ित धन और मान-सम्मान का भी नाश कर डालता हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

अगर पांच आदतें हैं आप में तो आप कभी अमीर और कामयाब नहीं बन सकते

अनैत‌िक संबंध्‍ा
5 of 7
परस्‍त्री पुरुष गमन को नाश का मार्ग बताया गया है। ऐसे व्यक्त‌ि धरती पर अपना सब कुछ नाश कर लेते हैं परलोक में भी इन्हें बहुत यातना सहनी पड़ती है। पौराण‌िक कथाओं में देवी अह‌िल्या की कथा आती है ज‌िसमें देवराज इंद्र द्वारा अह‌िल्या के मान हरण की बात कही गई है। इस कुकर्म के कारण देवराज इंद्र को भी अपना इंद्र पद गंवाना पड़ा था और दीन हीन की तरह भटकना पड़ था। रावण ने देवी सीता का हरण क‌िया तो उसके धन और जीवन का अंत हो गया। आज भी कई ऐसी घटनाएं सामने आती रहती हैं ज‌िसमें अनैत‌िक संबंध के कारण व्यक्त‌ि के धन और जीवन का नाश हुआ बताया जाता है।
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें आस्था समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। आस्था जगत की अन्य खबरें जैसे पॉज़िटिव लाइफ़ फैक्ट्स,स्वास्थ्य संबंधी सभी धर्म और त्योहार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन
  • Downloads
    News Stand

Follow Us

  • Facebook Page
  • Twitter Page
  • Youtube Page
  • Instagram Page
  • Telegram
एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00