लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

PM Kisan Yojana: आधार लिंक करते ही 1.86 करोड़ किसान हुए अपात्र, चेक करें कहीं आप भी तो लिस्ट में नहीं

यूटिलिटी डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: प्रकाश चंद जोशी Updated Wed, 07 Dec 2022 12:33 PM IST
किन कारणों से अटक सकती है किस्त?
1 of 7
विज्ञापन
PM Kisan Samman Nidhi Yojana Aadhaar Link: हमारे देश में चलने वाली लगभग सभी सरकारी योजनाओं से एक बड़ी संख्या में लोग जुड़े हुए हैं, और वो इनका लाभ भी लेते हैं। जैसे- स्वास्थ्य, पेंशन, आवास या भत्ते जैसी कई योजनाएं इनमें शामिल हैं। ठीक ऐसे ही किसानों के लिए केंद्र सरकार प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का संचालन करती है। इस योजना का लाभ पात्र किसानों को दिया जाता है और सालाना उनके बैंक खाते में 6 हजार रुपये (2-2 हजार रुपये की तीन किस्तों में) भेजे जाते हैं। वहीं, दूसरी तरफ लगातार इस योजना से काफी किसान बाहर होते जा रहे हैं, क्योंकि ये किसान इस योजना का लाभ गलत तरीके से ले रहे थे या लेने की सोच रहे थे। तो चलिए जानते हैं कि ये कौन से किसान हैं जो योजना से बाहर हो रहे हैं या हो सकते हैं। आप अगली स्लाइड्स में इस बारे में जान सकते हैं...
किन कारणों से अटक सकती है किस्त?
2 of 7
  • दरअसल, जब किसानों का आधार लिंक किया गया, तो पिछले 6 महीने में 1.86 करोड़ किसान अपात्र हो गए हैं। सरकार ने 12वीं किस्त जारी करने से पहले किसानों का डाटा क्लीन करने के लिए किसानों के आधार कार्ड को चौथे डिजिटल फिल्टर से मिलाया, तो 1.86 करोड़ किसान कम हो गए। ऐसे में ये समझा जा सकता है कि सरकार अपात्र लोगों की पहचान करने के लिए कई तरीकों की मदद ले रही है।
विज्ञापन
किन कारणों से अटक सकती है किस्त?
3 of 7
अगर आप भी हैं इस लिस्ट में, तो आप भी हैं अपात्र:-
  1. अगर आप राज्य या केंद्र सरकार के मौजूदा या अवकाश प्राप्त कर्मचारी हैं
  2. अगर आप पूर्व या मौजूद मंत्री, सांसद, विधायक, मेयर और पंचायत प्रमुख हैं
  3. अगर आप किसी संवैधानिक पद पर काम कर रहे हैं या कर चुके हैं
  4. अगर आप ऐसे अवकाश प्राप्त पेंशनभोगी हैं जिनकी महीने की पेंशन 10 हजार रुपये या इससे ज्यादा है, तो आप पीएम किसान योजना का लाभ नहीं ले सकते हैं।
किन कारणों से अटक सकती है किस्त?
4 of 7
सरकार ऐसे करती है फर्जी लाभार्थियों की पहचान

नंबर 1
  • सरकार की तरफ से फर्जी लाभार्थियों को पहचानने के लिए जमीन के रिकॉर्ड का आधार से मिलान किया जा रहा है।
विज्ञापन
विज्ञापन
किन कारणों से अटक सकती है किस्त?
5 of 7
नंबर 2
  • फर्जी लाभार्थी की पहचान करने के लिए सरकार डाटा को यूआईडीएआई सर्वर पर भेज रही है, और यहां से पहचान कर रही है।
विज्ञापन
अगली फोटो गैलरी देखें
विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00