रुडोल्फ डीजल
गजब है

डीजल इंजन बनाने वाले रुडोल्फ डीजल की रहस्यमय मौत की कहानी

5 अक्टूबर 2021

Play
2:52
कई साल की मेहनत के बाद रुडॉल्फ डीजल ने 1897 में अपना पहला डीजल इंजन चलाया और इसके साथ ही उन्होंने आगाज भी कर दिया डीजल क्रांति का। मगर उनकी मौत कुछ उन हालातों में हुई, जिस पर राज आज तक बरकरार है। तो आज बात दुनिया को डीजल इंजन देने वाले रुडोल्फ डीजल की रहस्यमय मौत की।   
... Read More

डीजल इंजन बनाने वाले रुडोल्फ डीजल की रहस्यमय मौत की कहानी

1.0x
  • 1.5x
  • 1.25x
  • 1.0x
10
10
X

सभी 142 एपिसोड

हिमाचल प्रदेश के कुल्लू जिले में बना शंगचूल महादेव मंदिर में देश भर से भाग कर आए कई प्रेमीजोडों को पनाह दी जाती है। उनके लिए रहने-खाने की व्यवस्था तो होती ही है, बस ये समझिए कि पूरी मेहमानवाजी होती है।

तो मणिपुर में लोकटक झील है जो फ्लोटिंग झील के नाम से काफी मशहूर है, तो दरअसल करीब 240 स्क्वॉयर किलोमीटर दायरे में फैली ये झील भारत ही नहीं दुनिया की इकलौती फ्लोटिंग झील है, जहां आइलैंड तैरते नजर आते हैं।

गुजरात के तुलसीश्याम गांव में एक ऐसा टीला है जिसको लेकर लोगों का मानना है कि यहां ग्रैविटी काम ही नहीं करती। इसी बात को समझने के लिए यहां लोगों ने आजतक ना जाने तरह-तरह के कितने एक्सपेरिमेंट किए, जिसके जरिए ये पता लग सके कि कुछ भी पहाड़ों पर रख दो तो वो नीचे नहीं बल्कि ऊपर की तरफ जाएगा।

मोरक्को का ये शहर कोबाल्ट ब्लू सिटी के नाम से मशहूर है, हालांकि इसका असली नाम शिफशावन है। ये नीला शहर देखने में इतना खूबसूरत है कि आप खिंचे चले जाएंगे। हालांकि इस शहर से जुड़ी एक बदसूरत हकीकत भी है।

हाल ही में पेरू में एक ऐसी ममी मिली है जिसे 800 साल पुराना बताया जा रहा है। इस ममी का जेंडर पता नहीं चल पाया है। इसे लिमा प्रांत के अंतिम छोर में एक गड्ढे से निकाला गया है

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, चीन में बच्चों को सुपर किड बनाने की आड़ में उनके मां-बाप अजीबोगरीब चिकन पैरेंटिंग का सहारा ले रहे हैं। तो चलिए आज आपको बताते हैं कि चीन में आखिर लोग ऐसा क्यों कर रहे हैं?

आज एक ऐसी जगह की बात, जहां ग्रेविटी काम ही नहीं करती। ये जगह अमेरिका में है और हूवर डैम के नाम से मशहूर है। तो चलिए आज जानते हैं हूवर डैम में कोई चीज फेंकने पर उड़ने क्यों लगती है और क्यों यहां ग्रेविटी काम नहीं करती है।  

आज अमर उजाला आवाज के 'अजब है' में बात नगोरो नाम के गांव की, जहां जनसंख्या गिनती की बची हुई है। इस गांव में कभी 300 लोग रहा करते थे, मगर अब वहां इंसानों से ज्यादा पुतले दिखाई देते हैं।

मशहूर 'माइकल द नास्त्रेदमस' की दुनिया के बारे में हैरान करने वाली भविष्यवाणियों की फेहरिस्त थी जिसमें दुनिया में आने वाली तबाही के बारे में बताया गया है। इन्हीं में नास्त्रेदमस ने साल 2022 के लिए जो भविष्यवाणियां की हैं, वो दुनिया के लिए बेहद डरावनी हैं।

फ्रांस में बरगंडी के टोनेरे नाम के एक शहर में जमीन से हर सेंकेड 300 लीटर से ज्यादा पानी निकल रहा है। जिससे जुड़ा एक बड़ा सवाल ये है कि आखिर धरती से लगातार निकल रहे इस पानी का सोर्स क्या है।

आवाज

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00