लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

गुदगुदी
गुदगुदी

गुदगुदी: ‘गब्बर’ का ऐसा मस्त अंदाज नहीं देखा होगा!

25 September 2021

Play
3:12
दुनियादारी से गब्बर को जरूर मतलब था। अरे गब्बर, वो शोले फिल्म वाला। चलो आज गब्बर पर ही एक निबंध आपको सुनाती हूं। तो फील लेकर सुनें। शहर की भीड़ से दूर जंगल में गब्बर रहता था और एक ही कपड़े में कई दिन गुजार लेता था।

गुदगुदी: ‘गब्बर’ का ऐसा मस्त अंदाज नहीं देखा होगा!

1.0x
  • 1.5x
  • 1.25x
  • 1.0x
10
10
X

सभी 377 एपिसोड

भई रोजाना जिंदगी की शुरुआत S से होती है, वो ऐसे कि S से सूरज, सुबह, शाम, समय उसके बाद S से सगाई, शादी, फिर सास-ससुर, साला, साली और आखिर में सत्यानाश। 

शक करने की भी एक हद होती है और हद की भी हद तब हो जाती है जब पत्नी कर रही हो अपने डॉक्टर पति पर फालतू का शक। हुआ ऐसा कि एक डॉक्टर की बीवी का था ऑपरेशन, जो डॉक्टर को ही करना था।

स्कूल में भई आजकल के बच्चे शॉर्टकट बहुत खोजते रहते हैं। हुआ यूं कि एक टीचर ने बच्चों को लिखने के लिए दिया क्रिकेट मैच पर निबंध। जिसके बाद सभी बच्चे अपनी-अपनी कॉपी में निबंध लिखने में जुट गए

एक महिला घर में अपने पति से बोली कि तुम ना रोज फेसबुक पर रोमांटिक शायरी लिखते रहते हो, ये तुम्हारी जुल्फें हैं जैसे रेशम की डोर। किसकी खातिर लिखते हो ये सबकुछ।

आज की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में किसी के पास हंसने के लिए वक्त नहीं है। हालांकि सभी जानते हैं कि हंसी हर दर्द की दवा है। क्या आप जानते हैं की दुनिया का सबसे पहला जोक कब और कहां बोला गया था?

सुनो एक पति की कहानी उसी की जुबानी। एक रात कमरे का ताला हो गया खराब। बीवी ने टॉर्च मुझे थमा दी और खुद ताला खोलने में जुट गई। काफी समय गुजरने के बाद जब ताला नहीं खुला तो बीवी का पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया।

रानी बोली, इतना तो बगुला भी मछली पकड़ने के लिये चोंच नहीं निकालता होगा, जितना कि लड़कियां आजकल सेल्फी लेके वक्त होंठ निकालती रहती हैं। हां भई, मैंने को कई बार सेल्फी लेते वक्त होंठ निकालने की कोशिश की, मगर मेरा तो मुंह ही टेढ़ा हो गया।

भई ये सास-बहू का झगड़ा, तू-तू मैं -मैं कभी खत्म नहीं होने वाली। कौन गलत है कौन सही, ये इनसे बेहतर कोई नहीं बता सकता। एक बार बाप- बेटे ने मिलकर किसी तरह से सास- बहू की लड़ाई खत्म तो करा दी लेकिन उसी बीच बच्चे ने नानी को आते देखा तो उसके मुंह से निकली ये बात।

भई वर्क फ्रॉम होम के जहां फायदे हैं तो वहीं नुकसान भी है। ऐसे ही 6 महीने वर्क फ्रॉम होम करने के बाद एक शख्स हवाई यात्रा पर निकला। विमान में एयर होस्टेस बोली, सर आपको इस फ्लाइट में बिल्कुल घर जैसा माहौल मिलेगा।

दरवाजे पर नींबू- मिर्ची लटके देखें होंगे आप लोगों ने, भई मुझे तो ऐसा लगता है कि ये होते हैं एंटीवायरस। भई मेड इन इंडिया हैं तो कैसे कह दें कि काम नहीं करेंगे

आवाज

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00