गुदगुदी
गुदगुदी

गुदगुदी: सास-बहू के झगड़े में तीसरी लहर कौन?

1 अक्टूबर 2021

Play
3:55
भई ये सास-बहू का झगड़ा, तू-तू मैं -मैं कभी खत्म नहीं होने वाली। कौन गलत है कौन सही, ये इनसे बेहतर कोई नहीं बता सकता। एक बार बाप- बेटे ने मिलकर किसी तरह से सास- बहू की लड़ाई खत्म तो करा दी लेकिन उसी बीच बच्चे ने नानी को आते देखा तो उसके मुंह से निकली ये बात।
... Read More

गुदगुदी: सास-बहू के झगड़े में तीसरी लहर कौन?

1.0x
  • 1.5x
  • 1.25x
  • 1.0x
10
10
X

सभी 311 एपिसोड

भई 50 साल के बाद भी बाल घने लंबे रखने हों तो इसका एक टॉप क्लास राज है, वो ये कि रोज एक घंटा पैदल चलिए, 20 मिनट शीर्षासन करिए, 20 मिनट योगासन और रोजाना हरे पत्तेदार सब्जियां खाइए। लेकिन इसके साथ ही एक चीज तो बिल्कुल ना भूलें...

तो भई सबसे पहले 'गुदगुदी' में आज का ज्ञान, तो कहते हैं, अहंकार ही सबसे बड़ा पाप है। मगर एक महिला जब अपनी खूबसूरती पर घमंड करने लग जाए तो उसे पाप नहीं कहते बल्कि उसे कहते हैं गलतफहमी और ये गलतफहमी कोई पाप नहीं।

दुनिया में अपना भारत ही एक ऐसा इकलौता देश है जहां शाकाहारी लोगों की कई वैराइटी मिलती हैं। कैसे? तो वो ऐसे कि एक होता है शुद्ध शाकाहारी तो उसकी तो हालत मत पूछिए लेकिन इसके साथ ही कुछ और वैराइटी पर नजर डालें तो कुछ लोग अंडा तो खाते हैं लेकिन  चिकन को हाथ नहीं लगाते।

ध्यान से सुनिए, बरात में वो गाना सुना आपने, ये देश हैं वीर जवानों का, अलबेलों का मस्तानों का। तो भई इस गाने पर वही नाचते हैं, जिन्हें नहीं आता नाचना या जिनसे  जबरन नाचने की रिक्वेस्ट की जाती है

एक हिंदुस्तान का रहने वाला अमेरिकी डॉक्टर भारत पहुंचा। बस स्टैंड पर एक किताब देखते ही उसे पड़ गया दिल का दौरा, क्योंकि 20 रुपए की इस किताब का नाम था, 30 दिनों में डॉक्टर कैसे बना जाए

अब एक कड़वा सच सुनिए, फिल्मो में हीरो चाहे कितना भी बेरोज़गार रहता है लेकिन उसकी एक गर्लफ्रेंड तो होती ही है, वो भी एक अमीर पिता की बेटी। बाकि आप लोग इशारा तो समझ ही गए होंगे

अब ससुराल और मायके की बात हो रही है तो सुसराल में जब रेडीमेड की जगह कट-पीस मिलने लगें ना तो शादीशुदा आदमियों को समझ जाना चाहिए कि तुम जीजा जी से हटकर फूफा जी की कैटीगरी में आ गए हो।

एक शादी में डीजे बज रहा था। इस बीच एक गाना सुनाई दिया, जिसको डांस नहीं करना, वो जाके अपनी भैंस चराए। बस ज्यादातर तो शादीशुदा आदमी निकल लिए अपनी-अपनी बीवियों को प्रीतिभोज कराने के लिए। 

एक शहर के बीच चौराहे पर बैठा था एक भिखारी। एक आदमी उसको कुछ दिन से रोटी देते हुए निकलता था।ऐसे ही गुजर गए एक दिन, दो दिन नहीं बल्कि 10 दिन। बस 10वें दिन ही वो भिखारी रोते हुए बोला, भई ऐसा है मेरी किडनी ले जा

एक लड़का अपनी गर्लफ्रेंड से बोला कि तेरी ये शर्ट फटी हुई है, इसे सिला लेती। ये सुनकर लड़की ने कहा कि ऐसा है कि ये आजकल का स्टाइल है। ये सुनकर लड़का हैरान होकर बोला कि क्या यार, तुम फाड़ो तो फैशन और हम कपड़े फाड़ें तो सीधा पुलिस स्टेशन
 

आवाज

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00