गुदगुदी
गुदगुदी

गुदगुदी: आदमी की जिंदगी में सबसे बड़ी मुसीबत क्या है

27 अगस्त 2021

Play
3:25
आप में से कई शादीशुदा आदमियों की जिंदगी तो किरकिरी हो रही होगी बीवी की वजह से। लेकिन दिल की बात तो चेहरे पर टपक ही जाती है। एक औरत अपने पति से बोली, कितनी देर से मैं तुमसे ये पूछ रही हूं कि जीवन में तुम्हारे सामने सबसे बड़ी मुसीबत क्या है और तुम हो कि मुझे ही घूरे चले जा रहे हो।  ... Read More

गुदगुदी: आदमी की जिंदगी में सबसे बड़ी मुसीबत क्या है

X

सभी 281 एपिसोड

गुदगुदी

गुदगुदी: सुनिए शब्दों का मजेदार कंफ्यूजन!

गुदगुदी

एक शख्स को चम्मच भी धोनी नहीं आती थी। मतलब ये समझ लो कि सारा का सारा काम उसने कभी करना ही नहीं। मगर जब मैंने उसे शादी करने की सलाह दी तो उसका कायाकल्प ही हो गया और अब वो बर्तन - कपडे सब धो लेता है।

गुदगुदी

अपनी बीवियों से परेशान कुछ पति जब भी अपने सुसराल जाते हैं तो उनसे एक सवाल तो बहुत पूछा जाता है, वो ये कि दामाद जी हमारी बेटी से शादी करके आप खुश हैं ना? बस यही लाइन जैसे हर समय जले पर नमक छिड़कने वाली हो गई है ससुरालवालों की।

गुदगुदी

कल रात एक शादी में डीजे पर एक गाना बजा। जिसको डांस नहीं करना, वो जाकर अपनी भैंस चराए। बस ये गाना सुनते ही ज्यादातर पति तो अपनी-अपनी बीवियों को खाना खिलाने के लिए ले गए

गुदगुदी

शक करने की भी एक हद होती है और हद की भी हद तब हो जाती है जब पत्नी कर रही हो अपने डॉक्टर पति पर फालतू का शक। हुआ ऐसा कि एक डॉक्टर की बीवी का था ऑपरेशन, जो डॉक्टर को ही करना था।

गुदगुदी

एक शख्स ने पहनी हुई थीं दस उंगलियों में अंगूठियां। ये देखकर उसके दोस्त ने कहा कि यार गजब है ये सारी उंगलियों में अंगूठियां क्यों डाली हुई हैं। अब सुनिए उस शादीशुदा शख्स का मस्त जवाब

गुदगुदी

ये लड़कों वाली दोस्ती होती है ना, कभी-कभी बचा लेती है तो कभी कभार पिटवा भी देती है। जो दोस्त अपने दोस्त को पिटता देख अगर घर की तरफ भागता है तो उसे गद्दार नहीं कहना चाहिए क्योंकि हो सकता है वो डंडा या तलवार लेने के लिए भागा हो

गुदगुदी

अमर उजाला आवाज 'गुदगुदी' में आज रानी से सुनिए दुनिया में तीन तरह के लोग खासतौर से पाए जाते हैं। पहले आयुर्वेदिक,दूसरे एलोपैथिक और तीसरे नंबर पर आते हैं होम्योपैथिक टाइप लोग।

गुदगुदी

सुनो एक पति की कहानी उसी की जुबानी। एक रात कमरे का ताला हो गया खराब। बीवी ने टॉर्च मुझे थमा दी और खुद ताला खोलने में जुट गई। काफी समय गुजरने के बाद जब ताला नहीं खुला तो बीवी का पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया।

गुदगुदी

दिवाली पर पटाखा जलाना अब मुश्किल हो रहा है। वो भी प्रदूषण के कारण। अभी तक पूजा का मुहूर्त निकाला जाता था लेकिन अब तो पटाखे फोड़ने का भी मुहूर्त निकाला जाता है वो भी रात 8 बजे से 10 बजे तक।
 

आवाज

  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00