बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
गुदगुदी
गुदगुदी

गुदगुदी: सुनिए घर में कौन होते हैं ‘नेचुरली खगोलशास्त्री’

1 अगस्त 2021

Play
2:53
अमर उजाला आवाज पर 'गुदगुदी' में रानी से सुनिए घर में कौन होते हैं ‘नेचुरली खगोलशास्त्री’  

गुदगुदी: सुनिए घर में कौन होते हैं ‘नेचुरली खगोलशास्त्री’

X

सभी 258 एपिसोड

गुदगुदी

अमर उजाला लेकर आया है अमर उजाला आवाज की गुदगुदी। जहां आपको रोज नए-नए जोक्स सुनने को मिलेंगे रानी के अंदाज में। सुनिए और लुत्फ उठाइए इन मजेदार चुटकुलों का।

गुदगुदी

दुनियादारी से गब्बर को जरूर मतलब था। अरे गब्बर, वो शोले फिल्म वाला। चलो आज गब्बर पर ही एक निबंध आपको सुनाती हूं। तो फील लेकर सुनें। शहर की भीड़ से दूर जंगल में गब्बर रहता था और एक ही कपड़े में कई दिन गुजार लेता था।

गुदगुदी

ये बताएं कि सर्जन और विसर्जन में क्या फर्क होता है। चलिए हम बताते हैं कि वैसे तो मतलब तो दोनों का अलग है लेकिन फर्क महीन है। वो ऐसे कि मान लीजिए अगर ऑपरेशन सही से हो गया तो आप सर्जन हैं और अगर सर्जन का हाथ हिल गया तो आपका विसर्जन पक्का है।

गुदगुदी

भई रोजाना जिंदगी की शुरुआत S से होती है, वो ऐसे कि S से सूरज, सुबह, शाम, समय उसके बाद S से सगाई, शादी, फिर सास-ससुर, साला, साली और आखिर में सत्यानाश। 

गुदगुदी

एक बात बताएं, कहीं चोट के घाव तो भर सकते हैं लेकिन जो कड़वी बात मुंह से निकल जाए ना उसकी भरपाई कभी भी नहीं हो सकती। हम तो कहें कि कोई भी मामला हमेशा लात-घूंसों मतलब कि मार- पिटाई से ही सुलझाओ तो फायदे में रहोगे।

गुदगुदी

गुस्सा तो तब आता है जब किसी बरात की गाड़ी में सबसे पहले जाकर पहले तो सीट रोक कर बैठो, फिर जब गाड़ी चलने लगे तो घर वालो की आवाज आती है कि बेटा ऐसा कर तुम उठ जाओ, जरा फूफा जी को बैठने दो। तो ऐसे ही बन जाता है बने बनाए मूड का हलवा।

गुदगुदी

भई हर भारतीय महिला की रोज की ये सबसे बड़ी परेशानी है कि आज खाने में क्या बनाया जाए। हम तो कहेंगे कि इस समस्या को महिलाओं की राष्ट्रीय समस्या घोषित कर देना चाहिए।

गुदगुदी

अब नवरात्रि को ही ले लीजिए, उसमें वो गरबा डांस बहुत जोर का होता है। आगे-पीछे, पीछे आगे, बस यही तो करना होता है लेकिन एक बात बताएं कि अगर तुम्हें ये नहीं पता कि जीवन में कैसे आगे-पीछे चलना है तो कसम से तुम लोग ये गरबा डांस कभी नहीं कर सकते। 

गुदगुदी

अब जिंदगी कैसे जी जाए, अक्सर मैं और मेरी तन्हाई बात करती हैं। एक बार मैंने खुद से पूछा कि जिंदगी कैसे जीनी चाहिए। मुझे मेरे कमरे के हिस्सों ने एकएककर जवाब देना शुरू किया।

गुदगुदी

एक शख्स गया शादी में, जहां पंडाल बहुत जोरों का लगाया हुआ था। उसमें अंदर जाने की खातिर दो दरवाजे थे। एक पर लिखा रिश्तेदार और दूसरे पर दोस्त, ये देखकर वो शख्स  दोस्त वाले दरवाजे में घुस गया।

आवाज

  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X