लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Aaj Ka Kavya

आज का काव्य

Kavya

चंद मिनटों में सुनिए कविता,ग़ज़ल और शेरो शायरी

हिंदी दिवस विशेष: पदम् श्री गोपालदास 'नीरज'

1.0x
  • 1.5x
  • 1.25x
  • 1.0x
10
10
X

सभी 106 एपिसोड

गोपालदास 'नीरज' का जन्म 4 जनवरी 1925 को उत्तर प्रदेश के इटावा ज़िले के पुरावली गांव में हुआ था, वह विश्व उर्दू परिषद पुरस्कार और यश भारती से सम्मानित किए गए थे। भारत सरकार ने उन्हें 1991 में पदम् श्री और 2007 में पद्म भूषण से अलंकृत किया था।

‘प्रगतिशील त्रयी’के नागार्जुन का जन्म कब हुआ उन्हें भी ठीक से मालूम नहीं था। जोड़-घटाव से मान लिया गया कि 1911 की जून के किसी दिन वह पैदा हुए। नाम रखा गया ‘ठक्कन मिसिर। 

रामधारी सिंह 'दिनकर' हिन्दी के प्रसिद्ध लेखक, कवि एवं निबंधकार थे। 'राष्ट्रकवि दिनकर' आधुनिक युग के श्रेष्ठ वीर रस के कवि के रूप में स्थापित हैं। उनको राष्ट्रीय भावनाओं से ओतप्रोत, क्रांतिपूर्ण संघर्ष की प्रेरणा देने वाली ओजस्वी कविताओं के कारण असीम लोकप्रियता मिली। 

सुभद्रा कुमारी चौहान हिन्दी की सुप्रसिद्ध कवयित्री और लेखिका थीं। उनके दो कविता संग्रह तथा तीन कथा संग्रह प्रकाशित हुए, पर उनकी प्रसिद्धि 'झाँसी की रानी' कविता के कारण है। 

चेचक और हैजे से मरती हैं बस्तियां
कैंसर से हस्तियां
वकील रक्तचाप से
कोई नहीं मरता अपने पाप से।

सुमित्रानंदन पंत को ‘प्रकृति के सुकुमार कवि’ के रूप में जाना जाता है, उनका जन्म आज के उत्तराखण्ड के बागेश्वर ज़िले के कौसानी में 20 मई 1900 को हुआ। 

सूर्यकांत त्रिपाठी निराला को हिंदी साहित्य के छायावादी युग के चार स्तंभ कारी कवियों में से एक माना जाता है। सूर्यकांत त्रिपाठी निराला भारत में ही नहीं बल्कि संपूर्ण विश्व के एक विख्यात कवि हैं। निराला कवि साथ बहुत ही प्रसिद्ध उपन्यासकार, निबंधकार, कहानीकार थे।

सुनिए, सर्वेश्वरदयाल सक्सेना की कविता- सब कुछ कह लेने के बाद

मैथिलीशरण गुप्त हिंदी खड़ बोली के महत्वपूर्ण और प्रसिद्धि कवि थे। उनकी कला और राष्ट्र प्रेम के कारण उन्हें राष्ट्र कवि का दर्जा प्राप्त है | उनकी कविताओं की विशेष बात ये भी थी वे खड़ी बोली में लिखने वाले पहले कवि थे जिसकी वजह से कवियों में उनका एक अलग स्थान रहा। मैथिलीशरण गुप्त की कविताओं ने स्वतंत्रा में बहुत बड़ा योगदान दिया है उनका देश के प्रति इसी अपार प्रेम के कारण उनके जन्म दिवस को राष्ट्र कवि दिवस के रूप मनाया जाता है।

रामचरित उपाध्याय गाजीपुर के रहने वाले थे। इनकी आरंभिक शिक्षा संस्कृत में हुई। बाद में ब्रजभाषा और खड़ी बोली पर भी अच्छा अधिकार प्राप्त कर लिया। 

आवाज

एप में पढ़ें

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00