बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
health podcast
सेहत की बात

सर्दियों में इन सब्जियों के सेवन से मिल सकते हैं कई लाभ

1 दिसंबर 2021

Play
2:36
सर्दियों में अरबी का सेवन करना काफी फायदेमंद माना जाता है। अरबी में पोटेशियम, स्टार्च, फाइबर, मैग्नीशियम, विटामिन- सी और ई की भरपूर मात्रा पाई जाती है। इतना ही नहीं अरबी हृदय रोग के जोखिम कम करने के साथ ही कैंसर के खतरे को भी कम करने में काफी मदद करती है

सर्दियों में इन सब्जियों के सेवन से मिल सकते हैं कई लाभ

1.0x
  • 1.5x
  • 1.25x
  • 1.0x
10
10
X

सभी 185 एपिसोड

कोलेस्ट्रॉल मोम की तरह का पदार्थ होता है जिसका उपयोग शरीर कोशिकाओं और हार्मोन्स के निर्माण के लिए करती हैं। कोलेस्ट्रॉल मुख्यरूप से दो प्रकार का होता है, एचडीएलऔर एलडीएल। कोलेस्ट्रॉल का बढ़ा हुआ स्तर कई तरह की गंभीर स्वास्थ्य स्थितियों, जैसे स्ट्रोक या दिल के दौरे के जोखिम को बढ़ाता है।
 

पीनट बटर में हेल्दी मिनरल्स और विटामिन भरपूर मात्रा में पाया जाता है। इसके अलावा विटामिन बी 5, जिंक, आयरन, पोटेशियम और सेलेनियम भी हाई होता है। एक चम्मच पीनट बटर में 100 कैलोरी होती है, जो मोनो अनसैचुरेटेड फैट के रूप में होती है। 
 

विटामिन या पोषक तत्व से अधिकतम लाभ प्राप्त करने के लिए उसका सही मात्रा में सेवन किया जाना आवश्यक होता है। प्रतिदिन 10-20 माइक्रोग्राम की मात्रा में इस विटामिन के सेवन को शरीर के लिए ठीक माना जाता है और अगर इसका अधिक सेवन किया जाए तो इससे स्वास्थ्य संबधित कई दिक्कतों का सामना करना पड़ जाता है

क्या सर्दियों में आपके हाथों पैरों में सूजन या खुजली के साथ लाल धब्बे, फफोले होते हैं...अगर आपके साथ ऐसा कुछ हो रहा है तो सावधान हो जाएं...इस तरह की स्थिति को चिलब्लेंस कहते है..दरअसल इस तरह की स्थित शरीर के बार-बार ठंड के सम्पर्क में आने से होती है... खासकर हाथों और पैरों में इसकी वजह से सूजन और खुजली के साथ ही लाल धब्बे, फफोले आदि भी हो सकते हैं...हालांकि ज्यादातर मामलों में ये फफोले और सूजन मौसम में थोड़ी गर्मी आते ही ठीक भी हो जाते हैं...लेकिन कई बार इनको नजरअंदाज करने से संक्रमण बढ़ सकता है...इसलिए जरूरी है कि शुरुआत से ही इसे लेकर सावधानी बरती जाए....तो आज मैं आपको इससे बचाव के बारे में ही बताऊंगी..

पपीते में एंटीऑक्सिडेंट्स की मात्रा अधिक होती है जो पेट को ठीक रखने, त्वचा की रंगत निखारने और अस्थमा जैसी क्रोनिक बीमारियों से सुरक्षा देने में भी काफी लाभदायक माना जाता है

बच्चों को विकास के दौरान प्रोटीन, कैल्शियम, स्वस्थ वसा, आयरन, विटामिन डी, मैग्नीशियम और फास्फोरस जैसे पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है। ये सभी पोषक तत्व शारीरिक और मानसिक विकास के साथ-साथ शरीर की लंबाई को बढ़ाने में भी मदद करते हैं।
 

ऐडेड शुगर वाले पेय पदार्थ जैसे सॉफ्ट ड्रिंक और सोडा आदि न सिर्फ वजन बढ़ाने, ब्लड ग्लूकोज के स्तर को प्रभावित करने का कारण बनते हैं, साथ ही यह दांतों के लिए भी मुसीबत का कारण बन सकते हैं
 

लैक्टोज इन्टॉलरेंस की समस्या भी असल में शकर से जुड़ी हुई है। लैक्टोज का मतलब ही होता है डेयरी पदार्थों या दूध आदि में मौजूद शकर। लेक्टोज इनटोलरेंस से ग्रसित व्यक्ति इन पदार्थों में मौजूद शकर को पूरी तरह पचा नहीं पाता इसके परिणाम स्वरूप डायरिया यानी कि दस्त, गैस तथा ब्लाटिंग जैसे लक्षण उभरने लगते हैं।
 

लिवर शरीर से विषाक्त पदार्थों और अपशिष्ट को बाहर निकालने का काम करता है। यह पित्त का उत्पादन करके पाचन और फैट के ब्रेकडाउन में भी सहायता करता है, ऐसे में इस अंग में होने वाली किसी भी तरह की समस्या का असर शरीर को गंभीर रूप से प्रभावित कर सकता है
 

मूंगफली ऐसा ही एक खाद्य पदार्थ है, जिसका सर्दियों के मौसम में सेवन करना सेहत के लिए विशेष लाभदायक हो सकता है। इसमें फाइबर की भी अच्छी मात्रा मौजूद होती है, ऐसे में इसका सेवन करना पेट के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। यह भूख को नियंत्रित करता है और आपको लंबे समय तक पेट भरा हुआ महसूस करा सकता है
 

आवाज

  • Downloads

Follow Us

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00