लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

मोमिन
मंटो के अफसाने

सुनिए मंटो का अफसानाः ब्लाउज़

5 December 2022

Play
23:40
कुछ दिनों से मोमिन बहुत बेक़रार था। उसको ऐसा महसूस होता था कि उसका वजूद कच्चा फोड़ा सा बन गया था। काम करते वक़्त, बातें करते हुए हत्ता कि सोचने पर भी उसे एक अजीब क़िस्म का दर्द महसूस होता था। ऐसा दर्द जिसको वो बयान भी करना चाहता तो न कर सकता...

सुनिए मंटो का अफसानाः ब्लाउज़

1.0x
  • 1.5x
  • 1.25x
  • 1.0x
10
10
X

सभी 99 एपिसोड

सुनिए मंटो का अफसाना: शिकारी औरतें

ये एक ऐसे पहलवान की कहानी है जो अपने मालिक का बेहद वफादार होता है. वो हमेशा महिलाओं से दूर रहता था लेकिन जब उसका मालिक मुसीबत में आता है तो...

ये एक ऐसी महिला की कहानी है जो अपने परिवार की मर्जी के बगैर एक तांगेवाले से शादी कर लेती है. तांगे वाले को जेल हो जाती है और वो बीमार होकर मर जाता है. पति के मरने के बाद महिला तांगा चलाने का फैसला करती है लेकिन...

ये कहानी है एक हंसमुख और शरारती इंसान की जो जिंदगी भर एक गलती के लिए पछताता रहता है. दरअसल वो अपने एक मौलाना दोस्त को शराब पिला देता है और उसको इसका मलाल सारी उम्र रहता है. लेकिन जब एक रोज वो मौलाना से मिलता है तो उसके होश उड़ जाते हैं...

ये कहानी है दो मुसाफिरों की जो ट्रेन में हमसफर होते हैं. इसी बीच एक मुसाफिर दूसरे से कहता है कि क्या तुमने मुझे पागल कहा. इस पर बात आगे बढ़ती है और फिर...

ये गंडा सिंह नाम के एक ऐसे आदमी की कहानी है जिसके पास सिर्फ चार कपड़े होते हैं. इनमें से एक गर्म सूट भी था. वो बेहद गंदा रहता था. इतना गंदा कि देखकर घिन आ जाए. लेकिन फिर भी लोग उसे पसंद किया करते थे. अपने पास बैठाकर खाना खिलाया करते थे...

यह कहानी अमीरों के शौक़ और उनकी दिलचस्पियों के गिर्द घूमती है। एक पहाड़ी इलाक़े में कुछ मज़दूर पत्थर साफ़ करने का काम किया करते थे। वहाँ सड़क से गुज़रने वाली तरह-तरह की लारियाँ ही उनके मनोरंजन का साधन थीं...

 

ये कहानी है एक ऐसी महिला की जो फिल्मों में लड़कियों को छोटे-मोटे किरदार दिलाती है साथ ही उनकी दलाली भी करती है. ऐसे में उसके करीब एक लड़का आता है और उसके साथ सोने का प्रस्ताव रखता है...

नाम उसका सलीम था मगर उसके यार-दोस्त उसे शहज़ादा सलीम कहते थे। ग़ालिबन इसलिए कि उसके ख़द-ओ-ख़ाल मुग़लई थे, ख़ूबसूरत था। चाल ढ़ाल से रऊनत टपकती थी। उसका बाप पी.डब्ल्यू.डी. के दफ़्तर में मुलाज़िम था। तनख़्वाह ज़्यादा से ज़्यादा सौ रुपये होगी मगर बड़े ठाट से रहता, ज़ाहिर है कि रिश्वत खाता था। यही वजह है कि सलीम अच्छे से अच्छा कपड़ा पहनता जेब ख़र्च भी उसको काफ़ी मिलता इसलिए कि वो अपने वालिदैन का इकलौता लड़का था। 

ये कहानी है एक ऐसी लड़की की जो मोहब्बत में नाकाम होकर खुदकुशी करना चाहती है, लेकिन तभी उसे एक नौजवान मिलता है जो प्यार-मोहब्बत का असली मतलब समझाता है...

आवाज

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00