लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Punjab ›   Amritsar ›   Christian organizations protest near railway station on Attari Road in Amritsar

Amritsar: चर्च में बेअदबी करने वालों की गिरफ्तारी की मांग, धरने पर बैठे ईसाई संगठन

संवाद न्यूज एजेंसी, अमृतसर (पंजाब) Published by: निवेदिता वर्मा Updated Tue, 27 Sep 2022 03:49 PM IST
सार

ईसाई नेताओं ने सड़क पर धरना देकर करीब दो घंटे यातायात रोके रखा। इस कारण अमृतसर शहर की सारी ट्रैफिक व्यवस्था अव्यवस्थित हो गई।

अमृतसर में प्रदर्शन।
अमृतसर में प्रदर्शन। - फोटो : संवाद न्यूज एजेंसी।
विज्ञापन
ख़बर सुनें

विस्तार

ईसाई समुदाय ने कस्बा पट्टी की चर्च में मूर्तियों की बेअदबी करने वालों को अभी तक गिरफ्तार न करने पर पंजाब बंद व चक्का जाम के आह्वान पर अमृतसर में विशाल रोष प्रदर्शन व रैली की गई। अमृतसर- अटारी जीटी रोड पर रेलवे स्टेशन के पास अलग-अलग ईसाई संगठनों के कार्यकर्ताओं ने बड़ी संख्या में इकट्ठे होकर रोष धरना व प्रदर्शन किया। करीब दो घंटे तक यातायात जाम रखा।


 
प्रशासन ने रूट डायवर्ट भी किया मगर करीब पांच घंटे अमृतसर की यातायात व्यवस्था चरमराई रही। ऐसा प्रतीत हो रहा था कि जैसे सारा शहर ही जाम हो गया हो। प्रदर्शनकारी सरकार की ईसाई समुदाय विरोधी नीतियों के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रहे थे। उनकी मांग थी कि घटना के बाद अभी तक एक भी आरोपी क्यों नहीं गिरफ्तार किया जा सका। यहां तक कि अभी तक किसी आरोपी की पुलिस पहचान भी नहीं करवा पाई है। इससे पुलिस की लापरवाही इस मामले को हल करने के संबंध में ढुलमुल नीति स्पष्ट हो रही है।


ईसाई नेताओं प्रधान अवतार, रोहित खोखर प्रधान, प्रधान राजकुमार, आप नेता पदम एंथोनी, बिशप उल्फत राज, पंजाब क्रिश्चियन फेडरेशन के प्रमुख पीटर चीदा आरिफ चौहान, परवेज तंग, यूनाइटेड पास्टर एसोसिएशन के चेयरमैन अली अजर, सुरेंदर गिल, संत विजय क्रिश्चियन, नीरु, संत बलविंदर जॉन, सोहना मिनिस्ट्री पास्टर प्रेम मसीह, सुरजीत थापर ईसा दास टोनी, पूर्ण सफरी ने कहा कि अमृतसर के गांव डडुआणा में निहंगों के साथ हुए ईसाई समुदाय के लोगों के झगड़े के विवाद को भी अभी तक हल नहीं किया गया है।

उन्होंने यह मांग भी उठाई कि चर्च की संपत्ति को सरकार अभी तक सुरक्षा दे पाने में भी असफल सिद्ध हो रही है। ईसाई नेताओं ने कहा कि कुछ समय से राज्य में धर्मांतरण के नाम पर जानबूझ कर शांति प्रिय ईसाई समुदाय को निशाना बनाया जा रहा है। उनके द्वारा समय-समय पर सरकार और प्रशासन को घटना के आरोपियों के विरुद्ध मांग पत्र देकर गिरफ्तारी की मांग की गई है। परंतु सरकार और प्रशासन के कानों पर जूं तक नहीं रेंगती दिखाई दी।  सरकार और प्रशासन ईसाइयों पर हुई हिंसक घटनाओं को पूरी तरह से नजरंदाज कर रहा है। 

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00