लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Punjab ›   Amritsar ›   Government interference in the religious issues of Sikhs is fatal for the country- SGPC

सिखों के धार्मिक मुद्दों में सरकारी दखल देश के लिए घातक - एसजीपीसी

Punjab Bureau पंजाब ब्‍यूरो
Updated Sat, 24 Sep 2022 10:51 PM IST
Government interference in the religious issues of Sikhs is fatal for the country- SGPC
विज्ञापन
ख़बर सुनें
अमृतसर। शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सदस्यों ने कहा कि जिस तरह केंद्र की सरकार अल्पसंख्यकों का दमन कर रही हैं और उनके धार्मिक मामलों में दखल दे रही हैं, उससे देश को बड़ा नुकसान हो सकता है। इससे देश में अविश्वास का माहौल तेजी से बढ़ रहा है। सदस्यों ने कहा कि सिखों के धार्मिक मुद्दों में सरकारी दखल देश के लिए घातक है। कांग्रेस ने हरियाणा कमेटी का बीज बोया और बीजेपी ने उसको पानी दिया। साथ ही कहा कि अगर गुरुद्वारों का प्रबंधन हरियाणा सरकार ने छीनने की कोशिश की तो परिणाम अच्छे नहीं होंगे।

एसजीपीसी के पूर्व वरिष्ठ उपाध्यक्ष भाई राजिंदर सिंह मेहता, सुरजीत सिंह भिट्टेवड्ड, पूर्व महासचिव भगवंत सिंह सियालका, वरिष्ठ सदस्य हरजाप सिंह सुल्तानविंड, अमरजीत सिंह बंडाला, जोध सिंह समरा, सदस्य भाई राम सिंह, मंगविंदर सिंह खापड़खेड़ी व बावा सिंह गुमानपुरा ने संयुक्त रूप में कहा कि कांग्रेस ने जहां सिखों को नुकसान पहुंचाया, वहीं केंद्र की भाजपा सरकार आरएसएस की विचारधारा के तहत देश में रह रहे अल्पसंख्यकों को दबाने की कोशिश कर रही है। ऐसे में सरकार सीधे तौर पर अल्पसंख्यकों के धार्मिक मामलों में दखल दे रही है। जिससे अल्पसंख्यक समुदाय खुद को असुरक्षित महसूस कर रहे हैं।

शिरोमणि कमेटी के सदस्यों ने कहा कि देश के बंटवारे के बाद कांग्रेस की सरकार ने सिखों को बांटने के प्रयास किए। सिखों को बांटने की कांग्रेस की मंशा से हुड्डा सरकार के दौरान पृथक हरियाणा सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी अधिनियम पारित किया गया था, जिसे भाजपा ने भी मान्यता देने में कोई कसर नहीं छोड़ी। उन्होंने कहा कि सरकार की सिख संस्था शिरोमणि कमेटी को तोड़ने की प्रक्रिया में कुछ सिख चेहरे भी शामिल हैं। जो थोड़े से लालच में पंथ विरोधी ताकतों के हाथों में खेल रहे हैं। शिरोमणि कमेटी ने इन सदस्यों ने कहा कि सिख पंथ की मुख्य संस्था बलिदानों के बाद अस्तित्व में आई है और सिख समुदाय इसे तोड़ने की योजना के खिलाफ संघर्ष के लिए पीछे नहीं हटेगा। उन्होंने कहा कि अगर हरियाणा सरकार गुरुद्वारों का प्रबंधन जबरदस्ती अपने हाथ में लेने की कोशिश करती है तो परिणाम अच्छे नहीं होंगे।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00