लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Punjab ›   Amritsar News ›   Former IG MLA Kunwar Vijay Singh said action taken on his report singer Sidhu Moose Wala would have been alive

पूर्व आईजी और आप विधायक का सनसनीखेज खुलासा: कहा- मेरी रिपोर्ट पर कार्रवाई हुई होती तो मूसेवाला जिंदा होता

सुरिंदर पाल, अमर उजाला, जालंधर (पंजाब) Published by: वीरेंद्र शर्मा Updated Sun, 04 Dec 2022 04:19 AM IST
सार

वर्ष 2021 तक संगठित अपराध नियंत्रण इकाई (ओसीसीयू) के आईजीपी रहे कुंवर विजय प्रताप सिंह ने रिपोर्ट में कहा है कि गैंगस्टर जग्गू भगवानपुरिया अकाली दल के एक बड़े नेता का शागिर्द है। वह सिद्धू मूसेवाला की हत्या के साजिशकर्ताओं में से एक है।

पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला
पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला - फोटो : फाइल फोटो
विज्ञापन

विस्तार

पंजाब में नेताओं और गैंगस्टरों के की उच्चस्तरीय जांच करने वाले पूर्व आईजी और मौजूदा आप विधायक कुंवर विजय प्रताप सिंह का कहना है कि दो साल पहले पंजाब सरकार को सौंपी उनकी रिपोर्ट पर कार्रवाई हुई होती तो पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला जिंदा होते। पंजाब में गैंगस्टर पनपे ही राजनेताओं की छत्रछाया में हैं। विजय प्रताप ने बताया कि इस संबंध में उन्होंने 18 फरवरी 2020 को प्रदेश सरकार को रिपोर्ट सौंप दी थी, लेकिन इस पर न तो किसी ने बात की न ही रिपोर्ट को अब तक सार्वजनिक किया गया। रिपोर्ट में 2009 में सड़क हादसे में जान गंवाने वाले तत्कालीन वित्त मंत्री कैप्टन कंवलजीत सिंह का भी जिक्र है। कहा गया है कि वह दुर्घटना नहीं एक योजनाबद्ध हत्या थी।


वर्ष 2021 तक संगठित अपराध नियंत्रण इकाई (ओसीसीयू) के आईजीपी रहे कुंवर विजय प्रताप सिंह ने रिपोर्ट में कहा है कि गैंगस्टर जग्गू भगवानपुरिया अकाली दल के एक बड़े नेता का शागिर्द है। वह सिद्धू मूसेवाला की हत्या के साजिशकर्ताओं में से एक है। भगवानपुरिया को रोपड़ से अमृतसर जेल में एक योजना के तहत शिफ्ट किया गया था। उन्होंने संसदीय चुनाव से ठीक पहले (23 मार्च, 2019) भगवानपुरिया को अमृतसर जेल स्थानांतरित करने के तर्क पर सवाल उठाया। रिपोर्ट में कहा है कि नेता ने राजनीतिक लाभ के लिए अपने बाहुबल का उपयोग करने के उद्देश्य से गैंगस्टर को स्थानांतरित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। यही नहीं 2014 में अकाली-दल भाजपा के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ने वाले एक प्रभावशाली नेता की मीटिंग भी गैंगस्टरों द्वारा रखवाई गई थी। आप विधायक ने कहा कि जेल में बैठे लोग बाहर राजनेताओं की मीटिंग करवा रहे थे। कुंवर ने पंजाब सरकार के आदेश पर 11 नवंबर 2019 को जांच शुरू की थी और 18 फरवरी, 2020 को रिपोर्ट सरकार को सौंप दी थी। इस रिपोर्ट को आईजी व कई जिलों के एसएसपी से जानकारी लेकर तैयार की गई थी, लेकिन तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने रिपोर्ट को दबा दिया।


 लॉरेंस बिश्नोई का एनआईए रिमांड 10 दिन और बढ़ा
मूसेवाला की हत्या मामले में दिल्ली की एक अदालत ने शनिवार को गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई का रिमांड 10 दिन और बढ़ा दिया है। हालांकि नेशनल इन्वेस्टिशन एजेंसी (एनआईए) ने 10 दिन का और रिमांड मांगा था। एनआईए दिल्ली-एनसीआर में गैंगस्टरों के आतंकी संगठनों से लिंक को लेकर भी जांच कर रही है। पटियाला हाउस कोर्ट के विशेष न्यायाधीश (एनआईए) शैलेंद्र मलिक ने शनिवार को एजेंसी द्वारा की गई दलीलों को सुनने के बाद एनआईए को 10 दिन की और रिमांड अवधि दे दी। एनआईए ने शनिवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये लॉरेंस बिश्नोई को अदालत में पेश किया था। एनआईए ने लॉरेंस बिश्नोई के और रिमांड की मांग करते हुए अदालत में कहा कि पड़ोसी राज्य राजस्थान में अब भी कॉन्ट्रैक्ट किलिंग हो रही है। वहां गैंगस्टर राजू थेहट को सीकर जिले में उसके घर के गेट पर चार लोगों ने गोली मार दी।
 
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00