घर का इकलौता चिराग था गुरप्रीत... बनना चाहता था पीसीएस, हादसे ने किसी के सपने तोड़े तो किसी की रोजी का सहारा छीना

Punjab Bureau पंजाब ब्‍यूरो
Updated Sat, 16 Oct 2021 01:39 AM IST
Gurpreet was the only hope of the family, wanted to become PCS
विज्ञापन
ख़बर सुनें
पटियाला। पटियाला के निकटवर्ती गांव जगतपुरा में वीरवार को देर रात दो बजे हुए भीषण सड़क हादसे में पांच मौतों से किसी के सपने चकनाचूर हो गए तो किसी का रोजी-रोटी कमाने वाला एकमात्र सहारा छिन गया।
विज्ञापन

हादसे में मरने वाले पंजाबी यूनिवर्सिटी के एमटेक स्टूडेंट गुरप्रीत सिंह के पिता जगरूप सिंह ने बताया कि वह खेतीबाड़ी करते हैं, लेकिन बेटा शुरू से ही पढ़ाई में होशियार था। इसलिए एमटेक में दाखिला दिलाया। उन्होंने बताया कि गुरप्रीत उनका इकलौता लड़का था। वह पीसीएस बनना चाहता था। उनका अब यही सपना था कि बेटा पीसीएस बनकर पूरे परिवार व गांव का नाम रोशन करे। लेकिन वाहेगुरु को शायद कुछ और ही मंजूर था।

जगरूप सिंह ने बताया कि उनकी बेटी कनाडा में रहती है। जब से भाई की मौत का पता चला है, आंखों से आंसू नहीं थम रहे हैं। उधर, कर्मजोत सिंह भी अपने घर का इकलौता चिराग था। उसकी मौत से भी परिवार में मातम का माहौल है।
वहीं, हादसे में मरने वाले सोनू व निक्का अपने परिवारों के लिए रोजी-रोटी कमाने वाले एकमात्र सहारा थे। दोनों की मौत से परिवारों का गुजारा भी मुश्किल हो जाएगा। दोस्त अरुण ने बताया कि सोनू के परिवार में चार बेटे व पत्नी हैं। निक्का के परिवार में दो बेटे व पत्नी हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00