लोकप्रिय और ट्रेंडिंग टॉपिक्स

Hindi News ›   Rajasthan ›   jodhpur News ›   Rajasthan High Court Decision Says Child Born From Second Wife Is Entitled To Get Compassionate Job

Rajasthan: हाईकोर्ट का अहम फैसला, दूसरी पत्नी से पैदा संतान अनुकंपा नौकरी पाने की हकदार

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जोधपुर Published by: रोमा रागिनी Updated Mon, 21 Nov 2022 10:30 AM IST
सार

जस्टिस संदीप मेहता और जस्टिस कुलदीप माथुर की पीठ ने यह फैसला दिया। उन्होंने कहा कि मृतक के बच्चे को नाजायज और वैध में वर्गीकृत करके किसी व्यक्ति के साथ भेदभाव नहीं किया जा सकता है।

राजस्थान हाईकोर्ट
राजस्थान हाईकोर्ट - फोटो : सोशल मीडिया
विज्ञापन

विस्तार

राजस्थान हाईकोर्ट की जोधपुर बेंच ने अनुकंपा नियुक्ति को लेकर एक महत्वपूर्ण फैसला किया है। कोर्ट ने कहा कि मृतक कर्मचारी की दूसरी पत्नी से पैदा संतान अनुकंपा नौकरी पाने का हकदार है। यह फैसला जस्टिस संदीप मेहता और जस्टिस कुलदीप माथुर की पीठ ने दिया। 


पीठ ने अपने इस निष्कर्ष के लिए मुकेश कुमार बनाम भारत संघ 2022 के मामले में सुप्रीम कोर्ट के हालिया फैसले पर भरोसा किया। इसमें कोर्ट ने यह माना है कि अनुकंपा नियुक्ति नीति मृतक कर्मचारी के बच्चों को वैध और नाजायज के रूप में वर्गीकृत करके केवल वंश के आधार पर किसी व्यक्ति के खिलाफ भेदभाव नहीं कर सकती है। पीठ ने हेमेंद्र पुरी की ओर से ट्रायर एक इंट्रा कोर्ट अपील पर विचार करते हुए उक्त टिप्पणी की। 


सुप्रीम कोर्ट इस मामले में व्याख्या कर चुका है। अभिभावकों की शादी की वैधता को लेकर मृतक आश्रितों के बच्चे को अनुकंपा नियुक्ति देने के मामले में भेदभाव नहीं किया जा सकता है। उन्होंने आदेश दिया कि मृतक कर्मचारी की दूसरी पत्नी का बेटा अन्य सभी योग्यताएं पूर्ण करता है तो उसे तीन माह के भीतर नियुक्ति प्रदान की जाए।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

एड फ्री अनुभव के लिए अमर उजाला प्रीमियम सब्सक्राइब करें

Election
एप में पढ़ें
जानिए अपना दैनिक राशिफल बेहतर अनुभव के साथ सिर्फ अमर उजाला एप पर
अभी नहीं

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00