बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव
Myjyotish

बुध का तुला राशि गोचर, जानें क्या होगा आपके जीवन पर प्रभाव

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Digital Edition

सेहत में सुधार: अशोक गहलोत अस्पताल से हुए डिस्चार्ज, डॉक्टर्स ने कुछ दिन आराम करने की सलाह दी

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को आज अस्पताल से छुट्टी मिल गई। फिलहाल वह स्वस्थ्य महसूस कर रहे हैं। शुक्रवार को सीने में तेज दर्द होने के बाद अशोक गहलोत जयपुर के सवाई मानसिंह अस्पताल में भर्ती हुए थे। एंजियोप्लास्टी सर्जरी होने के बाद रविवार को उन्हें डिस्चार्ज किया गया। अशोक गहलोत की एंजियोप्लास्टी के बाद की सारी जांच रिपोर्ट सामान्य आई थी। एंजियोप्लास्टी के बाद गहलोत की सेहत में लगातार सुधार हो रहा है। डॉक्टर्स ने उन्हें कुछ दिन और आराम करने की सलाह दी है।

आज सुबह सवाई मानसिंह अस्पताल में स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा, मुख्यमंत्री के पुत्र और आरसीए अध्यक्ष वैभव गहलोत, मेडिक कॉलेज प्राचार्य डॉ सुधीर भंडारी, अस्पताल अधीक्षक डॉ राजेश शर्मा सहित मेडिकल बोर्ड के सदस्यों ने मुख्यमंत्री की जांच रिपोर्ट पर विस्तार से चर्चा की फिर डिस्चार्ज करने का फैसला लिया गया। पोती कास्वनी ने सीएम अशोक गहलोत को अस्पताल में तिलक लगाकर कलावा बांधा।
 
मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा और उनके वैभव गहलोत मोती डूंगरी गणेश जी मंदिर में पहुंचे। यहां मंदिर महंत कैलाश चंद शर्मा ने उन्हें पूजा-अर्चना करवाई।

डॉक्टर की सलाह नहीं मानने से बढ़ी परेशानी- गहलोत
एंजियोप्लास्टी होने के बाद मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि, मेरे कोविड होने से पूर्व मुझे हार्ट संबंधी कोई भी समस्या नहीं थी। डॉक्टरों के मुताबिक यह पोस्ट कोविड इफेक्ट है। मुझे कोविड से ठीक हुए तीन महीने से अधिक हो चुके हैं। कोरोना पॉजिटिव होते हुए भी मैं लगातार दिन-रात काम करता रहा , जबकि डॉक्टरों ने आराम करने की सलाह दी थी। डॉक्टरों की सलाह के मुताबिक ठीक तरह से आराम नहीं कर सका, इसी का नतीजा है कि मुझे इतने लंबे समय से पोस्ट कोविड समस्याएं हो रही हैं।
 
... और पढ़ें

भंड़ाफोड़: दो लाख लेकर शादी करवाती थी गिरोह की सरगना, दो दिन बाद ही दूल्हे को छोड़ कुंवारे की तलाश में जुट जाती

राजस्थान के चितौड़गढ़ में एक लड़की पैसों के लिए एक या दो शादियां नहीं बल्कि दर्जनों शादियां कर चुकी हैं, लेकिन इस बात की भनक उसकी मां को भी नहीं लगी। मां को ऐसा लगा कि उसकी बेटी को किसी ने बेच दिया। मां ने पीड़ित समझकर थाने में शिकायत दर्ज करवाई। पुलिस ने जब जांच शुरू की तो बेटी का असली चेहरा बेनकाब हो गया। बेटी पीड़ित नहीं आरोपी निकली। बल्कि फर्जी शादी करने वाली युवतियों के गिरोह का मास्टरमाइंड निकली। जो मोटी रकम ऐंठने के लिए अब तक कई शादियां कर चुकी थी और मौका पाकर दूल्हे को छोड़ भाग आती थी, फिर अपने गिरोह के साथ अगले कुंवारे लड़कों की तलाश में जुट जाती थी। 

मां ने महिलाओं के खिलाफ पुलिस में की थी शिकायत
दरअसल, लड़की की मां को पता चला कि बेटी दो महिलाओं के साथ घर से कहीं चली गई हैं। इस बार कई दिन तक नहीं आई तो उसने लौटने पर 20 अगस्त को बेटी नेहा से पूछा कि इतने दिनों तक कहां थी तो नेहा ने मां को बताया कि वह सीमा शेख के साथ गांव से चित्तौडगढ़ घूमने गई थी। उसके बाद सीमा शेख की सहेली सपना खटीक के यहां गई। जहां पर सीमा शेख, सपना खटीक, साबिर खान निवासी नीमच ने उसकी लड़की नेहा कश्यप का फर्जी आधार कार्ड बनाकर एमपी के जारड़ा निवासी जयराम के हाथों पैसे लेकर बेच दिया। लड़की की आपबीती पर उसकी मां ने पुलिस में महिलाओं के खिलाफ बेचने की शिकायत दर्ज करवा दी। इसके बाद पुलिस ने जांच शुरू कर दी।

गिरोह की सरगना निकली लड़की
पुलिस जांच में सामने आया कि नेहा ने जिनके खिलाफ जानकारी दी थी, वे सभी गिरोह के सदस्य हैं और नेहा खुद उस गिरोह की सरगना। जांच में पता चला कि सीमा शेख, सपना खटीक, साबिर खान का एक गिरोह है। यह गिरोह लोगों को झांसे में लेकर इसी लड़की से शादी करा देते हैं। चूंकि इस केस में रकम पहले ही ली जा चुकी होती है, इसलिए शादी के बाद यह लड़की एक-दो दिन में ही यहां से भाग निकलने की तैयारी कर लेती है।
... और पढ़ें

राजस्थान: मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के स्वास्थ्य में सुधार, सीने में दर्द के बाद हुए थे अस्पताल में भर्ती

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की तबीयत अचानक के बाद उन्हें जयपुर के सवाई मानसिंह (एसएमएस)अस्पताल में भर्ती कराया गया है। यहां जांच के बाद पता चला है कि उनके हृदय की एक धमनी में 90 फीसदी रुकावट थी। अस्पताल के अनुसार फिलहाल उनके स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है। 

एसएमएस मेडिकल कॉलेज की ओर से गहलोत के स्वास्थ्य के संबंध में बयान जारी किया गया है। इसमें बताया गया है कि मुख्यमंत्री गहलोत की मुख्य धमनियों में से एक (लेफ्ट एंटीरियर डिसेंडिंग आर्टरी या लैड) में 90 फीसदी रुकावट पाई गई थी। उनकी कोरोनरी एंजियोग्राफी, एंजियोप्लास्टी और स्टेंटिंग की गई है। यह प्रक्रिया कठिन थी लेकिन अब उनके स्वास्थ्य में सुधार हो रहा है। 
 

इससे पहले गहलोत ने खुद ट्वीट कर यह जानकारी दी थी कि सीने में तेज दर्द के बाद वह अस्पताल में भर्ती हुए हैं। उन्होंने ट्वीट में लिखा, 'कल से पोस्ट कोविड इफेक्ट की वजह से मेरी तबीयत खराब है। सीने में तेज दर्द हो रहा है। एसएमएस अस्पताल में सीटी एनजीओ करवाया है। एंजियोप्लास्टी की जाएगी। मुझे खुशी है कि मेरा इलाज एसएमएस हॉस्पिटल में हो रहा है। मैं ठीक हूं और जल्द ही वापस आऊंगा। आप सभी की दुआएं और आशीर्वाद मेरे साथ है।
 
अशोक गहलोत इस वक्त अस्पताल में हैं। सवाई मान सिंह अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है। वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तम स्वास्थ्य और जल्द स्वस्थ होने की कामना की है। 
 

 
... और पढ़ें

राजस्थान: जयपुर में पिता ने बेटी के स्कूल वाले व्हाट्सएप ग्रुप में भेजे अश्लील फोटो और वीडियो, गिरफ्तार

राजस्थान की राजधानी जयपुर में एक शर्मनाक घटना सामने आई है। ऑनलाइन क्लास के दौरान एक बच्ची के पिता ने स्कूल के व्हाट्सएप ग्रुप पर कई अश्लील वीडियो भेज दिए। इसके बाद तो हड़कंप मच गया। ग्रुप एडमिन ने पहले सभी वीडियोज को डिलीट किया और स्कूल प्रशासन को इसकी जानकारी दी। स्कूल प्रशासन ने आरोपी के खिलाफ केस दर्ज करवाया। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।एक पिता ने कथित रूप से गलती से बेटी के स्कूल के व्हाट्सएप ग्रुप में एक नहीं पूरे 10 अश्लील वीडियो डाल दिए। ऑनलाइन क्लास के दौरान ग्रुप में आए ये अश्लील वीडियो देखकर हर कोई चौंक गया। स्कूल प्रशासन भी वीडियोज देख हैरान रह गया।  


आरोपी के खिलाफ पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है।  जयपुर के मुहाना इलाके में कल्याणपुर के सरकारी स्कूल में ऑनलाइन पढ़ाई के दौरान स्कूल के व्हाटएप ग्रुप में बच्चों के मोबाइल पर एक साथ 10 अश्लील वीडियो आ गए। यह देख सभी हैरान हो गए। जानकारी मिलते ही प्रिंसिपल राम प्रसाद चावला ने मुहाना थाने में पॉक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज करवाया। पुलिस ने आरोपी पिता साबिर अली को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया जहां कोर्ट ने पुलिस हिरासत में भेज दिया है।

गलती से वीडियो सेंड होने का दावा
वहीं, आरोपी का कहना है कि उसके मोबाइल में इस तरह के वीडियो या फोटो नहीं रहते हैं, किसी ने जानबुझकर उन्हें भेजा और वह देखे बगैर उस वीडियो को अन्य ग्रुपों में डालना शुरू कर दिया। इसी दौरान बेटी की ऑनलाइन क्लास वाले ग्रुप में भी वीडियो सेंड हो गया। आरोपी गलती से वीडियो सेंड होने की बात कह रहा है। वहीं, पुलिस आरोपी से पूछताछ कर रही है। 

 
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

राजस्थान :  आरएसएस प्रमुख भागवत ने संघ के स्वयं सेवकों द्वारा प्रशासन में हस्तक्षेप के आरोपों को किया खारिज 

आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने रविवार को संघ के स्वयं सेवकों द्वारा प्रशासन में हस्तक्षेप करने के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि राजनीतिक नेताओं से मिलना या उनके साथ विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करना सत्ता में भागीदारी के समान नहीं है। भागवत ने कहा कि यह आरोप मीडिया की देन है।

उदयपुर में प्रबुद्ध लोगों से बातचीत के दौरान भागवत ने कहा, 'सत्ता में संघ की भागीदारी गुमराह करने वाली बात है और यह मीडिया की देन है।' उन्होंने कहा कि अगर आरएसएस के स्वयंसेवक विभिन्न मुद्दों पर चर्चा करने के लिए राजनीतिक नेताओं से मिलते हैं, तो इसे सत्ता में भागीदारी के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए।

संघ द्वारा जारी विज्ञप्ति में भागवत ने कहा है कि कम्युनिस्टों सहित अन्य सरकारें भी कई कार्यों में संघ के स्वयंसेवकों का सहयोग लेती रही हैं। भागवत ने एक बुद्धिजीवियों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए और उनके प्रश्नों का उत्तर देते हुए यह बाद कही।

जहां भी हिंदू आबादी घटी वहां समस्याएं खड़ी हुईं
भागवत ने कहा कि संघ स्वयं सेवक लोगों के चरित्र निर्माण के माध्यम से राष्ट्र निर्माण के उद्देश्य से काम करते हैं। संघ के संस्थापक केबी हेडगेवार का जिक्र करते हुए भागवत ने कहा कि वह कहते थे कि हिंदू समाज का संगठन देश की सभी समस्याओं का समाधान कर सकता है।

उन्होंने कहा, 'हिंदू विचारधारा शांति और सच्चाई की है। देश और समाज को कमजोर करने के मकसद से ऐसा अभियान चलाया जा रहा है कि हम हिंदू नहीं हैं। उन्होंने कहा कि जहां हिंदू आबादी कम हुई है, वहां समस्याएं पैदा हुईं।'

संघ का उद्देश्य हिंदू समाज को संगठित करना 
पश्चिम बंगाल और केरल में स्वयंसेवकों पर अत्याचार के प्रश्न पर भागवत ने कहा कि जिस परिस्थिति से समाज गुजर रहा है, उसी स्थिति से स्वयंसेवक भी गुजर रहे हैं। हालांकि वह भयभीत  होकर भागते नहीं हैं। उन्होंने कहा कि संघ का उद्देश्य पूरे हिंदू समाज को संगठित करना है।

आरएसएस प्रमुख ने कहा कि कोविड-19 महामारी के दौरान संघ के स्वयंसेवकों की निस्वार्थ सेवा हिंदुत्व का एक उदाहरण है। उन्होंने कहा कि संघ किसी प्रशंसा या नाम के लिए लालायित नहीं है, 80 के दशक तक 'हिंदू' शब्द को सार्वजनिक रूप से टाला जाता था और संघ ने ऐसी प्रतिकूल परिस्थितियों में काम किया।
... और पढ़ें

यह कैसा नियम: गहलोत सरकार ने बाल विवाह को भी दी मंजूरी? एक महीने में पंजीकरण के आदेश, विरोध शुरू

राजस्थान विधानसभा में शुक्रवार को विपक्ष के कड़े विरोध के बीच राजस्थान विवाहों का अनिवार्य रजिस्ट्रीकरण (संशोधन) विधेयक 2021 को ध्वनिमत से पारित कर दिया गया। इस विधेयक के पारित होने से अब राज्य में बाल विवाह के पंजीकरण की भी अनुमति मिल जाएगी। विधेयक में कहा गया है कि अगर शादी के समय लड़के की उम्र 21 साल से कम और लड़की की उम्र 18 साल से कम है, तो माता-पिता या अभिभावकों को 30 दिनों के भीतर इसकी जानकारी देनी होगी और पंजीकरण अधिकारी के पास रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इस विधेयक के पास होने पर भाजपा ने नाराजगी जताई है। 

संसद की कार्यवाही के दौरान विधानसभा में मुख्य विपक्ष दल भाजपा ने सवाल उठाते हुए पूछा, "पंजीकरण की क्या आवश्यकता है और बिल का उद्देश्य क्या है। भाजपा विधायक अशोक लाहोटी ने सवाल उठाते हुए कहा कि क्या विधानसभा हमें सर्वसम्मति से बाल विवाह की अनुमति देती है? यह विधेयक विधानसभा के इतिहास में काला अध्याय लिखेगा ।

भाजपा ने बिल पर उठाए सवाल
वहीं, विधानसभा में विपक्ष के नेता गुलाब चंद कटारिया ने कहा कि कांग्रेस की ओर से पारित किया गया यह संशोधन विधेयक हिंदू मैरिज एक्ट के खिलाफ है। हिंदुओं में नाबालिग की शादी गैरकानूनी है, लेकिन कांग्रेस इस बात को समझने के लिए तैयार नहीं है।


बाल विवाह करने वाले जोड़ों को पंजीकरण कराने का आदेश
इसपर राज्य के संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि इस विधेयक का मकसद हर विवाहित (चाहे बाल विवाह ही क्यों नहीं हो) को पंजीयन कराना होगा। उन्होंने कहा कि संशोधन कही नहीं कहता कि ऐसे विवाह वैध होंगे। कलेक्टर या डीएम चाहे तो उनपर कार्रवाई कर सकते हैं। यह विधेयक केंद्रीय कानून का विरोधाभास नहीं है। विवाह प्रमाण पत्र एक कानूनी दस्तावेज है, जिसके अभाव में विधवा को किसी भी सरकारी योजना का लाभ नहीं मिल पाता है। 
शनिवार को पास हुए चार विधेयक
वहीं, राजस्थान विधानसभा ने शनिवार को आपराधिक कानून (राजस्थान संशोधन) विधेयक-2021 समेत चार विधेयक ध्वनिमत से पारित कर दिए। संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल ने सदन को बताया कि आपराधिक कानून (राजस्थान संशोधन) विधेयक में खाद्य पदार्थों में मिलावट के लिए सजा बढ़ाने का प्रावधान है। वहीं, पंचायती राज (संशोधन) विधेयक-2021 में 'ग्राम सेवक' का पद बदलकर ग्राम विकास अधिकारी कर दिया गया है। धारीवाल ने सदन को बताया कि अधिनियम में वर्णित 'ग्राम सेविका' का पद पंचायती राज संस्थाओं में नहीं है। इसलिए संशोधन विधेयक में इस प्रावधान को भी हटा दिया गया। उन्होंने कहा कि ग्राम विकास अधिकारी की भर्ती में महिलाओं के लिए आरक्षण रहेगा। 

इसके अलावा सदन ने राजस्थान भू-राजस्व (संशोधन) विधेयक-2021 और राजस्थान कृषि विश्वविद्यालय कानून (संशोधन) विधेयक-2020 को ध्वनिमत से पारित कर दिया। बिल पास होने के बाद स्पीकर ने शाम करीब 6.25 बजे सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दी। इससे पहले बुधवार को विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने सदन में लगातार हो रहे हंगामे और संसदीय कार्य मंत्री शांति धारीवाल से टकराव के चलते अचानक से सदन को अनिश्चितकाल के लिए स्थगित कर दिया था।  हालांकि, उन्होंने शुक्रवार से सत्र को वापस बुला लिया और गुरुवार को अधिसूचना जारी कर दी गई।
... और पढ़ें

हैरानी: जलकुंभी में 32 घंटे फंसा रहा बुजुर्ग, अंतिम संस्कार की तैयारी थी शुरू, लेकिन बाहर आते ही खोल दीं आंखें

राजस्थान के बांसवाड़ा में एक अधेड़ जलकुंभी में ऐसा फंसा कि वह 32 घंटे तक पानी में ही रह गया। यहां सिविल डिफेंस की टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद बुजुर्ग को जिंदा बाहर निकाला। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, काली मिट्टी वाले दलदल में अधेड़ जलकुंभी से बुरी तरह उलझा हुआ था। जलकुंभी के बीच वह गर्दन तक पानी में डूबा हुआ था। घटना के बाद अधेड़ को हार्ट अटैक भी आया। उसका महात्मा गांधी राजकीय चिकित्सालय में इलाज चल रहा है। सदर थाना प्रभारी पूनाराम गुर्जर ने बताया कि खांडा डेरा निवासी नानू मंगलवार सुबह 6 बजे घर से मछली पकड़ने के लिए निकला था। जो गलती से गहरे दलदली हिस्से में जलकुंभी के बीच फंस गया था। सिविल डिफेंस की मदद से आदिवासी नानू को बाहर निकाला गया। 


गमछे और चप्पलों से  हुई पहचान
मंगलवार सुबह घर से निकला नानू रात तक घर नहीं लौटा। परिजनों ने रात को आसापस में ढूंढा लेकिन कोई पता नहीं चला, पिरजनों ने नजदीकी रिश्तेदारों के यहां भी पता किया। कोई संपर्क नहीं हुआ तो दूसरे दिन सुबह जल्दी तलाश की। बुधवार सुबह करीब 8 बजे परिजन ने बेक वाटर के करीब उसका गमछा और चप्पलें देखी। इससे उन्हें नानू के आस-पास ही होने का अंदेशा हुआ। कई घंटों की तलाश के बाद दलदल के बीच नानू की हलचल दिखी तो घरवालों ने उसे आवाज दी। उसने घरवालों की आवाज सुनकर एक-दो बार पानी से बाहर हाथ निकालने की कोशिश भी की। बाद में पुलिस के माध्यम से पहुंची सिविल डिफेंस की टीम ने तीन घंटे की मशक्कत के बाद जलकुंभी के दलदल के बीच से नानू को निकाल लिया।


कड़ी मशक्कत के बाद नानू बाहर निकला
परिवार वालों ने मान लिया था कि नानू की मौत हो चुकी है। सभी इधर उधर नानू को ढूंढे लेकिन नानू कही नहीं मिले। परिवार के कुछ लोगों ने तो अंतिम संस्कार की तैयारी भी शुरू कर दी थी, लेकिन इसी वक्त खबर आई कि नानू पास के तालाब में जलकुंभी में फंसा है। पुलिस और बचाव दल ने कड़ी मशक्कत के बाद नानू को वहां से बाहर निकाला। पानी से बाहर निकलते ही नानू को दिल का दौरा पड़ गया। अस्पताल में भर्ती कराया गया , जहां करीब 9 घंटे तक नानू को होश नहीं आया। 
... और पढ़ें

कार्रवाई: जयपुर में NEET का पेपर हुआ लीक, 35 लाख रुपये में हुआ था करार, कॉलेज प्रशासक ने खुद ही भेजा था प्रश्नपत्र

जलकुंभी में फंसा रहा बुजुर्ग
राजस्थान में नेशनल एलिजिबिलिटी एंट्रेंस टेस्ट (NEET) की परीक्षा पेपर सेंटर से लीक होने के मामले में पुलिस ने एक युवती समेत आठ लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस आरोपियों से मुख्य सरगना का पता लगा रही है। दरअसल, बीते दिनों जयपुर में NEET की परीक्षा का पेपर 35 लाख रुपए में सॉल्व करने का सौदा हुआ था। परीक्षार्थी ने पेपर की कॉपी मोबाइल से फोटो खींच कर सीकर में दो युवकों को भेज दिया। पेपर लीक की खबर आग की तरह फैल गई। आनन फानन ने  जयपुर पुलिस ने राजस्थान इंस्टीटयूट ऑफ इंजीनियरिंग एवं टेक्नोलॉजी में परीक्षा सेंटर से एक परीक्षार्थी समेत आठ लोगों को धर दबोचा। परीक्षार्थियों के परिजन बाहर गाड़ियों में 10 लाख रुपये लेकर बैठे थे। 


पुलिस ने सीकर के मुकेश कुमार, राम सिंह, धनेश्वरी यादव, सुनील यादव, नवरत्न स्वामी, अनिल यादव , संदीप और पकंज यादव को गिरफ्तार किया है। पुलिस इन आरोपियों से पूछताछ कर रही है। पुलिस को उम्मीद है इन आरोपियों के जरिए मुख्य सरगना तक पहुंचा जा सकता है। बताया जा रहा है कि कॉलेज प्रशासक खुद ही पेपर लीक कराने के लिए युवती के प्रश्नपत्र की कॉपी मुन्नाभाई को भेजा था। 
... और पढ़ें

राजस्थान : अश्लील वीडियो मामले में बड़ा खुलासा, पांच साल से चल रहा था डीएसपी और महिला कांस्टेबल के बीच अफेयर

राजस्थान पुलिस का घिनौना वीडियो सामने आने के बाद निलंबित महिला कांस्टेबल को भी गिरफ्तार कर लिया गया है। स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने रविवार को महिला कांस्टेबल को कलवार इलाके में उसके चाचा के आवास से पकड़ा है। उसे पॉक्सो अधिनियम की विभिन्न धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया और उससे पूछताछ की जा रही है। इससे पहले गिरफ्तार डीएसपी को कोर्ट ने 17 सितंबर तक पुलिस हिरासत में भेज दिया है। पुलिस हीरालाल सैनी से पूछताछ कर रही है। पुलिस पूछताछ में खुलासा हुआ है कि दोनों के बीच पिछले पांच साल से अफेयर चल रहा था। दोनों 2016 में अजमेर में मिले थे, तब से दोनों के बीच संबंध हैं। पांच साल के दौरान कई दफा दोनों ने अवैध संबंध बनाए। 

पुष्कर के फाइव स्टार होटल के रिजॉट के स्विमिंग पूल में बच्चे के सामने निलंबित डीएसपी हीरालाल सैनी और महिला कांस्टेबल  ने अश्लील हरकत की थी। उसके बाद महिला ने 27 जुलाई को अपने व्हाट्सएप पर इस वीडियो को शेयर कर दिया, जिसके बाद वीडियो तेजी से वायरल होने लगा। इसकी जानकारी महिला के पति और परिवारवालों को भी हो गई। महिला पुलिसकर्मी के पति ने चितवा थाने में शिकायत दर्ज की, लेकिन चितवा थाना प्रभारी ने महकमे से जुड़ा मामला होने की वजह से इसे दबा दिया। उसके बाद महिला के पति ने नागौर एसपी से लिखित शिकायत की। मामला इतना बढ़ गया कि डीजीपी खुद ही कार्रवाई करते हुए  चार पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया। 

... और पढ़ें

कार्रवाई: राजस्थान एसीबी ने दो आईएएस को पांच लाख रुपये की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया, दो वरिष्ठ अफसरों के मोबाइल भी जब्त

राजस्थान के भष्ट्राचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) ने राज्य कौशल विकास निगम (आरएसएलडीसी) के दो अधिकारियों को पांच लाख रुपए की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है। एंटी करप्शन ब्यूरो की तीन टीम ने शनिवार को एक साथ जयपुर और जोधपुर में दबिश दी। एसीबी ने इस मामले में दो अन्य आईएएस अधिकारियों के मोबाइल फोन भी जब्त किए हैं। एसीबी ने जिन अधिकारियों को गिरफ्तार किया है, उनमें RSLDC के मैनेजर राहुल कुमार गर्ग और कॉर्डिनेटर अशोक सांगवान है। दोनों आईएएस अधिकारियों को पांच लाख रुपये की रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया है। दोनों अधिकारियों ने यह रिश्वत डेढ़ करोड़ रुपये के बिल पास कराने, ब्लैक लिस्ट से नाम हटाने, बैंक गारंटी समेत अन्य काम कराने के लिए ली थी। 

दो आईएस अधिकारियों के मोबाइल जब्त
एसीबी की दूसरी टीम ने इस मामले में आरएसएलडीसी के चैयरमेन आईएएस नीरज के पवन और आरएसएलडीसी के मुख्य प्रबंधक आईएएस प्रदीप कुमार गवडे के मोबाइल जांच के लिए अपने कब्जे में लिए हैं। इनकी भूमिका की गहन जांच की जा रही हैं।
... और पढ़ें

राजस्थान: अश्लील वीडियो मामले में निलंबित डीएसपी के बाद अब कांस्टेबल भी गिरफ्तार, दोनों रिमांड पर

राजस्थान के अजमेर जिला के ब्यावर के निलंबित डीएसपी हीरालाल सैनी को गिरफ्तार कर लिया गया है। बीते गुरुवार को उदयपुर में एसओजी की टीम ने डीएसपी को गिरफ्तार किया है। दो दिन पहले महिला कॉन्स्टेबल के साथ उनका एक अश्लील वीडियो वायरल हुआ था। उसके बाद 9 सितंबर को एक और वीडियो लीक हो गया। वीडियो वायरल होने के बाद अचानक वह सुर्खियों में आ गए। उसके बाद ही डीएसपी के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया था। डीएसपी के उदयपुर में होने की जानकारी पर  चाइल्ड पोर्नोग्राफी रोकने वाली (एसओजी) टीम ने उदयपुर के अनंता रिसॉर्ट से उन्हें शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया था। रविवार को महिला कांस्टेबल को भी गिरफ्तार कर लिया गया। 

राजस्थान पुलिस के स्पेशल आपरेशन ग्रुप ने रविवार को इस मामले में लिप्त महिला कांस्टेबल को भी गिरफ्तार कर लिया। कांस्टेबल को कोर्ट ने 17 सितंबर तक पुलिस हिरासत में सौंप दिया। आरोपी डीएसपी हीरालाल सैनी को पहले ही 17 सितंबर तक हिरासत में सौंपा जा चुका है। अश्लील वीडियो पुष्कर के एक रिसॉर्ट में कांस्टेबल के मोबाइल फोन में रिकॉर्ड किए गए थे। 

वायरल वीडियो में 6 साल का बच्चा भी आ रहा नजर
हीरालाल सैनी को गिरफ्तार करने के बाद सबसे पहले प्रारंभिक पूछताछ के लिए उदयपुर के अंबामाता थाने में लाया गया। हालांकि, यहां पर कागजी कार्रवाई के बाद एसओजी की टीम आरोपी डीएसपी को लेकर जयपुर पहुंची। नए वायरल वीडियो में एक 6 वर्षीय बच्चा भी नजर आ रहा था, ऐसे में इस पूरे मामले की जांच एसओजी की चाइल्ड पॉर्नोग्राफी टीम द्वारा की जा रही थी और डीएसपी को भी इसी टीम द्वारा गिरफ्तार करने की जानकारी मिल रही है। बता दें कि इससे पहले भी डीएसपी हीरालाल का एक वीडियो पहले भी वायरल हो चुका है, जिसमें वह स्वीमिंग पूल में महिला कॉन्स्टेबल के साथ रंगरलियां करते हुए दिख रहे हैं। 



कई और मामले में हो सकता है खुलासा
इससे पहले महिला कॉन्स्टेबल के पति द्वारा दर्ज कराई गई रिपोर्ट को गंभीरता से नहीं लिया गया था, जिसपर अब थानाधिकारी पर भी कार्रवाई की गई है। साथ ही थाना प्रभारी को भी लाइन हाजिर करने का निर्देश जारी किया गया है। अब मामले की उच्च स्तरीय जांच शुरू कर दी गई है। डीएसपी की गिरफ्तारी को एक बड़ी कार्रवाई के रूप में देखा जा रहा है। माना जा रहा है कि इस केस में कुछ और लोगों की भी गिरफ्तारी की जा सकती है।
... और पढ़ें

कांग्रेस में कलह: अशोक गहलोत और पायलट गुट के बीच बढ़ी तल्खियां,पीसीसी अध्यक्ष ने सचिन पायलट पर साधा निशाना

राजस्थान कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष और शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा अपने वायरल वीडियो को लेकर सुर्खियों में हैं. इस बार उनका जो वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है, उसमें वह सचिन पायलट पर तंज कस रहे हैं।  डोटासरा ने शादी वालों की बात करते-करते पायलट के जन्मदिन में उमड़ती भीड़ पर टिप्पणी कर दी। बता दें कि आजकल पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट के जन्मदिन मनाने के कार्यक्रम चल रहे है। इनमें उनके समर्थकों की भीड़ आ रही है हालांकि, कोरोना गाइडलाइन के तहत गहलोत सरकार ने भीड़भाड़ वाले सभी राजनीतिक, धार्मिक आयोजनों पर रोक लगा रखी है।माना जा रहा है कि उन्होंने पायलट गुट पर परोक्ष रूप से निशाना साधा । 

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है, उसमें वह मोबाइल पर किसी अधिकारी से बात कर रहे हैं। वायरल वीडियो में दावा किया जा रहा है कि डोटासरा शादी-विवाह समारोहों में छूट देने के लिए शायद किसी परिचित के लिए सिफारिश कर रहे हैं। बातचीत में वह कह रहे हैं कि आजकल बड़े-बड़े जन्मदिन मन रहे हैं, जन्मदिन के नाम पर भीड़ उमड़ रही है तो शादी वालों को क्यों मारें। शादी-ब्याह में तो थोड़ी बहुत भीड़ स्वाभाविक है। 

कांग्रेस में पक्ष में आए थे उपचुनाव के नतीजे
दरअसल, राजस्थान पंचायत चुनाव के नतीजे कांग्रेस के पक्ष में आए हैं, लेकिन गहलोत-पायलट के बीच चल रही सियासी जंग से पार्टी के भीतर और बाहर कलह बढ़ रही है। छह जिलों के उपचुनाव के नतीजे से मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने एक साथ दो निशाने साधे। एक तो पार्टी आलाकमान का ये संदेश कि गहलोत-डोटासरा की जोड़ी जीत के लिए मजबूत है। यहां तक बिना सचिन पायलट के भी चुनाव जीत सकते हैं। इस जोड़ी से छेड़छाड़ न की जाए ।

साथ ही गहलोत पार्टी नेतृत्व को यह भी समझाने की कोशिश कर रहे हैं कि हाल ही में प्रदेश  में वल्ल्भनगर व धरियावाद दो सीटों पर उपचुनाव होने है। अभी अगर बदलाव न किया जाए तो जीत का सिलसिला बरकरार रहेगा, लेकिन इसे बदला गया तो कांग्रेस पर भाजपा भारी भी पड़ सकती है। लिहाजा गहलोत नहीं चाहते हैं कि सचिन पायलट प्रदेश कांग्रेस में अहम भूमिका अदा करें। 
... और पढ़ें

घर वापसी: 2019 में हुई थी शादी, लेकिन पाकिस्तान से अब भारत आ पाई दुल्हन, जानें पूरा मामला

राजस्थान के जैसलमेर जिले के बईया गांव के विक्रम सिंह की दुल्हन ढाई साल बाद पाकिस्तान से भारत लौट गई। 2019 में विक्रम सिंह की शादी पाकिस्तान के सिंध इलाके में निर्मला कंवर से हुई थी, लेकिन पुलवामा हमला और बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद दोनों देशों के रिश्तों में खटास आ गई थी, जिससे वीजा नहीं मिलने के कारण दुल्हन भारत नहीं आ पाई थी। शुक्रवार को अटॉरी बॉर्डर से विक्रम सिंह की पत्नी निर्मला कंवर भारत के बाडमेर पहुंच गई। हालांकि, विक्रम सिंह के अलावा नेपाल सिंह और महेंद्र सिंह की भी शादी पाकिस्तान में हुई थीं, लेकिन दोनों की दुल्हनें मार्च में भारत लौट गई थी। 

दरअसल, जनवरी 2019 में बईया निवासी विक्रम सिंह व नेपाल सिंह की बारात थार एक्सप्रेस से सिंध इलाके पाकिस्तान गई थी। शादी के बाद पुलवामा अटैक व बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद दोनों मुल्कों के रिश्तों दरारें आ गई। इसके बाद दोनों देशों के बीच ट्रेन, बस और हवाई सेवाएं बंद हो गई थी। इसी बीच कोरोना महामारी ने भी दस्तक दे दी थी। दोनों दूल्हे अप्रैल तक पाकिस्तान में ही थे और फिर भारत लौट आए। इस दौरान वीजा की दिक्कतों के कारण दोनों दुल्हनें उनके साथ नहीं आ सकी थीं। विक्रम सिंह के भारत आने के बाद उसकी पत्नी ने बेटे राजवीर सिंह को पाकिस्तान में ही जन्म दिया था।

केंद्रीय मंत्री की पहल से भारत लौटी दुल्हनें
केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी की पहल पर 9 मार्च को बईया निवासी नेपाल सिंह की पत्नी और गिराब निवासी महेंद्र सिंह की पत्नी अटॉरी सीमा से भारत आए थे। उस समय निर्मला कंवर के पासपोर्ट में तकनीकी खामियां होने की वजह से भारत आने की अनुमति नहीं मिल पाई थी। विक्रम सिंह और निर्मला कंवर का बेटा राजवीर सिंह निर्मला कंवर की बहन के साथ भारत लौट गया था।


2019 में तीन बारात गई थी पाकिस्तान
 राजस्थान से पहले भी पाकिस्तान में संबंध होते रहे हैं। भारत -पाकिस्तान के बीच बारात आती जाती रही है। जनवरी 2019 में बाड़मेर गिराब निवासी महेंद्र सिंह की बारात और जैसलमेर बईया निवासी दो भाइयों विक्रम सिंह और नेपाल सिंह की बारात थार एक्सप्रेस से पाकिस्तान के सिंध इलाके में गई थी। तीनों की पाकिस्तान में शादी भी हो गई। तीनों दूल्हे करीब 3-4 माह पाकिस्तान में रुके थे। दोनों देश के रिश्ते में दरार के चलते दुल्हनों को वीजा नहीं मिला था और बारात बिना दुल्हन के वापस लौटी थी।
... और पढ़ें
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X